आंध्र प्रदेश सरकार ने रमी, पोकर जैसे ऑनलाइन गेम पर लगाया प्रतिबंध

आंध्र प्रदेश सरकार ने रमी, पोकर जैसे ऑनलाइन गेम पर लगाया प्रतिबंध
जगन मोहन रेड्डी की कैबिनेट ने रम्मी और पोकर जैसे ऑनलाइन गेम पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है.

Rummy & Poker Ban in Andhra Pradesh : आंध्र प्रदेश कैबिनेट (Andhra Pradesh Cabinet) के फैसले के अनुसार ऑनलाइन जुओं (Online Gamblings) के आयोजकों को पहली बार अपराधी पाए जाने पर एक साल के जेल की सजा होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 6:43 PM IST
  • Share this:
अमरावती. आंध्र प्रदेश सरकार (Andhra Pradesh Cabinet) ने गुरुवार को युवाओं को गलत रास्ते की ओर धकेल रहे रमी (Rummy) और पोकर (Poker) जैसे ऑनलाइन गेम (Online Games) पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. सूचना मंत्री पी. वेंकटरमैया (नानी) ने कहा कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी (YS Jagan Mohan Reddy) की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल (State Cabinet) ने ऑनलाइन जुआ (Online Gambling) पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. मंत्रिमंडल की बैठक के अंत में पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री ने कहा कि ऑनलाइन जुए की लत युवाओं को 'गुमराह' करके उन्हें नुकसान पहुंचा रही है.

नानी ने कहा, ‘‘इसलिए हमने युवाओं को बचाने के लिए ऐसे सभी ऑनलाइन जुओं पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है.’’ मंत्रिमंडल के निर्णय के अनुसार ऑनलाइन जुओं के आयोजकों को पहली बार अपराधी पाए जाने पर एक साल के जेल की सजा होगी. मंत्री ने कहा कि दूसरी बार पकड़े जाने पर जुर्माने के साथ दो साल तक जेल की सजा होगी. ऑनलाइन गेम खेलते पकड़े गए लोगों को छह महीने की जेल की सजा होगी.

ये भी पढ़ें :- मानसून सत्र: विपक्ष के विरोध के बाद सरकार ने बदले तेवर, लिखित में मिलेंगे जवाब



एक दिन पहले ही केंद्र सरकार ने पबजी पर लगाया था बैन
आंध्र प्रदेश सरकार का ये फैसला ऐसे समय आया है जब एक दिन पहले ही केंद्र सरकार ने पबजी (Pubg) समेत 118 चीनी मोबाइल ऐप्लीकेशन पर प्रतिबंध लगाया है. बता दें ऑनलाइन खेले जाने वाले गेम्स में युवाओं के बीच पबजी, पोकर और रमी काफी प्रचलित हैं.

ये भी पढ़ें :-  सीमा विवाद में भारत और चीन दोनों ही आक्रामक, कैसा होगा LAC का भविष्य

इसके साथ ही आंध्र प्रदेश की कैबिनेट ने इलेक्ट्रिक फीडरों के अपग्रेडेशन और कृषि उद्देश्यों के लिए 9 घंटे मुफ्त बिजली प्रदान करने के लिए 1,700 करोड़ रुपये खर्च करने का फैसला किया है. कैबिनेट ने लगभग 1 लाख अनधिकृत बिजली कनेक्शनों को नियमित करने को भी मंजूरी दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज