कश्मीर : जुमे की नमाज़ के बाद कई जगह प्रदर्शन, फिर से पाबंदियां लगाई गईं

भाषा
Updated: August 23, 2019, 9:19 PM IST
कश्मीर : जुमे की नमाज़ के बाद कई जगह प्रदर्शन, फिर से पाबंदियां लगाई गईं
जुमे की नमाज़ के बाद कश्मीर के कई जगह प्रदर्शन

श्रीनगर (Srinagar) के बाहरी हिस्से में स्थित सौरा इलाके में जुमे (शुक्रवार को दोपहर) की नमाज़ (Friday Prayer) के बाद करीब 300 लोगों ने प्रदर्शन किया. उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों (Security forces) ने बार-बार उद्घोषणा करके और 'हल्के लाठी चार्ज' से भीड़ को तितर-बितर कर दिया गया.

  • Share this:
आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से जारी पाबंदियां कश्मीर (Kashmir) के कुछ इलाकों में अभी भी जारी हैं. शुक्रवार के दिन जुमे की नमाज़ (Friday Prayer) के मद्देनज़र ज्यादातर इलाकों में इन पाबंदियों में ढील दी गई थी. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) प्रशासन के मुताबिक जुमे की नमाज़ के बाद कश्मीर के कुछ इलाकों में प्रदर्शन हुए लेकिन घाटी के अधिकतर हिस्सों में शांति बनी रही. इन प्रदर्शनों के मद्देनज़र प्रशासन ने फिर से पाबदियां लगा दी हैं.

अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर के बाहरी हिस्से में स्थित सौरा इलाके में जुमे (शुक्रवार को दोपहर) की नमाज़ के बाद करीब 300 लोगों ने प्रदर्शन किया. उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों ने बार-बार उद्घोषणा करके और 'हल्के लाठी चार्ज' से भीड़ को तितर-बितर कर दिया गया. अधिकारियों ने बताया कि अलगाववादियों की ओर से पोस्टर जारी किए गए थे जिनमें लोगों से संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक समूह (यूएनएमओजीआईपी) के स्थानीय कार्यालय तक मार्च की अपील की गई थी. इसके बाद श्रीनगर के कई इलाकों और घाटी के अन्य हिस्सों में फिर से पाबंदियां लगा दी गई हैं.

प्रदर्शन के बाद कश्मीर में पाबंदियां फिर से लागू की गई हैं.


अलगाववादियों ने लगाए पोस्टर

अलगाववादियों के समूह 'ज्वाइंट रेजिस्टेंस लीडरशिप' (जेआरएल) की ओर से पोस्टरों में लोगों से संयुक्त राष्ट्र के सैन्य पर्यवेक्षक समूह के स्थानीय कार्यालय तक मार्च करने का आह्वान किया गया है. यह आह्वान जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने के विरोध में किया गया. अलगाववादियों का दावा है कि अनुच्छेद 370 को खत्म करने का केंद्र का कदम राज्य की जनसांख्यिकी में बदलाव की कोशिश है.

अधिकारियों ने बताया कि लोगों को लाल चौक और सोनावर जाने से रोकने के लिए शहर में कई जगह अवरोधक और कंटीले तार लगाए गए हैं. संयुक्त राष्ट्र का कार्यालय इसी इलाके में है. कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए जगह-जगह सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं. इस हफ्ते के शुरू में, कश्मीर के अधिकतर इलाकों में पाबंदियों में ढील की गई थी और अवरोधकों को हटाया जा रहा था. लोगों और यातायात की आवाजाही आहिस्ता-आहिस्ता बढ़ रही थी.

घाटी के ज्यादातर इलाकों में रही शांति, कुछ जगह हुए प्रदर्शन (प्रतीकात्मक फोटो)

Loading...

आर्टिकल 370 हटाने के बाद से लगी हैं पाबंदियां
केंद्र सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को रद्द कर दिया था और राज्य को जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था. इसके बाद से ही घाटी में बाज़ार और मोबाइल तथा इंटरनेट सेवा बंद है. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत कई नेताओं को तभी से एहतियाती हिरासत में रखा गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 8:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...