मेहुल चोकसी का अपहरण कर ले जाया गया डोमिनिका? एंटीगा पुलिस ने आरोपों को बताया गलत

Mehul Choksi in Dominica: कहा जा रहा है कि मेहुल चोकसी की गिरफ्तारी के बाद भारत-डोमिनिका और एंटीगा में दोनों सरकारों के संपर्क में है. इस वक्त भारत की 58 देशों के साथ प्रत्यर्पण की संधि है. डोमिनिका इन देशों में शामिल नहीं है

Mehul Choksi in Dominica: कहा जा रहा है कि मेहुल चोकसी की गिरफ्तारी के बाद भारत-डोमिनिका और एंटीगा में दोनों सरकारों के संपर्क में है. इस वक्त भारत की 58 देशों के साथ प्रत्यर्पण की संधि है. डोमिनिका इन देशों में शामिल नहीं है

  • Share this:
    (आदित्य राज कौल)

    नई दिल्ली.  पंजाब नेशनल बैंक यानी पीएनबी स्कैम (PNB Scam) मामले में पिछले दो साल से फरार चल रहे आरोपी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) फिलहाल कैरिबियाई देश डोमिनिका रिपब्लिक में है. इस बीच एंटीगा की पुलिस ने इन आरोपों को खंडन किया है कि चोकसी का अपहरण किया गया और उन्हें ज़ोर जबरदस्ती डोमिनिका ले जाया गया. एंटीगा के पुलिस कमिश्नर एटली रॉडनी का कहना है कि मेहुल चोकसी बोट से डोमिनिका गए और उन्हें वहां ले जाने में एंटीगा पुलिस की कोई भूमिका नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि चोकसी को जॉली हार्बर से जबरदस्ती ले जाया गया. बता दें कि भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी इस वक्त डेमिनिका में CID की गिरफ्त में है.

    दरअसल मेहुल चोकसी के एंटीगा स्थित वकील जस्टिन साइमन ने दावा किया कि चोकसी को कथित तौर पर अपहरण के बाद पीटा गया था. साइमन ने मीडिया से कहा , 'हमारे पास उनकी एक फोटो है, जिसमें देखा जा सकता है कि उनके चेहरे पर काफी चोटें हैं. उनकी एक आंख सूज गई है और हाथ घायल हो गया है. ये इस बात को साबित करता है कि उन्हें पीटा गया. उसके साथ मारपीट की गई थी. चोकसी की घड़ी और पैसे भी छीन लिए गए.'



    मीडिया में अब नहीं होगी बयानबाज़ी
    उधर डोमिनिका हाईकोर्ट के जज बर्नी स्टीफेंसन-ब्रूक्स ने शुक्रवार को मेहुल चोकसी मामले में शामिल सभी वकीलों को किसी भी घटनाक्रम पर सार्वजनिक बयान देने से प्रतिबंधित कर दिया. चोकसी मामले को लेकर शुक्रवार को कोर्ट में सुनवाई के दौरान मीडिया को जाने की इजाजत नहीं थी. इससे पहले डोमिनिका हाईकोर्ट ने अपने पहले के आदेश को जारी रखते हुए फिर से चोकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी. अदालत ने ये भी फैसला सुनाया है कि चोकसी को अपने कानूनी सलाहकारों से मिलने की अनुमति दी जाएगी और डोमिनिका-चीन मैत्री अस्पताल में कोरोना की जांच के लिए ले जाया जाए. इसके बाद चोकसी को सरकारी क्वारंटीन में भेजा जाएगा.



    ये भी पढ़ें:- गूगल, FB ने मानी सरकार की बात, ट्विटर का अड़ियल रवैया जारी; नहीं दिया ब्यौरा

    एंटीगा में राजनीति
    मेहुल चोकसी मामले को लेकर एंटीगा की राजनीति गरमा गई है. यूनाइटेड प्रोग्रेसिव पार्टी ने प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन के हालिया बयान पर गंभीर चिंता व्यक्त की. पीएम ने कहा था कि डोमिनिका को चोकसी को सीधे भारत भेज देना चाहिए और उसे एंटीगा व बारबुडा नहीं लौटाना चाहिए. विपक्ष ने उनके इस बयान पर पलटवार करते हुए कहा, 'ये बयान गैरजिम्मेदार और डराने वाला है. ये प्रधानमंत्री को तय नहीं करना है कि संविधान के संरक्षण का हकदार कौन है. हम कानून को मानने वाले देश हैं. एंटीगा और बारबुडा का हर नागरिक उचित प्रक्रिया का हकदार है और कानून के शासन का सभी को सम्मान करना चाहिए.'