'प्रजा वेदिका' के बाद अब चंद्रबाबू नायडू के कृष्‍णा नदी के किनारे बने घर को ढहाएगा APCRDA

'प्रजा वेदिका' के बाद अब चंद्रबाबू नायडू के कृष्‍णा नदी के किनारे बने घर को ढहाएगा APCRDA
चंद्रबाबू नायडू के 'ड्रीम होम' प्रजा वेदिका के बाद आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (APCRDA) कृष्‍णा नदी के किनारे बने उनके घर को ढहाने की तैयारी में है.

आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (APCRDA) के अधिकारियों ने सोमवार सुबह गुंटूर (Guntur) के उंदावल्‍ली गांव में कृष्‍णा नदी के किनारे बने सभी अवैध निर्माण (Illegal Structures) ढहाने (Demolish) शुरू कर दिए. प्राधिकरण ने पिछले हफ्ते चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) के किराए के मकान के साथ ही तीन अन्‍य अवैध निर्माण पर अंतिम नोटिस चस्‍पा कर दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2019, 2:38 PM IST
  • Share this:
अमरावती. आंध्र प्रदेश (Andra Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलगु देशम पार्टी (TDP) के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) की मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. नायडू के 'ड्रीम होम' प्रजा वेदिका के बाद आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (APCRDA) कृष्‍णा नदी के किनारे बने उनके किराए के घर को ढहाने की तैयारी में है. अधिकारियों ने सोमवार को गुंटूर जिले के उंदावल्‍ली गांव में कृष्‍णा नदी के किनारे बने सभी अवैध निर्माण ढहाने शुरू कर दिए हैं. प्राधिकरण ने पिछले हफ्ते किराए के मकान के साथ ही तीन अन्‍य अवैध निर्माण खाली करने का अंतिम नोटिस जारी कर दिया था.

घर पर चस्‍पा नोटिस में भवन को अवैध निर्माण बताया गया
आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (APCRDA) ने नायडू के किराये के घर पर आंध्र प्रदेश रिवर कंजर्वेशन एक्‍ट, 1884 के उल्‍लंघन के मामले में खाली करने का नोटिस चस्‍पा कर दिया था. अथॉरिटी ने नोटिस में कहा कि यह भवन अवैध निर्माण है. इसलिए इसे एक हफ्ते के अंदर खाली किया जाए. एक अधिकारी ने बताया कि आदेश का पालन नहीं करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. साथ ही अवैध घर को ध्वस्त कर दिया जाएगा. अथॉरिटी का कहना है कि भवन में ग्राउंड फ्लोर, फर्स्ट फ्लोर, स्वीमिंग पूल और ड्रेसिंग रूम का निर्माण बिना इजाजत किया गया है.

आज सुबह शुरू कर दिया गया अवैध निर्माण ढहाने का काम



नायडू के किराये का यह मकान उद्यमी लिंगमनेनी रमेश के नाम पर है. अथॉरिटी ने उन्‍हें निर्माण हटाने के लिए एक सप्‍ताह का समय दिया है. साथ ही कहा गया है कि अगर वह खुद निर्माण नहीं हटाते है तो प्राधिकरण उसे ध्‍वस्‍त कर देगा. कृष्‍णा नदी के किनारे बने सभी अवैध निर्माणों पर भी ऐसे ही नोटिस चस्‍पा किए गए थे. प्राधिकरण के अधिकारियों ने सोमवार सुबह इन सभी निर्माणों को ढहाने का काम शुरू कर दिया. इन सभी को ध्‍वस्‍त करने के बाद नायडू के घर को भी ढहा दिया जाएगा.



प्रजा वेदिका को ढहाने के समय परिवार संग छुट्टी पर थे नायडू
बता दें कि इससे पहले आंध्र प्रदेश के नए मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी (YS Jagan Mohan Reddy) के आदेश के बाद प्रशासन ने पूर्व सीएम एन. चंद्रबाबू नायडू की 'प्रजा वेदिका' बिल्डिंग को तोड़ दिया था. तोड़फोड़ का काम शुरू होने के वक्त नायडू परिवार के साथ लंबी छुट्टी पर थे. नायडू के इस बंगले की कीमत करीब 8 करोड़ रुपये बताई जा रही है. जगनमोहन ने बीते मंगलवार को अपने पूर्ववर्ती और नेता प्रतिपक्ष एन. चंद्रबाबू नायडू पर आरोप लगाया कि वह कृष्णा नदी के किनारे गैर-कानूनी घर में रह रहे हैं. उन्होंने नायडू के आवास से सटे ‘प्रजा वेदिका’ में जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक की थी. इसके बाद उन्होंने घोषणा की थी कि नदी के तट पर अवैध संरचनाओं को ढहाने की शुरुआत ‘प्रजा वेदिका’से होगी.

नायडू ने भवन को लेकर जगनमोहन रेड्डी को लिखा था पत्र
बता दें कि 'प्रजा वेदिका’ का निर्माण पिछली तेलुगू देशम पार्टी (TDP) सरकार द्वारा एन. चंद्रबाबू नायडू के आधिकारिक निवास के बगल में किया गया था. इसका उपयोग सरकार और पार्टी गतिविधियों दोनों के लिए किया जा रहा था. हाल में लोकसभा (Lok Sabha) और विधानसभा (Assembly) चुनावों में मिली करारी हार के बाद, नायडू ने 5 जून को मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी को पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने अनुरोध किया था कि वह पूर्व आधिकारिक निवास के विस्तार के रूप में विचार करके भवन का उपयोग करने की अनुमति दें. नायडू ने कहा कि वह अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और लोगों से मिलने के लिए भवन का उपयोग करना चाहेंगे.

ये भी पढ़ें:

बालाकोट में जैश का कैंप फिर एक्टिव, घुसपैठ की तैयारी में 500 आतंकी-सेना प्रमुख

कर्नाटक के 17 अयोग्‍य विधायकों के उपचुनाव लड़ने पर विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading