• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • राज्यपालों की नियुक्तियां पीएम मोदी की सभी वर्गों का सम्मान और गरिमा बनाए रखने की कवायद

राज्यपालों की नियुक्तियां पीएम मोदी की सभी वर्गों का सम्मान और गरिमा बनाए रखने की कवायद

 पीएम मोदी ने सबका साथ नारे को हकीकत में बदल दिया. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी ने सबका साथ नारे को हकीकत में बदल दिया. (फाइल फोटो)

मोदी सरकार के अब तक के कार्यकाल में हुई देश भर में नियुक्तियों का लेखा जोखा लिया जाए तो ये भी साबित हो जाता है कि पीएम मोदी (PM Modi) ने 'सबका साथ और सबका विश्वास' हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. पीएम मोदी के कार्यकाल में राज्यपाल के पद पर रिकॉर्ड नंबर में अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ा वर्ग के नेताओं की नियुक्ति हुई.

  • Share this:
नई दिल्‍ली .  मोदी सरकार के अब तक के कार्यकाल में हुई देश भर में नियुक्तियों का लेखा जोखा लिया जाए तो ये भी साबित हो जाता है कि पीएम मोदी (PM Modi) ने 'सबका साथ और सबका विश्वास' हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. पीएम मोदी के कार्यकाल में राज्यपाल के पद पर रिकॉर्ड नंबर में अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़े वर्ग के नेताओं की नियुक्ति हुई. यहां तक की महिला राज्यपालों की संख्या का रिकॉर्ड मोदी सरकार में रहा है.

अनुसूचित जाति और जनजाति और ओबीसी वर्ग से आने वाले नेताओं को तरजीह
अनुसूचित जाति से आने वाले राज्यपालों में सबसे ताजा नियुक्ति थावर चंद गहलोत की है जो बीजेपी के शीर्ष नेताओं में एक थे. राज्यसभा में नेता विपक्ष होने का साथ साथ वो संसदीय बोर्ड के सदस्य भी रहे. उनके ऐलान के साथ साथ गोवा के राजेंद्र आरलेकर को हिमाचल का गवर्नर बनाया गया है. अनुसूचित जाति से आने सत्यदेव नारायण आर्या को त्रिपुरा का राज्यपाल बनाया गया जबकि बेबी रानी मौर्या उत्तराखंड के राज्यपाल पद पर पहले से काम कर रही हैं.

अनुसूचित जनजाति के मंगूभाई पटेल को मध्य प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है और अनसूइया उइके छत्तीसगढ के राज्यपाल के रुप में काम कर रही हैं. ओबीसी राज्यपालों में फागू चौहान को बिहार, रमेश बैस को त्रिपुरा से झारखंड का राज्यपाल बनाया गया है. बंडारु दत्तात्रेय को हिमाचल प्रदेश का राजयपाल बनाया गया. गंगा प्रसाद चौरसिया को सिक्किम, तमिलसाई सौन्दरराजन को तेलंगाना और पुडुचेरी का राज्यपाल बनाया गया.

ये भी पढ़ें कर्नाटक के राज्यपाल बनाए गए थावरचंद गहलोत कल बाकी पदों से देंगे इस्तीफा

जाट नेताओं और मुस्लिम बुद्दिजीवियों को भी राज्यपालों की नियुक्ति में मिली तरजीह
मोदी सरकार ने 3 जाट नेताओं को राज्यपाल बनाया है. ये साबित करता है कि इस वर्ग का भी मोदी सरकार ने कितना सम्मान किया है. जगदीप धनकड़ बंगाल के राज्यपाल हैं, सतपाल मलिक मेघालय और आचार्य देवव्रत पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात के राज्यपाल हैं. दो शीर्ष मुस्लिम बुद्धीजीवी ऩजमा हेपतुल्ला पिछले पांच साल से मणिपुर की राज्यपाल हैं और आरिफ मुहम्मद खान केरल के राज्यपाल के पद पर काम कर रहे हैं. दो तेलुगु राज्यपालों की नियुक्ति मोदी सरकार ने की है. इनमें के हरिबाबू और बंडारु दत्तात्रेय भी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें - मुरादाबाद: प्राइवेट स्कूल पर समर कैंप के नाम पर धर्म प्रचार का आरोप, ABVP की चेतावनी, जांच जारी

महिला राज्यपालों की नियुक्ति
नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली एनडीए सरकार ने 2014 से अब तक 8 महिला राज्यपालों और उपराज्यपालों के पद पर नियुक्ति की है. इनमें मृदुला सिन्हा, द्रौपदी मुरमु जो आदिवासी समाज की एक बड़ी नेता हैं, नजमा हेपतुल्ला एक सम्मनित मुस्लिम नेता हैं, आनंदीबेन पटेल, बेबी रानी मौर्या अनुसूचित जाति की नेता, अनुसुइया उइके आदिवासी नेता, तमिलसाई सौदरराजन औऱ किरण बेदी शामिल हैं. इन 8 महिला राज्यपालों मे 5 अनुसुचित जाति, जनजाति और ओबीसी, और मुस्लिम वर्ग से ताल्लुक रखती हैं. मोदी सरकार से पहले नेहरू सरकार में तीन महिला राज्यपाल बनीं, मोरारजी देसाई के कार्यकाल में दो महिला राज्यपाल, राजीव गांधी के वक्त 3, वीपी सिंह के समय एक महिला राज्यपाल, पीवी नरसिम्हा राव के समय 3, देवेगौड़ा के समय एक महिला राज्यपाल, गुजराल के समय वीएस रमादेवी और वाजपेयीजी के वक्त एक महिला राज्पाल, मनमोहन सिंह के समय 6 महिला राज्यपाल नियुक्त हुई थीं.

कुल मिला कर देश को संदेश यही है कि 'सबका साथ, सबका विकास' के साथ साथ 'सबका विश्वास' का पीएम मोदी का नारा सिर्फ नारा नहीं था. पीएम मोदी की सरकार ने समाज के सभी वर्गों को सत्ता में भागीदारी देने को अमली जामा पहनाया. ये तमाम राज्यपाल सिर्फ एक वर्ग से नहीं आते बल्कि पार्टी, समाज और राजनीति में अपनी अलग पहचान बनाने के लिए इन्होने खासी मेहनत भी की है जिसकी पीएम मोदी ने कद्र की है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज