लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर के युवाओं को रोजगार देने के लिए जनरल रावत ने बताया अपना प्लान

News18Hindi
Updated: November 5, 2019, 6:35 PM IST
जम्मू-कश्मीर के युवाओं को रोजगार देने के लिए जनरल रावत ने बताया अपना प्लान
जनरल बिपिन रावत ने दिल्‍ली में जम्‍मू कश्‍मीर से आए मौलवी, ग्रंथी और पंडितों से मुलाकात की.

5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के विशेषाधिकार खत्म करते हुए अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म कर दिया था. सरकार ने कहा था कि अनुच्‍छेद 370 के हटने से जम्‍मू-कश्‍मीर में रोजगार के बड़े मौके उपलब्‍ध होंगे. वहां पर उद्याेग धंधे खुलने से रोजगार मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2019, 6:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में 5 अगस्त के बाद बदले हालात के बाद अब जन जीवन सामान्य हो रहा है. सरकार और प्रशासन ने यहां पर लगी अलग-अलग पाबंदियां हटानी शुरू कर दी हैं. सेना और दूसरे सुरक्षाबल भी इस दिशा में प्रयास कर रहे हैं. दिल्ली में सेना प्रमुख बिपिन रावत (Army Chief General Bipin Rawat) ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर से आए मौलवी, ग्रंथी और पंडितों से मुलाकात की. इस मौके पर उन्होंने कहा, ''ये एक राष्ट्रीय सद्भावना टूर है. इसका मुख्य उद्देश्य ये दिखाना था कि घाटी में तमाम समुदाय किस तरह रहते हैं. ये काफी अहम संदेश है जो हम घाटी में दूसरे लोगों को भी भेजना चाहते हैं.''

जनरल बिपिन रावत  (Bipin Rawat) ने कहा, ''मुझे खुशी है कि ये लोग रिआसी और रजौरी जैसी जगहों से यहां पर आए. इन क्षेत्रों में या तो आतंकवाद खत्म हो गया है. या यहां पर बहुत कम आतंकी बचे हैं. यहां पर लोग खुश हैं. इस क्षेत्र में रोजगार के कई मौके उपलब्ध कराए जा सकते हैं. ऐसा ही हमने उनसे कहा था कि हम उन्हें रोजगार के मौके उपलब्ध कराएंगे.'' जनरल रावत ने कहा, ''इन क्षेत्र में हम युवाओं के लिए रिक्रूटमेंट रैली आयोजित करा सकते हैं. इसके बाद युवा सेना में भर्ती हो सकते हैं. पुलिस की रैली भी हमारे साथ आयोजित की जा सकती है.''





सरकार ने कहा था कि अनुच्‍छेद 370 के हटने से जम्‍मू-कश्‍मीर में रोजगार के बड़े मौके उपलब्‍ध होंगे. वहां पर उद्याेग धंधे खुलने से रोजगार मिलेगा. 5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विशेषाधिकार खत्म करते हुए अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म कर दिया था. इसके बाद अनुच्छेद 370 के तहत मिले उसे खास अधिकार समाप्त हो गए. लेकिन उसके बाद यहां पर सरकार ने एहतियातन कई पाबंदियां भी लगा दीं. हालांकि उसके बाद यहां कई हिस्सों में विरोध के सुर सुनाई दिए. लेकिन प्रशासन ने इन पर काबू पा लेने का दावा किया है. अब सरकार ने सभी पाबंदियां हटा ली हैं. हालांकि कई बड़े नेता अब भी घरों और होटलों में नजरबंद हैं. कुछ नेताओं को सरकार ने छोड़ दिया है.

यह भी पढ़ें:

Delhi Police Protest: देश की पुलिस को क्यों नहीं है हड़ताल की इजाजत
केंद्र ने पूछा-क्‍या ऊर्जा मंत्रालय में रहते EC लवासा ने किया पद का दुरुपयोग
अलीगढ़: पुलिस समेत कई सरकारी भवनों पर करोड़ों का बकाया, नहीं हो पा रही वसूली!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 6:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...