लाइव टीवी

अम्फान तूफान से 'बरबाद' बंगाल के लिए ममता ने मांगी मदद, केंद्र ने भेजी सेना

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 7:59 PM IST
अम्फान तूफान से 'बरबाद' बंगाल के लिए ममता ने मांगी मदद, केंद्र ने भेजी सेना
ममता बनर्जी ने कहा था कि बंगाल को अम्फान से करीब 1 लाख करोड़ का नुकसान हुआ है (फाइल फोटो)

गृह विभाग (Home Department) ने एक के बाद एक सिलसिलेवार ट्वीट्स में कहा कि लॉकडाउन (Lockdown) की पाबंदियों के बावजूद राज्य ने ज्यादातर लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया है, लेकिन इसमें उसे और मदद की जरूरत है.

  • Share this:
कोलकाता. अम्फान तूफान के कारण बुरी तरह तहस-नहस हुए पश्चिम बंगाल के जरूरी बुनियादी ढांचे और सेवाओं आवश्यक बुनियादी ढांचे और सेवाओं (essential infrastructure and services) की की बहाली के लिए शनिवार को कोलकाता और उसके आस-पास के जिलों में सेना को तैनात किया गया है. एक रक्षा अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि सेना की पांच टुकड़ियां कोलकाता और उत्तर तथा दक्षिण 24 परगना जिले के विभिन्न हिस्सों में तैनात किए गए है. राज्य के इन तीन हिस्सों में ही चक्रवात के कारण सबसे अधिक नुकसान की खबर है. एक कॉलम में 35 सैनिक शामिल हैं, जिनमें अधिकारी और जूनियर कमीशन अधिकारी भी होते हैं.

इससे पहले ममता बनर्जी सरकार (Mamata Banerjee Government) ने केंद्र से सेना भेजने की मांग की थी. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के गृह विभाग ने शनिवार को यह जानकारी दी. राज्य में चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) से बड़े पैमाने पर तबाही हुई है. यहां रेलवे, पोर्ट, बिजली और टेलिफोन लाइनों सहित सब तहस-नहस हो गया है. राज्य में इन्हें दुरुस्त करने की कोशिशों में मदद के लिए सेना की सहायता मांगी है.

गृह विभाग (Home Ministry) ने एक के बाद एक सिलसिलेवार ट्वीट्स में कहा कि लॉकडाउन (Lockdown) की पाबंदियों के बावजूद राज्य ने ज्यादातर लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया है, लेकिन इसमें उसे और मदद की जरूरत है.



100 से ज्यादा विभागों और संस्थाओं की टीमें गिरे पेड़ों को हटाने में जुटीं



एक अन्य ट्वीट में गृह विभाग ने कहा, 'विभिन्न विभागों और संस्थाओं की 100 से ज्यादा टीमें गिरे हुए पेड़ों को हटाने का काम कर रही हैं, जो कि स्थानीय इलाकों में बिजली व्यवस्था सुचारू करने के लिए जरूरी है.'

इसमें कहा गया है बंगाल सरकार रेलवे, बंदरगाह प्राधिकरण और निजी क्षेत्र के पास भी आगे के बड़े काम में मदद की उम्मीद लेकर पहुंच चुकी है.

विभाग ने कहा कि पीने का पानी और पानी की निकासी के लिए आधारभूत ढांचे को तेजी से बहाल किया जा रहा है और पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग विभाग से उन इलाकों में पानी की थैलियां वितरित करने के कहा गया है जहां अभी समस्या है.

गृह विभाग ने कहा, 'जहां जरूरत है वहां जनरेटरों को किराये पर लिया जा रहा है. विभिन्न विभागों और निकायों के 100 से ज्यादा दल गिरे हुए पेड़ों को काटने में लगे हुए हैं जो मुहल्लों में बिजली की आपूर्ति बहाल करने के लिये अहम है.'

उसने कहा, 'WBSEDCL और CESC से अधिकतम कर्मियों को लगाने को कहा गया है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से तैनाती क्षमता काफी प्रभावित हुई है. पुलिस हाई अलर्ट पर है.'

कोलकाता और पड़ोसी जिलों में चक्रवात के तीन दिन बाद भी बिजली, पानी की आपूर्ति बहाल नहीं होने पर लोगों के प्रदर्शन के बाद यह घोषणा की गई. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से धैर्य बनाए रखने को कहा है क्योंकि प्रशासन सामान्य स्थिति बहाल करने में लगातार लगा हुआ है.

सीएम ममता बनर्जी ने लगाया था बंगाल को 1 लाख करोड़ का नुकसान होने का अनुमान
1999 के महाचक्रवात (Supercyclone) के बाद बंगाल की खाड़ी में सबसे भयंकर तूफान, चक्रवात अम्फान, बुधवार दोपहर को सुंदरबन में सागर द्वीप के लगभग 20 किलोमीटर पूर्व में जमीन से टकराया था, जिसके बाद सड़क संपर्क कट गया था, दूरसंचार और बिजली लाइनें कट गई थीं. इसने पश्चिम बंगाल में 85 लोगों की जान ले ली थी, जिसमें लगभग 15 राज्य की राजधानी कोलकाता से हैं.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को राज्य के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा था कि चक्रवात से राज्य में 1 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. वहीं पीएम मोदी ने 1,000 करोड़ रुपये की अंतरिम राहत सहायता की घोषणा की थी. उन्होंने बंगाल की मुख्यमंत्री बनर्जी की दोगुनी त्रासदी से निपटने के लिए प्रशंसा भी की थी. बता दें बंगाल पहले से ही कोरोना वायरस बीमारी (कोविड-19) के प्रकोप से जूझ रहा है. (भाषा इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें: इस मेडिकल शॉप की तस्वीर अचानक हुई वायरल, आखिरकार क्या है खास? देखिए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 5:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading