मेहुल चोकसी को भारत भेजने के लिए इतने आतुर क्यों हैं एंटीगा के प्रधानमंत्री?

मेहुल चोकसी हाल ही में एंटीगा और बारबूडा से फरार हो गया था और उसके खिलाफ इंटरपोल के ‘‘येलो नोटिस’’ के मद्देनजर पड़ोसी डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया था.(फ़ाइल फोटो)

मेहुल चोकसी हाल ही में एंटीगा और बारबूडा से फरार हो गया था और उसके खिलाफ इंटरपोल के ‘‘येलो नोटिस’’ के मद्देनजर पड़ोसी डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया था.(फ़ाइल फोटो)

Mehul Choksi in Dominica: सूत्रों के मुताबिक, मेहुल चोकसी की गिरफ्तारी के बाद भारतीय अधिकारी डोमिनिका और एंटीगा में दोनों सरकारों के संपर्क में हैं. इस वक्त भारत की 58 देशों के साथ प्रत्यर्पण संधि है. डोमिनिका इन देशों में शामिल नहीं है.

  • Share this:

नई दिल्ली. इन दिनों हर किसी की निगाहें कैरिबियाई देश डोमिनिका रिपब्लिक पर टिकी हैं. वो ठिकाना जहां पंजाब नेशनल बैंक यानी पीएनबी स्कैम (PNB Scam) मामले में पिछले दो साल से फरार चल रहे आरोपी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) सीआईडी की गिरफ्त में है. चोकसी सीधे डोमिनिका से भारत आएगा या नहीं इसको लेकर 2 जून को फैसला आ सकता है. मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर इसी दिन हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. इस बीच एंटीगा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्रॉने बार-बार ये दोहरा रहे हैं कि डोमिनिका को तुरंत चोकसी को भारत के हवाले कर देना चाहिए.

गैस्टन ब्रॉने ने कहा है कि उनकी सरकार मेहुल चोकसी की नागरिकता को खत्म करने को तैयार है. भारत ने अगस्त 2018 में औपचारिक तौर पर चोकसी के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया था. साल 2019 में ब्रॉने ने कहा था कि जैसे ही मेहुल चोकसी के कानूनी विकल्प खत्म हो जाएंगे उन्हें भारत को सौंप दिया जाएगा. सवाल उठता है कि आखिर मेहुल चोकसी को भारत भेजने के लिए एंटीगा के प्रधानमंत्री इतने क्यों आतुर है?

Youtube Video

विपक्ष को चोकसी देते हैं फंड!
एंटीगा के प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया है कि मेहुल चोकसी उनके देश के विपक्षी पार्टी यूनाइटेड प्रोग्रेसिव पार्टी को फंड देते हैं. उन्होंने कहा कि यही वजह है कि चोकसी के समर्थन में पार्टी के नेताओं ने संयुक्त बयान जारी किया है. ब्रॉने ने ये भी कहा कि चोकसी की नागरिकता रद्द करने के निर्णय के बावजूद, उनकी कानूनी और संवैधानिक सुरक्षा का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है. उन्होंने आगे कहा, 'हम एक वैश्वीकृत दुनिया में रहते हैं जहां अपराधियों से लड़ने और उन्हें हराने के लिए राज्यों के बीच सहयोग की आवश्यकता होती है.'

ये भी पढ़ें:-देश में कल मॉनसून के दस्तक की उम्मीद, जानें आपके राज्य में कब पहुंचेंगे मेघ

एंटीगा में हंगामा



मेहुल चोकसी मामले को लेकर एंटीगा की राजनीति गरमा गई है. एंटीगा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्रॉने ने दावा किया है कि मेहुल चोकसी अब भी भारत के नागरिक हैं. लिहाजा डोमिनिका को सीधे उन्हें भारत के हवाले कर देना चाहिए. विपक्ष ने उनके इस बयान को गैर जिम्मेदाराना बताया था.यूनाइटेड प्रोग्रेसिव पार्टी ने प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन के हालिया बयान पर गंभीर चिंता व्यक्त की. पीएम ने कहा था कि डोमिनिका को चोकसी को सीधे भारत भेज देना चाहिए और उसे एंटीगा व बारबुडा नहीं लौटाना चाहिए.


भारत लाने की कोशिश

इस बीच समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि भारत ने बैक-चैनल के जरिए डोमिनिका से साफ-साफ से कहा है कि मेहुल चोकसी को एक भगोड़े भारतीय नागरिक के रूप में माना जाना चाहिए, जिसके खिलाफ इंटरपोल रेड कॉर्नर नोटिस है. भारत ने उसे भारतीय अधिकारियों को सौंपने की बात कही है. चोकसी के द्वारा अभी तक अपनी भारतीय नागरिकता से इनकार करने का कोई मामला नहीं सामने आया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज