Assembly Banner 2021

बड़गाम में छुट्टी पर आए सेना के जवान का अपहरण, घर से उठा ले गए आतंकी

मोहम्मद यासीन भट्ट महीने भर की छुट्टियों पर 26 फरवरी को अपने घर आए थे.

मोहम्मद यासीन भट्ट महीने भर की छुट्टियों पर 26 फरवरी को अपने घर आए थे.

आतंकियों ने बड़गाम स्थित आवास से सेना के जवान का अपहरण किया है. वह छुट्टी पर था.

  • Share this:
जम्मू और कश्मीर स्थित बड़गाम में सेना के एक जवान का आतंकियों ने अपहरण कर लिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बड़गाम के चडोरा इलाके में यह घटना हुई.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आतंकियों ने बड़गाम स्थित आवास से सेना के जवान का अपहरण किया है. वह छुट्टी पर था. मिली जानकारी के अनुसार जवान जम्मू और कश्मीर लाइट इंफैंट्री यूनिट में कार्यरत था.

अधिकारियों ने बताया कि यासीन 26 फरवरी को एक महीने की छुट्टी पर घर आया था. जवान का पता लगाने के लिए एक तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. अधिकारियों ने कहा कि पुलिस और सेना की संयुक्त टीम को उसके गांव भेजा गया है. पुलवाता आतंकी हमले के बाद ऐसे समय में जवान का अपहरण किया गया है जब सीमा पर हालात तनावपूर्ण हैं. माहौल को संजीदा देखते हुए जम्मू कश्मीर को हाई अलर्ट पर रखा गया है.



ये भी पढ़ें: ये हैं सरकार की तरफ से राफेल पर दिए गए 7 'सुपरहिट' बयान, सोशल मीडिया पर छिड़ी जबर्दस्त बहस
हालांकि आतंकियों द्वारा अंजाम दी गई यह ऐसी पहली घटना नहीं है. पिछले साल जून के रमज़ान के पाक महीने में जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने अगवा किए सेना के जवान औरंगजेब की हत्या कर दी. उसके बाद औरंगजेब की मौत से पहले उनका आखिरी वीडियो भी सामने आया था. उस वक्त ऐसा बताया गया कि आतंकियों ने हत्या से पहले ये वीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया.

ये भी पढ़ें: राफेल विवादः 'दस्तावेजों की चोरी' के बाद उठ रहे हैं ये सवाल, जानें क्या है ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट?

इस वीडियो में साफ तौर पर दिख रहा था कि हत्या से पहले औरंगजेब को काफी टॉर्चर भी किया गया था. औरंगजेब के कपड़ों में मिट्टी लगी थी, जिससे लग रहा कि गोलियों से छलनी करने से पहले उन्हें आतंकियों ने पीटा भी था. ईद की छुट्टी मनाने घर जा रहे औरंगजेब को आतंकवादियों ने रास्ते से ही अगवा कर दिया था. गोलियों से छलनी जवान का शव पुलवामा जिले के गुस्सू इलाके में मिला था. उनके सिर, चेहरे और गर्दन पर गोलियों के निशान मिले. औरंगजेब 4-जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फेंटरी के शादीमार्ग (शोपियां) स्थित 44 राष्ट्रीय राइफल में तैनात थे.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज