अपना शहर चुनें

States

रणनीति के मोर्चे पर मजबूत होगी सेना, मई में शुरू होगी पहली संयुक्त कमांड

सरकार चाहती थी कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत तीन सालों में तीनों सैन्य सेवाओं के बीच एकता लाएं. (फाइल फोटो)
सरकार चाहती थी कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत तीन सालों में तीनों सैन्य सेवाओं के बीच एकता लाएं. (फाइल फोटो)

First Joint Commands: इस व्यवस्था के तहत सेना, वायुसेना और नौसेना की एक तय यूनिट को एक थिएटर कमांडर के अधीन रखना है. इन कमांड्स का नेतृत्व तीनों सेनाओं में से किसी का भी अधिकारी कर सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 9:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेना में लंबे समय से चली आ रही थिएटर कमान (Theatre Command) की खबरों पर अब विराम लगने वाला है. मामले से जुड़े जानकारों की मानें तो एयर डिफेंस कमांड (Air Defence Command) और मैरिटाइम थिएटर कमांड (Maritime Theatre Command) मई में लॉन्च होने जा रही हैं. खास बात यह है कि मौजूदा हालात में भारत सीमा पर चीन (China) और पाकिस्तान (Pakistan) से तल्ख रिश्तों का सामना कर रहा है. ऐसे में सेना सुरक्षा हालातों के मद्देनजर अपने संसाधनों का बेहतर ढंग से इस्तेमाल करने पर विचार कर रही है.

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया 'दो कमांड्स की स्थापना को लेकर सत्यापन का काम जारी है. अथॉरिटी, कमांड, नियंत्रण ढांचे और बजट को लेकर चीजें ठीक की जा रही हैं.' चीन की तरफ से पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC)  और पाकिस्तान की तरफ से जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (LOC) पर हालात तनावपूर्ण हैं.

क्या होंगी सेना की भूमिकाएं
प्रयागराज में आने वाली एयर डिफेंस अप्रैल में स्थापित होगी. यह तीनों सैन्य सेवाओं की एयर डिफेंस रिसोर्सेज को नियंत्रित करेगी. एयर डिफेंस के पास हवाई दुश्मनों से सेना की संपत्तियों को बचाने की जिम्मेदारी होगी. इसका कमांडर भारतीय वायुसेना का थ्री-स्टार अधिकारी होगा.
वहीं, मैरिटाइम कमांड का हेडक्वार्टर करवर में पश्चिमी कोस्ट पर होगा. इस कमांड का काम भारत को जलमार्गों से आने वाले खतरों से बचाना होगा. इसके आधीन सेना और वायुसेना की कई चीजें होंगी. मैरिटाइम थिएटर कमांड का कमांडर इन चीफ भारतीय वायुसेना का टॉप थ्री-स्टार अधिकारी होगा.



यह भी पढ़ें: चीन के हर कदम पर कड़ी नजर, भारतीय सेना के टॉप कमांडर कर रहे निगरानी

क्या है थिएटर कमांड और इनका संयुक्त होना क्यों है जरूरी
इस व्यवस्था के तहत सेना, वायुसेना और नौसेना की एक तय यूनिट को एक थिएटर कमांडर के आधीन रखना है. इन कमांड्स का नेतृत्व तीनों सेनाओं में से किसी का भी अधिकारी कर सकता है. फिलहाल सीडीएस जनरल बिपिन रावत के पास तीन जिम्मेदारियां हैं. वे COSC के स्थायी अध्यक्ष हैं, डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स के प्रमुख हैं और साथ ही रक्षा मंत्री के लिए सैन्य सलाहकार भी हैं.

सरकार चाहती थी कि रावत तीन सालों में तीनों सैन्य सेवाओं के बीच एकता लाएं. ऐसे में तीनों सेनाओं को संयुक्त बनाने का एक तरीका थिएटर कमांड है. इसकी मदद से भविष्य में होनी वाली जंगों में सेनाओं के संसाधनों का बेहतर हो सकेगा. रावत ने भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के तौर पर 1 जनवरी 2020 को जिम्मेदारी संभाली संभाली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज