होम /न्यूज /राष्ट्र /गुजरात और महाराष्ट्र पर मंडराया तूफान 'हिका' का खतरा, 120 किलोमीटर/घंटा हो सकती है रफ्तार

गुजरात और महाराष्ट्र पर मंडराया तूफान 'हिका' का खतरा, 120 किलोमीटर/घंटा हो सकती है रफ्तार

गुजरात के समुद्री तट से 3 जून तक टकरा सकता है चक्रवात 'निसर्ग'.

गुजरात के समुद्री तट से 3 जून तक टकरा सकता है चक्रवात 'निसर्ग'.

Cyclone Hikaa news update:: भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) के अनुसार, अरब सागर के ऊपर कम दबाव का ...अधिक पढ़ें

    अहमदाबाद/मुंबई. पश्चिम बंगाल में 'अम्फान' तूफान के कोहराम के बाद अब गुजरात के समुद्र तट पर 'हिका' चक्रवाती तूफान का खतरा मंडरा रहा है. भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) के अनुसार, अरब सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है, जिसके कारण 3 जून को महाराष्ट्र और गुजरात के समुद्री तट से चक्रवाती तूफान टकरा सकता है.

    यह तूफान गुजरात के द्वारका ओखा और मोरबी से टकराता हुआ, कच्छ की ओर जा सकता है., संभावना जताई जा रही है कि अन्य तूफानों के तरह यह भी कच्छ के कंडला और आसपास के इलाकों में भारी नुकसान पहुंचा सकता है.

    48 घंटे में बनेगा निम्न दवाब वाला क्षेत्र
    आईएमडी ने अपने डेली बुलेटिन में कहा है, 'दक्षिण पूर्व-पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर अगले 48 घंटों के दौरान एक निम्न दवाब का क्षेत्र बनेगा. यह उसके अगले 48 घंटों के दौरान और तीव्र होकर डिप्रेशन में बदलेगा और उसके बाद और तीव्र हो सकता है. यह 3 जून तक गुजरात और उत्तर महाराष्ट्र तटों की ओर उत्तर-पश्चिमोत्तर की तरफ बढ़ेगा.'




    किनारे पर सिगनल जारी
    अरब सागर के द्वीप डिप्रेशन के चलते गुजरात के समुद्री किनारों पर एक नंबर का सिग्नल जारी कर दिया गया है. साथ ही मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है. बताया जा रहा है कि पहले यह चक्रवात ओमान की तरफ बढ़ रहा था. लेकिन अब मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि यह तूफान गुजरात की ओर आगे बढ़ रहा है.

    मौसम विभाग की मानें तो जिस समय यह चक्रवात जमीन से टकराएगा, उस समय हवा की गति 120 किलोमीटर रहेगी जिससे भारी नुकसान होने की संभावना है.

    ये भी पढ़ेंः-
    COVID-19: दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग का निर्देश, 2 घंटे में शवगृह भेजे जाएं शव

    " isDesktop="true" id="3138328" >

    Tags: Gujarat, Gujarat news, IMD forecast, Maharashtra

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें