PAK- चीन की बढ़ेंगी मुश्किलें, 3 सितंबर को इंडियन एयरफ़ोर्स में शामिल होंगे अपाचे हेलीकॉप्टर

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 10:40 PM IST
PAK- चीन की बढ़ेंगी मुश्किलें, 3 सितंबर को इंडियन एयरफ़ोर्स में शामिल होंगे अपाचे हेलीकॉप्टर
3 सितंबर को पठानकोट में भारतीय वायुसेना में शामिल किए जाएंगे अपाचे हेलीकॉप्टर

AH-64 अपाचे (Apache AH-64) दुनिया के सबसे एडवांस्ड लड़ाकू हेलीकॉप्टर (Attack Helicopters) हैं. इनका इस्तेमाल अमेरिकी सेना के साथ ही अब तक इजरायल, इजिप्ट, नीदरलैंड्स और यूके जैसे देश भी कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2019, 10:40 PM IST
  • Share this:
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) 3 सितंबर को अमेरिका (America) में निर्मित अपाचे AH-64E अटैक हेलीकॉप्टरों को पंजाब के पठानकोट (Pathankot) में भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) में शामिल करेंगे. 22 हेलीकॉप्टरों में से पहले चार को यूएस कंपनी बोइंग ने 27 जुलाई को वायु सेना को सौंपा था.

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि वायुसेना 3 सितंबर को पठानकोट में एक समारोह आयोजित कर रही है. एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ (B S Dhanoa) इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे. वायुसेना ने 2015 में अमेरिकी सरकार और बोइंग लिमिटेड के साथ 22 अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदने के लिए कॉन्ट्रेक्ट किया था.

बता दें कि AH-64 अपाचे दुनिया के सबसे एडवांस्ड लड़ाकू हेलीकॉप्टर हैं. इनका इस्तेमाल अमेरिकी सेना के साथ ही अब तक इजरायल, इजिप्ट, नीदरलैंड्स और यूके जैसे देश भी कर रहे हैं. भारत भी इस फेहरिस्त में शामिल होने जा रहा है.

अपाचे हेलीकॉप्टरों की खूबियां

सैन्य सर्वेक्षण और भूभाग की पैमाइश के लिए ये हेलीकॉप्टर सबसे एडवांस्ड तकनीक से लैस हैं. ये आमने-सामने की लड़ाई में कारगर होने के साथ ही मोबाइल स्ट्राइक जैसे मिशनों में भी उपयोगी हैं. साथ ही, वर्टिकल हमलों को भी अंजाम दे सकते हैं और वो भी दिन हो या रात, यानी खराब मौसम के दौरान भी. इन खूबियों के बारे में कुछ डिटेल्स भी जानें कि ये सब कैसे संभव होता है.



हेलफायर मिसाइलों से लैस हैं अपाचे
Loading...

अपाचे AH-64 दो वर्जनों डी और ई में उपलब्ध हैं और भारत ने ई वर्जन का रक्षा सौदा किया है. ई वर्जन के अपाचे AH-64 अत्याधुनिक तकनीक के लिहाज़ से एडवांस्ड हैं. इन लड़ाकू हेलीकॉप्टरों में ट्विन इंजन है, चार ब्लेड और एक साथ कई तरह के हमले करने की क्षमता है. इनमें एरियल हथियारों की डिलीवरी के प्लेटफॉर्म बेहतरीन तकनीक के साथ डिज़ाइन किए गए हैं.

कंट्रोल का सिस्टम भी है जबरदस्त
रडार से लैस अपाचे हेलीकॉप्टरों में मैकेनिकल हाइड्रोलिक सिस्टम के साथ ही एक डिजिटल स्टैबलाइज़ेशन सिस्टम भी है. इसकी मदद से हाइड्रोलिक सिस्टम हेलीकॉप्टर की उड़ान स्मूथ बनाए रखता है और उड़ान के दौरान हेलीकॉप्टर के मंडराने की गति और दिशा पर पूरा कंट्रोल ज़्यादा असानी रखा जा सकता है. दूसरी ओर, ये भी एक फैक्ट है कि इस हेलीकॉप्टर में जो मिसाइलें हैं, उनमें सेंसर्स और कंट्रोल सिस्टम भी एडवांस्ड तकनीक का है, जिसके ज़रिए इनका निशाना अचूक और सटीक होता है.

ये भी पढ़ें: जेम्स बॉन्ड की कार की तरह कई तकनीकों से लैस है अपाचे हेलीकॉप्टर, एयरफोर्स की बढ़ाएंगे ताकत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 9:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...