कोरोना से जंग में सेना के रिटायर्ड डॉक्टर भी उतरे, 600 को ड्यूटी पर किया जाएगा तैनात

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को इस बात की भी जानकारी दी गई कि सेना ने 720 बेड की व्यवस्था स्थानीय प्रशासन के लिए देश के अलग-अलग राज्यों में की है

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को इस बात की भी जानकारी दी गई कि सेना ने 720 बेड की व्यवस्था स्थानीय प्रशासन के लिए देश के अलग-अलग राज्यों में की है

Corona Situation in India: अस्पतालों में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की कमी न हो लिहाजा पिछले कुछ सालों में सेना से रिटायर हो चुके तकरीबन 600 डॉक्टरों को कोरोना डेयूटी के लिए बुलाया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में बढ़ते कोरोना वायरस पर रोक लगाने के लिए सेना ने पूरा तरह से मोर्चा संभाल लिया है. कोरोना के ख़राब होते हालातों को देखते हुए भारतीय सेना की तरफ से इस लड़ाई दिए जा रहे योगदान की समीक्षा भी खुद रक्षामंत्री कर रहे है. शनिवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सेना की तरफ से उठाए जा रहे क़दम और आगे की तैयारियों पर एक बैठक की.

बैठक में रक्षा मंत्री को ये जानकारी दी गई की अस्पतालों में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की कमी न हो लिहाजा पिछले कुछ सालों में सेना से रिटायर हो चुके तकरीबन 600 डॉक्टरों को कोरोना डेयूटी के लिए बुलाया गया है, जिससे अतिरिक्त डॉक्टर उपलब्ध हो गए हैं जिन्हें सेना और सिविल अस्पतालों में सहयोग के लिए तैनात किया गया है.

200 बैटल फ़ील्ड नर्सिंग असिस्टेंट भी कोरोना के खिलाफ जंग में शामिल

साथ ही नौसेना के 200 बैटल फ़ील्ड नर्सिंग असिस्टेंट को भी अलग-अलग सिविल अस्पतालों तैनात किया गया है. यही नहीं महाराष्ट्र, उत्तराखंड और हरियाण के कई जगह पर एनसीसी के कैडेट और स्टाफ ने अपनी सेवाएं देनी शुरू कर दी है. आधिकारिक जानकारी के अुसार तकरीबन 300 कैडेट और स्टाफ है जो की कोरोना ड्यूटी पर लगाए गए हैं.
अलग-अलग राज्यों में सेना ने की 720 बेड की व्यवस्था

साथ ही रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को इस बात की भी जानकारी दी गई कि सेना ने 720 बेड की व्यवस्था स्थानीय प्रशासन के लिए देश के अलग-अलग राज्यों में की है और जल्द ही हेल्थ वेट्रन के जरिए स्वास्थ संबंधी परामर्श के लिए टेली मेडेसिन सर्विस भी शुरू की जा रही है. राजनाथ सिंह को बताया गया कि इसके जरिए घर पर रह रहे मरीजों को परामर्श दिया जा सकेगा. रक्षामंत्री ने निर्देश दिए की इन सबकी जानकारी राज्य सरकारों तो दी जाए.

ये भी पढ़ेंः- भारत पहुंची रूस की कोरोना वैक्सीन 'स्पूतनिक V', तीसरे चरण के टीकाकरण में मिलेगी मदद



बैठक में मौजूद सीडीएस जन बिपिन रावत ने रक्षामंत्री को बताया कि लोकल मिलेट्री कमॉड स्थानीय प्रशासन के साथ संपर्क बनाए हुए है और उनकी मदद पूरी तरह से की जा रही है. डीआरडीओ की तरफ से बनाए जा रहे कोरोना अस्पताल की मौजूदा स्थिति के बारे में डीआरडीओ चेयरमैन ने जानकारी दी की जिसमें लखनऊ का 500 बेड का अस्पताल भी अगले 2-3 के भीतर संचालन शुरू हो जाएगा. वहीं, बनारस में बनाया जा रहा कोविड अस्पताल 5 मई तक पूरा हो जाएगा.



पीएम केयर फ़ंड से बनाए जा रहे 380 पीएसए प्लांट में से पहले चार ऑक्सीजन प्लॉट अगले हफ्ते तक दिल्ली में तैनात कर दिए जाएंगे. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने जिस तरह से ऑक्सीजन के कंटेनरों को विदेशों से भारत में लाने और भारत में एक राज्य से दूसरे राज्यों तक पहुंचाया जा रहा है

प्रधानमंत्री मोदी भी सेना अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं

बता दें कि राजनाथ सिंह के अलावा प्रधानमंत्री मोदी भी लगातार सेना के अधिकारियों के साथ संपर्क बनाए हुए हैं. समय-समय पर पीएम मोदी सेना के अधिकारियों के साथ मुलाक़ात भी कर रहे हैं. सीडीए बिपिन रावत, थलसेना प्रमुख जन एम एम नरवणे और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने अलग अलग दिन पीएम को सेना के तरफ से जानकारी दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज