16 हजार फीट की ऊंचाई पर हुई सेना के जवान की सर्जरी, डॉक्टर्स ने ऑपरेशन कर निकाला अपेंडिक्स

खराब मौसम के कारण सैनिक को चॉपर की मदद से निकाला नहीं जा सकता था. (फोटो:ANI/Twitter)
खराब मौसम के कारण सैनिक को चॉपर की मदद से निकाला नहीं जा सकता था. (फोटो:ANI/Twitter)

भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे (General Manoj Mukund Narvane) जवानों की स्थिति जानने के लिए इलाकों का कई बार दौरा कर चुके हैं. ठंड के दौरान पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) का पारा -20 डिग्री सेल्सियस तक कम हो जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 6:06 PM IST
  • Share this:
लेह. एक ओर जहां डॉक्टर्स कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus pandemic) से जूझ रहे देश को बचाने की कोशिशों में लगे हुए हैं. वहीं दूसरी ओर तीन डॉक्टरों ने 16 हजार फीट की ऊंचाई पर एक जवान का इलाज कर इतिहास रच दिया है. डॉक्टर्स ने पूर्वी लद्दाख के फॉरवर्ड सर्जिकल सेंटर पर तैनात सैनिक का सफल ऑपरेशन कर अपेंडिक्स (Appendix) निकाल दिया है. खास बात है कि सैनिक को चॉपर की मदद से निकाला नहीं जा सकता था. यही कारण रहा कि डॉक्टर्स को इतनी ऊंचाई पर पहुंचकर सर्जरी करनी पड़ी.

स्थिर है सैनिक की हालत
आर्मी के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है 'फील्ड अस्पताल की एक सर्जिकल टीम ने 16 हजार फीट की ऊंचाई पर फॉरवर्ड सर्जिकल सेंटर में तैनात सैनिक के अपेंडिक्स हटाने के लिए इमरजेंसी सर्जरी (Emergency Surgery) की है.' उन्होंने बताया कि बुरे हालात का सामना करने के बावजूद डॉक्टर्स ने सर्जरी की और ऑपरेशन सफल हुआ. फिलहाल सैनिक की हालत स्थिर है.

यह सर्जरी 28 अक्टूबर बुधवार को की गई थी. सर्जरी करने वालो तीन डॉक्टर्स की टीम में एक लेफ्टिनेंट कर्नल, एक मेजर और एक कैप्टन शामिल थे. भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने जवानों की बेहतर स्थिति सुनिश्चित करने के लिए फॉरवर्ड लोकेशन पर कई दौरे किए हैं.



पहले भी ठंड का सामना कर चुकी है भारतीय सेना
सर्दियों का मौसम दस्तक दे चुका है और सीमा पर मौसम खराब होता जा रहा है. ऐसे पहले भी सियाचिन और कर्गिल-द्रास सेक्टर में ठंड का सामना कर चुकी भारतीय सेना दुश्मनों के मुकाबले मजबूत है. पूर्वी लद्दाख के हालात में सियाचिन (Siachen) से अलग नहीं हैं.

हालांकि, यहां का पारा (Temperature) सियाचिन जितना नीचे नहीं होता है. पूर्वी लद्दाख में सर्दियों के मौसम में पारा माइनस 20 डिग्री सेल्सियस (-20 Degree Celsius) तक गिर जाता है. जबकि, सियाचिन में 76 वर्ग किमी के इलाके में यह आंकड़ा माइनस 60 डिग्री सेल्सियस (-60 Degree Celsius) तक कम हो जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज