रोहित शेखर हत्याकांड: तिहाड़ जेल में भविष्य पढ़ना सीख रही है आरोपी पत्नी अपूर्वा

रोहित शेखर हत्याकांड: तिहाड़ जेल में भविष्य पढ़ना सीख रही है आरोपी पत्नी अपूर्वा
डॉ प्रतिभा सिंह ने कहा कि 36 साल की वकील अपूर्वा पांच-छह साल से टैरो कार्ड रीडिंग सीखना चाहती थी, लेकिन किसी न किसी कारण से वह ऐसा कर नहीं पा रही थीं.

डॉ प्रतिभा सिंह ने कहा कि 36 साल की वकील अपूर्वा पांच-छह साल से टैरो कार्ड रीडिंग सीखना चाहती थी, लेकिन किसी न किसी कारण से वह ऐसा कर नहीं पा रही थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 14, 2019, 11:45 PM IST
  • Share this:
दिवंगत राजनेता पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की हत्या के आरोप में उनकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला जेल में बंद है. जेल सूत्रों से खबर मिली है कि अपूर्वा ने जेल में टैरो कार्ड रीडिंग और गुप्तकालीन कला सीखने में गहरी दिलचस्पी दिखाई है.

जेल में मंगलवार और शुक्रवार दो दिन कार्ड रिडिंग का सेशन होता है. इस दौरान अपूर्वा पहली लाइन में बैठती हैं. यह बात करीब डेढ़ साल से जेल में क्लास ले रही डॉक्टर प्रतिभा सिंह ने बताई है.

उन्होंने बताया कि अपूर्वा ने शुरुआत में मुझसे संपर्क किया था. अब तक हमने अब तक सात क्लास पूरी कर ली हैं. अपूर्वा हमेशा से क्लास में शामिल होने की कोशिश करती है. यहां तक कि एक बार वह अदालत की सुनवाई की वजह से क्लास अटेंड नहीं कर सकी थी जिसके लिए बाद में उसने पछतावा भी ज़ाहिर किया.



5-6 साल से सीखना चाहती थी ये काम
डॉ प्रतिभा सिंह ने कहा कि 36 साल की वकील अपूर्वा पांच-छह साल से टैरो कार्ड रीडिंग सीखना चाहती थी, लेकिन किसी न किसी कारण से वह ऐसा कर नहीं पा रही थीं. उन्होंने कहा कि हत्यारोपी अपूर्वा शांत रहती हैं और उनका आत्मविश्वास और उत्साह दिखता है.



जेल के सूत्रों से जानकारी मिली है कि अपूर्वा वूमेन्स सेल में है. उसे अपनी भाभी के साथ शराब पीने को लेकर रोहित शेखर के साथ हुए विवाद और दम घुटने और गला दबाने के लिए कोई खेद नहीं है. बता दें 15 और 16 अप्रैल की दरम्यानी रात को रोहित शेखर की मौत हो गई थी.

इसलिए की थी हत्या
पुलिस ने कहा कि अपूर्वा को हत्या के लिए प्रेरित करने में उनकी और रोहित का अशांत और दुखी शादीशुदा ज़िंदगी थी. साथ ही रोहित शेखर ने अपनी संपत्ति का हिस्सा अपनी भाभी के बेटे को देने की योजना बनाई थी.

उसने कहा तिहाड़ जेल में, अपूर्व ने डॉ. सिंह की सात कक्षाओं में कुल 78 कार्डों में से 15 को पढ़ना सीख लिया है. उन्होंने बताया कि अपूर्वा ने नोट्स लिए हैं और अपना संदेह भी साफ़ किया है. डॉ प्रतिभा सिंह ने बताया कि हम अंग्रेजी और हिंदी में कक्षाएं देते हैं, अपूर्वा अंग्रेजी में कक्षाएं लेना पसंद करती हैं. उन्होंने मुझसे अंग्रेजी में टैरो कार्ड का पूरी जानकारी देने का अनुरोध किया है.

रोहित की हत्या करके कोई पछतावा नहीं
सूत्रों ने बताया कि अपने पहले सेशन के दौरान जब अपूर्वा से पूछा गया था कि क्या उसे कोई पछतावा है तो उसने कहा, मुझे कोई पछतावा नहीं है, यह मेरे भाग्य में लिखा था, जो ठीक है.

शुरुआत में अपूर्वा जिद्दी नज़र आ रही थीं. सूत्रों ने कहा कि उसमें तब से सुधार दिख रहा है जब से किसी ने उससे हर किसी को माफ करने की बात कही है हालांकि ऐसा किसने कहा है अपूर्वा ने उस व्यक्ति के नाम का खुलासा नहीं किया है. उन्होंने कहा कि वह जप के सत्र में भाग लेती हैं और उनके प्रिंटेड नोट्स भी लेती हैं.

प्रतिभा सिंह ने कहा कि वह काफी जागरूक हैं और हर सत्र से सीखने के साथ तैयार रहती हैं. ये सत्र कैदियों को तनाव मुक्त करते हैं, उनकी आत्मा को शुद्ध करते हैं और उन्हें उनके टैरो सेशन और रोज़ाना की ज़िंदगी पर फोकस करने के लिए सकारात्मक ऊर्जा देते हैं. कई कैदियों से मैंने ऐसा सुना है.

ये भी पढ़ें-
मैरिज सर्टिफिकेट लेने पहुंचे शख्स से कहा- फिर से करो शादी

अजितेश के पिता बोले- बच्चे विधायक जी के पैर छूकर मांगे माफी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading