• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • अनुच्छेद 370 को खत्म हुए दो साल पूरे, जम्मू-कश्मीर के इन 5 बड़े बदलावों को जानें

अनुच्छेद 370 को खत्म हुए दो साल पूरे, जम्मू-कश्मीर के इन 5 बड़े बदलावों को जानें

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35(A) को समाप्त हुए दो साल पूरे हो गए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Jammu-Kashmir Without Article 370: दो सालों के बाद भी राज्य में सियासी उथल-पुथल जारी है. कई राजनीतिक दल जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा दोबारा दिलाने के लिए काम कर रहे हैं. अब एक नजर उन पांच बड़े बदलावों पर डालते हैं, जिनका गवाह पूरा देश बना...

  • Share this:

    श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद 370 और 35 (A) को समाप्त हुए दो साल पूरे हो गए हैं. इसके बाद राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों- लद्दाख (Ladakh) और जम्मू-कश्मीर में बांटा गया था. संविधान के इन्हीं हिस्सों के चलते जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा मिला था और अपने मूल निवासी नियम तय करने का अधिकार प्राप्त था. हालांकि, दो सालों के बाद भी क्षेत्र में सियासी उथल-पुथल जारी है. कई राजनीतिक दल जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा दोबारा दिलाने के लिए काम कर रहे हैं.

    अब एक नजर उन पांच बड़े बदलावों पर डालते हैं, जिनका गवाह पूरा देश बना…

    बाहर के लोग भी खरीद सकते हैं जमीन: बीते साल अक्टूबर में केंद्र सरकार ने अन्य राज्यों में रहने वाले लोगों के लिए भी जम्मू-कश्मीर में जमीन खरीदने का रास्ता तैयार कर दिया था. सरकार की तरफ से केंद्र शासित प्रदेश में जमीन विक्रय से जुड़े जम्मू-कश्मीर विकास अधिनियम की धारा 17 से वह वाक्य हटा दिया था, जिसमें राज्य के स्थायी रहवासी की बात की गई थी. हालांकि, इस संशोधन के बाद भी कुछ मामलों के छोड़कर सरकार ने कृषि भूमि को गैर किसानों को दिए जाने की अनुमति नहीं दी है.

    बाहर के लोग भी खरीद सकते हैं जमीन. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

    स्थानीय महिलाओं के पति भी बन सकेंगे मूल निवासी: जुलाई में हुए नियमों में बदलाव के बाद जम्मू-कश्मीर के बाहर अन्य राज्यों में शादी करने वाली महिलाओं के पति भी मूल निवासी प्रमाण पत्र हासिल कर सकेंगे. इसके चलते वे यहां संपत्ति भी खरीद सकेंगे या सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन दे सकेंगे. केंद्र शासित प्रदेश में 15 सालों तक रहने वाले या सात साल तक पढ़ाई करने और क्षेत्र की 10वीं या 12वीं बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले लोग और उनके बच्चे भी मूल निवासी का दर्ज हासिल कर सकेंगे.

    भारत का झंडा लहराया: अनुच्छेद 370 हटने के बाद श्रीनगर के शासकीय सचिवालय में भारतीय तिरंगा लहराया गया. जबकि, इस दौरान राज्य का अपना ध्वज गायब था.

    पत्थरबाजों के लिए नियम सख्त किए गए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

    पत्थरबाजों के लिए नियम सख्त: 31 जुलाई को जारी हुए आदेश के बाद पत्थरबाज पासपोर्ट और सरकारी सेवाओं का लाभ नहीं ले सकेंगे. जम्मू-कश्मीर पुलिस की सीआईडी विंग ने पत्थरबाजी या विध्वंस में शामिल लोगों को पासपोर्ट और सरकारी सेवाओं के लिए सिक्योरिटी क्लीयरेंस देने से मना कर दिया है.

    गुपकर गठबंधन के सदस्य.(फाइल फोटो: PTI)

    गुपकर गठबंधन का तैयार होना: 5 अगस्त को कई राजनीति नेता औऱ कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया था. इसमें तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्लाह और उनके पिता फारूख अब्दुल्लाह का नाम शामिल है. उमर और फारूख अब्दुल्लाह को मार्च 2020 में छोड़ दिया गया था. जबकि, पीडीपी प्रमुख मुफ्ती को बीते साल अक्टूबर में रिहा किया गया. इसके बाद इन नेताओं ने कश्मीर की चार अन्य पार्टियों के साथ मिलकर एक अनौपचारिक गठबंधन का ऐलान किया. इस गठबंधन का प्रमुख मकसद क्षेत्र के विशेष दर्जे को वापस दिलाना है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज