Assembly Banner 2021

भारत के लिए उड़े तीन और Rafale, वायुसेना के पास अब 14 राफेल विमान

भारतीय वायुसेना के पास अब राफेल विमानों की संख्या बढ़कर 14 हो जाएगी. फाइल फोटो

भारतीय वायुसेना के पास अब राफेल विमानों की संख्या बढ़कर 14 हो जाएगी. फाइल फोटो

Rafale Fighter Jet: तीन और राफेल विमानों के आने के बाद भारतीय वायुसेना के पास अब राफेल विमानों की संख्या बढ़कर 14 हो जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 6:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. फ्रांस से राफेल (Rafale) लड़ाकू विमानों का एक और बैच भारत के लिए उड़ान भर चुका है. इस बैच में तीन राफेल विमान हैं. फ्रांस में भारत के दूतावास ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है. ये तीनों विमान रास्ते में यूएई पहुंचने पर हवा में ईंधन भरेंगे और उड़ान जारी रखते हुए नॉन-स्टॉप भारत पहुंचेंगे. इससे पहले जनवरी महीने में तीन राफेल युद्धक विमानों का बैच भारत पहुंचा था. ये तीनों विमान ऐसे समय भारत पहुंचे थे, जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में गतिरोध चरम पर था.

फौलादी होगी वायुसेना की ताकत
तीन और राफेल विमानों के आने के बाद भारतीय वायुसेना के पास अब राफेल विमानों की संख्या बढ़कर 14 हो जाएगी. साथ ही वायुसेना की मारक शक्ति में इजाफा होगा. फ्रांस से भारत की अपनी यात्रा में राफेल लड़ाकू विमानों को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का टैंकर हवा में ही ईंधन भरने में मदद करता आ रहा है.

Youtube Video

हाशिमारा में तैनात होगी राफेल की दूसरी स्क्वॉड्रन


बता दें कि भारतीय वायुसेना अप्रैल के मध्य में राफेल लड़ाकू विमान के दूसरे स्क्वॉड्रन (दस्ते) की तैनाती के लिए तैयार है और यह स्क्वॉड्रन पश्चिम बंगाल के हाशिमारा वायुसेना अड्डे पर मुस्तैद रहेगा. राफेल विमानों का पहला स्क्वॉड्रन हरियाणा के अंबाला वायुसेना स्टेशन पर तैनात है. भारत को अगले कुछ महीनों में फ्रांस से और विमान मिलने की उम्मीद हैं. एक स्क्वॉड्रन में लगभग 18 विमान होते हैं.

पहली बार 29 जुलाई 2020 को राफेल ने चूमी सरजमीं
राफेल विमानों की पहली खेप पिछले साल 29 जुलाई को फ्रांस से भारत आई थी. भारत ने फ्रांस से 59 हजार करोड़ रुपये में 36 लड़ाकू विमान खरीदने के लिए साल 2015 में अंतर-सरकारी करार पर हस्ताक्षर किये थे. पिछले साल 10 सितंबर को अंबाला में हुए एक कार्यक्रम में राफेल लड़ाकू विमानों को औपचारिक रूप से वायुसेना के बेड़े में शामिल कर लिया गया था.

तीन विमानों की दूसरी खेप तीन नवंबर को भारत आई थी जबकि तीन और विमानों की तीसरी खेप 27 जनवरी को यहां पहुंची.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज