विदेश से वैक्सीन पाने की तैयारी में आंध्र प्रदेश, जल्द जारी कर सकते हैं ग्लोबल टेंडर

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी (फाइल फोटो)

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी (फाइल फोटो)

Vaccination in Andhra Pradesh: आंध्र प्रदेश जल्द ही ग्लोबल टेंडर (Global Tender) जारी कर सकता है. राज्य में 18-45 आयुवर्ग के 2.04 करोड़ लोगों की पहचान की गई है, जिन्हें वैक्सीन दी जानी है.

  • Share this:

हैदराबाद. कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ वैक्सीन की कमी (Vaccine Shortage) का सामना कई राज्य कर रहे हैं. ऐसे में कुछ राज्यों ने अंतरराष्ट्रीय बाजार से वैक्सीन प्राप्त करने की तैयारी की है. वैक्सीन को लेकर ग्लोबल टेंडर जारी करने वाले प्रदेशों की सूची में आंध्र प्रदेश का नाम भी शामिल हो गया है. रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि राज्य सरकार फिलहाल 1 करोड़ लोगों के लिए डोज खरीदने की तैयारी कर रही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आंध्र प्रदेश जल्द ही ग्लोबल टेंडर जारी कर सकता है. राज्य में 18-45 आयुवर्ग के 2.04 करोड़ लोगों की पहचान की गई है, जिन्हें वैक्सीन दी जानी है. मिंट के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि इन लोगों के लिए स्थानीय निर्माताओं से 4.08 करोड़ खुराकें मिलने की उम्मीद हैं. उन्होंने बताया कि राज्य एक करोड़ लोगों के लिए पर्याप्त डोज खरीदने की तैयारी कर रहा है.

Youtube Video

कोरोना: दूसरी लहर का कहर हल्का तो हुआ लेकिन अभी जुलाई तक नहीं होगा अंत: एक्सपर्ट
मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) अनिल कुमार सिंह ने कहा 'जब कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कमी है, तो हम किसी भी विदेशी निर्माता से वैक्सीन खरीदने के विकल्प तलाश रहे हैं. हमने पहले ही स्पूतनिक 5 की खरीद के ऑर्डर दे दिए हैं, लेकिन स्थानीय निर्माता डॉक्टर रेड्डी लैबोरेट्रीज ने कहा है कि वे उत्पादन क्षमता का आकलन करने के बाद 15 मई के बाद ही सप्लाई पर सफाई दे पाएंगे.' उन्होंने कहा कि सरकार लोगों के मन में आत्मविश्वास जगाना चाहती है कि वे वैक्सीन खऱीदने के लिए तैयार हैं.


सीएम रेड्डी ने की टेक्नोलॉजी ट्रांसफर की अपील



मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राज्य के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने अपील की है कि केंद्र सरकार भारत बायोटेक-ICMR को दूसरी कंपनियों के साथ टेक्नोलॉजी ट्रांसफर करने के निर्देश दें. उन्होंने कहा कि ऐसी कंपनियों के साथ तकनीक साझा की जानी चाहिए, जो वैक्सीन बना सकती हैं, ताकि उत्पादन तेज हो सके. कहा जा रहा है कि उन्होंने पत्र के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा है कि देश में मांग के हिसाब से टीके का उत्पादन नहीं हो रहा है. उन्होंने लिखा है कि ऐसे में सभी को टीका मिलने में महीनों लग जाएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज