बिहार: गैंगरेप पीड़िता के मददगारों को जेल भेजने पर सुप्रीम कोर्ट नाराज, फौरन रिहाई का दिया आदेश

बिहार: गैंगरेप पीड़िता के मददगारों को जेल भेजने पर सुप्रीम कोर्ट नाराज, फौरन रिहाई का दिया आदेश
सुप्रीम कोर्ट

बिहार के अररिया जिले (Araria ) का मामला है जहां एक अदालत में मुकदमा चल रहा था. पीड़ित महिला मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करा रही थी. तभी कथित तौर पर विवाद हो गया और मजिस्ट्रेट ने जेल भेज दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 2:30 PM IST
  • Share this:
 नई दिल्ली. गैंग रेप की पीड़िता को मदद करने वाले समाज सेवियों को जेल भेजने पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने नाराजगी जताई है. सुप्रीम कोर्ट ने सभी को फौरन रिहा करने का आदेश दिया है. दरअसल मामला बिहार के अररिया जिले (Araria Bihar) का है जहां एक निचली अदालत में गैंग रेप का मुकदमा चल रहा था. पीड़ित महिला मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करा रही थी. बयान पूरा होने के बाद मजिस्ट्रेट ने महिला से दस्तखत करने को कहा.

इस पर पीड़ित महिला ने कहा, 'वह नहीं समझ पा रही है कि इसमें क्या लिखा है जब सोशल वर्कर तन्मय और कल्याणी उन्हें पढ़ कर सुनाएंगी तब ही वह दस्तखत करेंगी.' इस पर मजिस्ट्रेट और पीड़ित महिला के बीच बहस हो गई.

मजिस्ट्रेट का यह है आरोप
दूसरी ओर मजिस्ट्रेट का आरोप है, 'महिला ने उनके स्टाफ से बदतमीजी की और कानून की प्रक्रिया में बाधा डाली. इसलिए पीड़ित महिला, तन्मय और कल्याणी तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया.'
मंगलवार को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने इस पर खासी नाराजगी जताई और तन्मय और कल्याणी को फौरन रिहा करने का आदेश दिया. पीड़ित महिला का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में नहीं आया है. ये तीनों महिलाएं जेल में बंद है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जिस प्रकार से दोनों महिलाओं को जेल भेजा गया वह सरासर गलत है. ऐसे किसी को जेल नहीं भेज सकते.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज