'आर्मी फॉर अवाम' फॉर्मूला, जिसके सहारे कश्‍मीरियों का दिल जीतेगी सेना

News18Hindi
Updated: August 26, 2019, 7:48 PM IST
'आर्मी फॉर अवाम' फॉर्मूला, जिसके सहारे कश्‍मीरियों का दिल जीतेगी सेना
अनुच्‍छेद 370 (Article 370) में संशोधन के बाद कश्‍मीर (Kashmir) के हालात को लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर कई तरह के दुष्‍प्रचार किए जा रहे हैं. भारतीय सेना (Indian Army) ने इसका जवाब आर्मी फॉर अवाम (Army For Awam) फॉर्मूला से देने की तैयारी कर ली है.

अनुच्‍छेद 370 (Article 370) में संशोधन के बाद कश्‍मीर (Kashmir) के हालात को लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर कई तरह के दुष्‍प्रचार किए जा रहे हैं. भारतीय सेना (Indian Army) ने इसका जवाब 'आर्मी फॉर अवाम' (Army For Awam) फॉर्मूला से देने की तैयारी कर ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2019, 7:48 PM IST
  • Share this:
मोदी सरकार (PM Narendra Modi) द्वारा अनुच्‍छेद 370 (Article 370) में संशोधन के बाद कश्‍मीर (Kashmir) के हालात को लेकर सोशल मीडिया (Social Media) पर कई तरह के दुष्‍प्रचार किए जा रहे हैं. हालांकि भारतीय सेना (Indian Army) इसका जवाब देने के लिए तैयार है. सेना ने इस दुष्‍प्रचार का जवाब 'आर्मी फॉर अवाम' (Army For Awam) फॉर्मूला से देने की तैयारी की है.

इस अभियान के तहत सेना लोगों के बीच अपनी एक अलग छाप छोड़ने की कोशिश करेगी. सेना जम्‍मू-कश्‍मीर की अवाम को यह बताने की कोशिश करेगी कि जवान सिर्फ देश की सुरक्षा के लिए ही नहीं हैं, बल्कि विपरीत परिस्थितियों में वह लोगों की हरसंभव मदद कर सकते हैं.

इस अभियान के तहत देशभर में लोगों की सेवा कर रहे जवानों के कार्यों का सोशल मीडिया पर बढ़-चढ़कर प्रचार प्रसार किया जाएगा. ऐसा करने से सोशल मीडिया पर दुष्‍प्रचार करने वाले लोगों को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकेगा.

बाढ़ में देवदूत बने जवान

देश के कई राज्‍य इस समय बाढ़ की चपेट में हैं. इस दौरान कई ऐसी जानकारियां सामने आईं जिसमें थल और वायुसेना के जवान बाढ़ में फंसे लोगों के लिए देवदूत बनकर पहुंचे और काफी मशक्‍कत करके बाहर निकालकर उनकी जान बचाई. सेना के कई ऐसे ऑपरेशन सामने आए हैं. दुर्गम इलाकों में फंसे कई लोगों की भी उन्‍होंने जान बचाई है.

बाढ़ में फंसी एक लड़की की जान बचाते हुए जवान (फाइल फोटो)


सेना का एक विशेष विंग रेस्‍क्‍यू ऑपरेशनों को लेकर सोशल मीडिया पर एक्टिव हो गया है. वह सेना द्वारा किए गए विभिन्‍न रेस्‍क्‍यू ऑपरेशनों को सोशल मीडिया पर वायरल कर रहा है. जवानों के जज्‍बे का प्रचार करने के लिए ऐसा किया जा रहा है.
Loading...

वहीं इस समय घाटी भी बाढ़ की चपेट में है. ऐसे में वहां जवानों द्वारा किए गए रेस्‍क्‍यू ऑपरेशनों पर विशेष फोकस रहेगा. जिससे अनुच्‍छेद 370 में संशोधन के बाद घाटी में सेना को लेकर दुष्‍प्रचार करने वाले लोगों को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके.

ऐसे कामों का हो रहा है प्रचार
- अभी कुछ दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर में हो रही बारिश के चलते तवी नदी का जलस्तर बढ़ गया है. लगातार हो रही बारिश के कारण जम्मू शहर के कई इलाकों में बारिश का पानी भर गया था. जगह-जगह जलभराव होने के कारण लोगों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा. बाढ़ की भयानक तस्वीरों के बीच एक ऐसा वीडियो सामने आया था जिसे देखकर कोई भी डर जाए. इस वीडियो में जम्मू के एक निर्माणाधीन पुल के पास कुछ लोग बैठे हैं और उनके चारों ओर तेज बहाव के साथ तवी नदी का पानी निकल रहा है. घटना की जानकारी मिलते ही सेना ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया है. हेलीकॉप्टर की मदद से एक जवान कमर में रस्सी बांधकर नीचे उतरा और उसने दोनों लोगों को बचा लिया.

तवी नदी की बाढ़ में फंसे लोगों को सेना ने रेस्क्यू कर बचाया


- कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले के मडीगेरे इलाके में आई बाढ़ का पानी उतरने लगा है तो राहत कार्यों में जुटे जवान वहां से जाने की तैयारी करने लगे. जब उनकी वापसी होने लगी तो बाढ़ प्रभावित ग्रामीणों की आंखें नम हो गईं. लोग जज्‍बाती हो गए. जब जवान ट्रकों में अपना सामान लाद रहे थे तो गांव वाले कतार में खड़े हो गए और फिर सभी ने हाथ जोड़कर उनका तहेदिल से शुक्रिया अदा किया. इस माहौल में ग्रामीण अपनी आंखों में आंसू नहीं रोक सके. ऐसे में वह बाढ़ से सामान और पशुधन के बहने का दर्द भी शायद भूल गए थे.

बचाव कार्य की तैयारी करते जवान (फाइल फोटो)


- कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही थी. जिसमें राहत शिविरों में रह रही महिलाओंं ने राहत कार्यों में लगे जवानों की आरती उतारी, राखी बांधी और टीका किया. एक महिला ने रूंधे हुए गले से कहा, 'भगवान तुम्हारा भला करे. वह तुम्हें और तुम्हारे परिवार को सुखी और संपन्न बनाए.' इस वाकया भी कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले का ही है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 26, 2019, 6:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...