होम /न्यूज /राष्ट्र /एक झटके में रास्ते की बाधाएं पार कर पाएगी सेना, कल मिलेगा ये 'ब्रीजिंग सिस्टम'

एक झटके में रास्ते की बाधाएं पार कर पाएगी सेना, कल मिलेगा ये 'ब्रीजिंग सिस्टम'

ये ब्रीजिंग सिस्टम मेक इन इंडिया के तहत बनाए गए हैं. (तस्वीर-ANI)

ये ब्रीजिंग सिस्टम मेक इन इंडिया के तहत बनाए गए हैं. (तस्वीर-ANI)

ब्रीजिंग सिस्टम (Bridging System) सेना को भौगोलिक बाधाएं जैसे नदी, नहर या पहाड़ी जगहों पर पुलनुमा व्यवस्था के जरिए आगे ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. भारतीय सेना (Indian Army) को शुक्रवार को मेक इन इंडिया (Make In India) के तहत 12 शॉर्ट स्पैन ब्रीजिंग सिस्टम मिल जाएंगे. ब्रीजिंग सिस्टम सेना को भौगोलिक बाधाएं जैसे नदी, नहर या पहाड़ी जगहों पर पुलनुमा व्यवस्था के जरिए आगे बढ़ने में मदद करेगा. 10 मीट लंबी ये मशीन भारत में ही बनाई गई है. ये 12 ब्रीजिंग सिस्टम अभी सेनाओं को विशेष तौर पर पाकिस्तान के साथ लगने वाली पश्चिमी सीमाओं (Western Borders) पर इस्तेमाल करने के लिए दिए जा रहे हैं.

    सेना के अधिकारियों ने बताया है कि ये सिस्टम शुक्रवार को दिल्ली कैंट में आर्मी चीफ एमएम नरवणे द्वारा इंजीनियर्स कॉर्प्स के हवाले किए जाएंगे. इनकी कीमत 492 करोड़ रुपए है. इस सिस्टम को भारतीय सेना के इंजीनियर्स ने डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) के साथ मिलकर विकसित किया है. और इसे लारसेन एंड टूब्रो (L&T) द्वारा बनाया गया है.

    ये सिस्टम 70 टन तक का टैंक उठा सकने में सक्षम
    सेना के अधिकारियों ने कहा है कि बीते साल कोरोना महामारी की वजह से उद्योगों पर प्रतिबंधों के बावजूद इस आधुनिक ब्रिजिंग सिस्टम की डेलिवरी बिल्कुल टाइम पर की जा रही है. ये सिस्टम 70 टन तक का टैंक उठा सकने में सक्षम है.

    पश्चिमी सीमा पर किसी भी तरह की विषम परिस्थिति में ये बड़े गेम चेंजर साबित हो सकते हैं
    देश की पश्चिमी सीमाओं पर पड़ने वाली किसी भी तरह की जल बाधा को ये सिस्टम बेहद आसानी के साथ पार कर सकते हैं. ये सिस्टम इंजीनियर्स कॉर्प्स की वर्तमान ब्रीजिंग क्षमता में अभूतपूर्व तरीके से बढ़ातरी करेंगे. भविष्य में देश की पश्चिमी सीमा पर किसी भी तरह की विषम परिस्थिति में ये बड़े गेम चेंजर साबित हो सकते हैं.

    Tags: General MM Naravane, Indian army, Indian Army Pride, Indian Army Pride Stories

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें