वैक्सीनेशन में आएगी तेजी! ये राज्य सरकार खरीदने जा रही है 1 करोड़ टीके

अधिसूचना में कहा गया है, ‘‘ भारतीय सीमा में टीके की आपूर्ति के लिए डीसीजीआई की मंजूरी भी सौंपनी होगी.’’

Corona Vaccination: प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) अनिल कुमार सिंघल के अनुसार वैश्विक कंपनियों को तीन जून तक बोलियां लगाने को कहा गया है. सिंघल ने कहा, 'कुछ एकल खुराक वाले टीके हो सकते हैं जबकि कुछ दोहरी खुराक वाले टीके हो सकते हैं. बोलियों के आधार पर हम (खुराक) खरीदेंगे.'

  • Share this:
    अमरावती. आंध्र प्रदेश सरकार (Andhra Pradesh Government) ने एक करोड़ लोगों के टीकाकरण के लिए विदेशी उत्पादकों से कोविड-19 टीके (Covid-19 Vaccine) खरीदने के उद्देश्य से गुरुवार को वैश्विक निविदा निकाली. प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) अनिल कुमार सिंघल के अनुसार वैश्विक कंपनियों को तीन जून तक बोलियां लगाने को कहा गया है.

    सिंघल ने कहा, 'कुछ एकल खुराक वाले टीके हो सकते हैं जबकि कुछ दोहरी खुराक वाले टीके हो सकते हैं. बोलियों के आधार पर हम (खुराक) खरीदेंगे.' निविदा अधिसूचना में एपी मेडिकल सर्विसेज एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कार्पोरेशन ने कहा कि आपूर्ति किये जाने वाले टीके आईसीएमआर के दिशानिर्देशों के अनुरूप होने चाहिए.

    राज्य सरकार की ओर से जारी किया बयान
    राज्य सरकार का कहना है कि विनिर्माण लाइसेंस वाले निविदाकर्ताओं के पास वैध विश्व स्वास्थ्य संगठन का विनिर्माण पद्धति प्रमाणपत्र होना चाहिए. अधिसूचना में कहा गया है, ‘‘ भारतीय सीमा में टीके की आपूर्ति के लिए डीसीजीआई की मंजूरी भी सौंपनी होगी.’’

    ये भी पढ़ेंः- वैक्सीनेशन स्पीड बढ़ाने को देश के बड़े डॉक्टर ने दिया 3 प्वाइंट फॉर्मूला, जानें क्या

    मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) ने केंद्र सरकार से भारत बायोटेक और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR)-एनआईवी को कोविड रोधी टीका कोवैक्सीन (Covaxin) बनाने में इस्तेमाल की जाने वाली प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण करने के निर्देश देने की अपील की है. रेड्डी ने कहा कि टीके की खुराक का उत्पादन बढ़ाने के लिए उन कंपनियों को प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण किया जाना चाहिए जो कि टीके बनाने में सक्षम हैं.