• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पाक के आतंकी कैंप बंद करने के दावे किनारे कर आर्मी चीफ बोले, घुसपैठ कम हुई तो मानेंगे आतंकियों पर लगी लगाम

पाक के आतंकी कैंप बंद करने के दावे किनारे कर आर्मी चीफ बोले, घुसपैठ कम हुई तो मानेंगे आतंकियों पर लगी लगाम

भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि हम पाकिस्तान के टेरर कैंप बंद करने के दावों की सत्यता नहीं जांच सकते (फाइल फोटो)

भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि हम पाकिस्तान के टेरर कैंप बंद करने के दावों की सत्यता नहीं जांच सकते (फाइल फोटो)

पाकिस्तान कहता आ रहा है कि अब उसके यहां कोई आतंकी कैंप नहीं चल रहा है. बालाकोट में भारत की एयरस्ट्राइक के बाद तो उसने पीओके में भी सभी आतंकी कैंप बंद कराए जाने की बात कही है.

  • Share this:
    बालाकोट में भारत की एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान अब दुनिया भर को यह बताने में जुटा है कि उसकी जमीन पर कोई भी आंतकी कैंप संचालित नहीं हो रहा है. दुनिया भर में अपनी जमीन पर आतंक को पलने की छूट देने वाले पाकिस्तान ने दावा किया था कि उनसे अपनी जमीन पर आतंकी कैंप बंद करा दिए हैं. हालांकि भारतीय सेना ने इसे पड़ोसी मुल्क का दिखावा और धोखा माना है. जब आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत से इससे जुड़े सवाल किए गए तो उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकी कैंप बंद किए हैं या नहीं इसकी सत्यता जांचने का कोई तरीका नहीं है.

    उन्होंने कहा कि हम अपनी सीमाओं की निगरानी जारी रखेंगे. जिसका मतलब साफ है कि भारत अपनी सुरक्षा व्यवस्था को पाकिस्तान के दावों के बावजूद भी हल्का नहीं करेगा. पाकिस्तान ने कई बार कहा है कि उसकी सरजमीं पर टेरर कैंप नहीं हैं. लेकिन जब अमेरिका और भारत दबाव बनाने की बात कहते हैं तो पाकिस्तान कड़े एक्शन लेने का दिखावा करने लगता है.

    आर्मी चीफ ने कहा कि घुसपैठ में कमी आएगी तो मानेंगे पाकिस्तान ने लगाई है लगाम
    सोमवार को आर्मी चीफ ने कहा है कि आतंकी कैंप बंद हो रहे हैं या नहीं, हमारे लिए इसकी सत्यता जांचना काफी मुश्किल है. दरअसल, पाकिस्तान में एक-दो आतंकी कैंप नहीं हैं. पीओके के में पाकिस्तान ने आतंकियों के कई कैंप को संरक्षण दे रखा है.

    मौलाना मसूद अज़हर और हाफिज सईद जैसे बड़े आतंकियों को संरक्षण देने से यह बात साफ है. मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज को पाकिस्तान के शहरों में घूम-घूम कर रैलियां करते देखा जा सकता है. वह पीओके में भी आता-जाता रहता है.

    आर्मी चीफ बिपिन रावत ने यह भी कहा है हम जमीन पर इसके नतीजे देखने का इंतजार करेंगे. यह हमारी जमीन पर बड़े स्तर में घुसपैठ में कमी आने से तय होगा कि आतंकवादियों को सैन्य और आर्थिक मदद देने पर लगाम लगाई गई है.

    यह एफएटीएफ की मीटिंग से पहले पाकिस्तान का दिखावा भी हो सकता है
    दरअसल इस महीने पाकिस्तान की आर्थिक रेटिंग की समीक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय संस्था एफएटीएफ एक मीटिंग करने वाली है. जिससे पहले पाकिस्तान ने ऐसे बयान देने शुरू कर दिए हैं. पाकिस्तान को आगे भी लोन मिलते रहने और अर्थव्यवस्था के सुचारु रूप से चलने के लिए जरूरी है कि एफएटीएफ की मीटिंग में माना जाए कि पाकिस्तान ने आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए काम किया है. अगर इस मीटिंग में पाया जाता है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए जरूरी कदम नहीं उठाए हैं तो उसकी आर्थिक रैंकिंग में सुधार नहीं आएगा और उसकी बुरी अर्थव्यवस्था और बदतर स्थिति में पहुंच जाएगी.

    मालदीव की संसद में पीएम मोदी ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया था
    पीएम मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में पहली विदेश यात्रा मालदीव की की. इस दौरान उन्होंने आतंकवाद के मुद्दे को प्रमुखता से सामने रखा और मालदीव से भी इस पर साथ आने को कहा. इस दौरान उन्होंने इशारों-इशारों में पाकिस्तान कई बार आड़े हाथों भी लिया था. उन्होंने कहा था कि लोग आज भी अच्छा आतंकी और बुरा आतंकी के भेद में उलझकर गलती कर रहे हैं.

    अगर खाते और टकसाल नहीं तो आतंकियों के पास पैसे कहां से आते हैं?
    पीएम ने अपनी यात्रा के दौरान आतंकवाद को मानवता के लिए खतरा बताया था. उन्होंने कहा था कि ऐसी कोई जगह नहीं है जहां आतंकवाद अपना भयानक रूप दिखाकर, निर्दोषों की जान न लेता हो. उन्होंने यह भी कहा था कि आतंकियों के पास न ही अपने बैंक होते हैं, न ही टकसाल और न ही हथियारों की फैक्ट्री, फिर भी उन्हें धन और हथियारों की कमी नहीं होती. उन्होंने इसके बाद पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए कहा था कि आतंकवाद की स्टेट स्पॉन्सरशिप सबसे बड़ा खतरा है. एफएटीएफ ने भी अपनी पिछली मीटिंग में पाकिस्तान को आतंकियों की मनी लॉन्ड्रिंग आदि की गतिविधियों पर रोक लगाने को कहा था.

    यह भी पढ़ें : कठुआ केस: पुजारी से पुलिसवाले ने कहा था- 'लड़की की सांस रोक कर रखो, मैं भी कुछ कर लूं, फिर मार देना'

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज