आंध्र प्रदेश सरकार ने 10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षाएं रद्द की

आंध्र प्रदेश में 10वीं और 12वीं की परीक्षा को किया गया रद्द. ( प्रतीकात्‍मक चित्र )

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) सरकार ने राज्य में कक्षा 10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षाएं रद्द कर दी है. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) की ओर से इस मामले का संज्ञान लिए जाने के बाद आंध्र सरकार ने परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लिया है. इससे लाखों विद्यार्थियों को राहत मिली है. इससे पहले, कोविड-19 की भयावह स्थिति, विपक्षी दलों और अभिभावकों के विरोध के बावजूद राज्य सरकार परीक्षाएं आयोजित करने पर अड़ी हुई थी.

  • Share this:
    अमरावती (आंध्र). आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) सरकार ने बृहस्पतिवार को राज्य में कक्षा 10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षाएं रद्द करने की घोषणा कर दी. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) की ओर से इस मामले का संज्ञान लिए जाने के बाद आंध्र सरकार ने परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लिया है. इससे लाखों विद्यार्थियों को राहत मिली है.

    आंध्र प्रदेश के शिक्षा मंत्री ए सुरेश ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार ने परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है क्योंकि अंकों के मूल्यांकन संबंधी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्धारित 31 जुलाई की समय सीमा का पालन करना
    मुश्किल था. उन्होंने कहा कि 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले अंकों के आकलन के लिए एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति का गठन किया जाएगा.

    ये भी पढ़ें :  वाराणसी में पिछले 24 दिन में 42 बच्चे मिले कोरोना संक्रमित, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

    इससे पहले, कोविड-19 की भयावह स्थिति, विपक्षी दलों और अभिभावकों के विरोध के बावजूद राज्य सरकार परीक्षाएं आयोजित करने पर अड़ी हुई थी. लेकिन शीर्ष अदालत के हस्तक्षेप के बाद मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी (CM Jagan Mohan Reddy) की सरकार को परीक्षाएं रद्द करने पर मजबूर होना पड़ा.

    ये भी पढ़ें :  कश्मीर में हर तरीके से पंचायत को मजबूत करने के लिए काम कर रहा केंद्र: अमित शाह

    यूपी में 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने के बाद रिजल्ट तैयार करने का फॉर्मूला 

    यूपी बोर्ड के 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने के बाद अब रिजल्ट तैयार करने का फॉर्मूला भी बता दिया गया है. इंटरमीडियट की परीक्षाएं रद्द होने से यूपी बोर्ड के 26 लाख 10 हजार 316 छात्रों को राहत मिलेगी. परीक्षाएं रद्द करने का फैसलास गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद लिया गया.

    बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने रिजल्ट तैयार करने के फॉर्मूले की जानकारी दी. उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि माध्यमिक स्तर की सभी कक्षाओं के छात्रों को बिना परीक्षा के अगली क्लास में प्रमोट किया जाएगा. उन्होंने बताया कि हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के सभी रेगुलर छात्रों को प्रमोट किया जाएगा. साथ ही इन्हें अंक सुधार के लिए एक विषय या अपने सभी विषयों की लिखित परीक्षा देने का भी मौका मिलेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.