तो क्या भगोड़े मेहुल चोकसी को बचाने की कोशिश कर रहा है डोमिनिका? जानें एंटीगा के PM ने क्या कहा

मेहुल चौकसी को भारत लाने की कवायद तेज हो गई है.

मेहुल चौकसी को भारत लाने की कवायद तेज हो गई है.

PNB Scam Mehul Choksi: मेहुल चोकसी ने 2017 में एंटीगा एंड बारमुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय बैंक से कर्ज धोखाधड़ी के मामले में वांछित भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी अपनी विदेशी नागरिकता को बचाने के लिए अदालत की शरण ले रहा है. एंटीगा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने बुधवार को समाचार एजेंसी एएनआई को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, 'बजाए इसके कि भगोड़ा मेहुल चोकसी कानून द्वारा जरूरी जांच के लिए खुद को अधिकारियों के हवाले कर दे, वह अपनी नागरिकता को हटाने से रोकने के लिए अदालतों का इस्तेमाल कर रहा है.'


इसके साथ ही एंटीगा के प्रधानमंत्री ने बताया कि मेहुल चोकसी ने अपना वकील बदल लिया है. उन्होंने कहा, 'चोकसी ने अपना केस लड़ रहे वकील को हटाकर उसकी जगह एक नए वकील जस्टिन साइमन को रखा है जो कि वहां की विपक्षी पार्टी यूपीपी का सदस्‍य और पूर्व अटॉर्नी जनरल है. इतना ही नहीं, साइमन ने अपनी कैम्पेन फंडिंग के लिए चोकसी से यह वादा भी किया है कि वह उसकी सुरक्षा करेगा. यही वजह है कि वे लोग चोकसी को भारत नहीं, बल्कि एंटीगा भेजना चाहते हैं ताकि वह वहां संवैधानिक सुरक्षा की आड़ में छिपा रह सके.'


मेहुल चोकसी के भाई ने डोमिनिका में नेता को दी घूस, स्थानीय मीडिया का दावा


एंटीगा के प्रधानमंत्री ने अपनी उस बात को भी दोहराया जिसमें उन्होंने डोमिनिका से यह निवेदन किया था कि वह चोकसी को सीधा भारत प्रत्यर्पित कर दे. उन्होंने कहा, 'मेरा प्रशासन अब भी उस निवेदन पर टिका है जिसमें डोमिनिका से मेहुल चोकसी को सीधा भारत प्रत्यर्पित करने के लिए कहा गया था क्योंकि वह अब भी वहां का नागरिक है.'


मेहुल चोकसी इस वक्त डोमिनिका की जेल में बंद है. दरअसल कुछ दिनों पहले चोकसी एंटीगा और बारमुडा से रहस्यमयी परिस्थितियों में लापता हो गया था और उसके खिलाफ इंटरपोल के 'यलो नोटिस' के मद्देनजर पड़ोसी डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया था. अब भारत सरकार उसके प्रत्यर्पण की कोशिश में लगी है. दूसरी ओर, चोकसी ने आरोप लगाया है कि एंटीगा और भारतीय की तरह दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने उसे एंटीगा और बारमुडा में जॉली बंदरगाह से अगवा किया और उसे डोमिनिका ले गए. डोमिनिका से चोकसी की एक तस्वीर सामने आयी है जिसमें उसकी आंखें सूजी हुई थीं और उसके हाथ पर खरोंच के निशान थे.


एंटीगा ने डोमिनिका को सीधे चोकसी को भारत सौंपने को कहा

डोमिनिका में गिरफ्तार किए जाने के बाद एंटीगा और बारमुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने कहा कि उन्होंने डोमिनिका को हीरा कारोबारी को सीधे भारत को सौंपने को कहा है. 25 मई की रात को डोमिनिका में चोकसी की गिरफ्तारी की खबर आने के बाद ब्राउन ने मीडिया से कहा था कि उन्होंने चोकसी को भारत को भेजने के संबंध में डोमिनिका के प्रशासन को स्पष्ट निर्देश दिया है. एंटीगा न्यूज ने ब्राउन के हवाले से कहा था, 'हमने उनसे (डोमिनिका) चोकसी को एंटीगा को नहीं भेजने को कहा है. उसे भारत वापस भेजने की जरूरत है जहां उसे अपने खिलाफ आपराधिक आरोपों का सामना करना है.'




क्या है पूरा मामला

चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये की धनराशि का कथित तौर पर गबन किया. नीरव मोदी लंदन की एक जेल में बंद है और वह भारत प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है. चोकसी ने 2017 में एंटीगा एंड बारमुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था. इसके बाद ही यह घोटाला सामने आया था. दोनों ही सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज