अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट करने के लिए प्रिया रमानी पर एक और केस बनता है: अकबर

एमजे अकबर. (फाइल फोटो)

अकबर (M.J. Akbar) ने यह बात दिल्ली की कोर्ट में सुनवाई के दौरान वकील गीता लूथरा के जरिए कही है. अकबर का कहना है कि ट्विटर अकाउंट इस मामले में प्राइमरी एविडेंस था जिसे डिलीट कर दिया गया.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर (M.J. Akbar) ने कहा कि पत्रकार प्रिया रमानी (Priya Ramani) पर अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट करने के कारण एक और केस बनता है. अकबर ने यह बात दिल्ली की कोर्ट में सुनवाई के दौरान वकील गीता लूथरा के जरिए कही है. अकबर का कहना है कि ट्विटर अकाउंट इस मामले में प्राइमरी एविडेंस था जिसे डिलीट कर दिया गया. दरअसल गुरुवार को इस मामले की फाइनल हियरिंग में अकबर ने यह बात कही. अकबर पर 2018 में मीटू मूवमेंट के दौरान प्रिया रमानी ने यौन शोषण का आरोप लगाया था.

    'पूरा मामला सबूतों को नष्ट करने का है'
    अकबर की वकील लूथरा ने कोर्ट में कहा कि जिन ट्वीट्स के आधार पर केस दर्ज किए गए थे अब वो मौजूद नहीं है. इसे लेकर तो एक मामला प्रिया रमानी पर भी बनता है. ये पूरा मामला सबूतों को नष्ट करने का है. विचार करें कि अगर कोर्ट दोबारा उन ट्वीट्स को देखना चाहे. वास्तविकता ये है कि जानबूझकर न्यायप्रक्रिया को बाधित करने के लिए इन्हें गायब किया गया.



    'हम चाहते हैं कि कोर्ट इसका संज्ञान ले'
    इस पर कोर्ट ने पूछा कि क्या सबूतों को नष्ट करने के लिए अकबर की तरफ से कोई शिकायत दर्ज कराई गई है. इस पर लूथरा ने जवाब दिया कि अभी तो नहीं लेकिन हम चाहते हैं कि कोर्ट इसका संज्ञान ले. उन्होंने कहा कि ट्वीट्स डिलीट करना रमानी के व्यवहार को दर्शाता है.

    गौरतलब है कि #MeToo मूवमेंट के दौरान विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर करीब 20 महिलाओं ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. जिसके बाद उन्होंने 17 अक्टूबर 2018 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद एमजे अकबर ने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस भी दर्ज कराया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.