मशहूर कलाकार सतीश गुजराल का दिल्ली में निधन, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

सतीश गुजराल (Satish Gujaral)  की फाइल फोटो
सतीश गुजराल (Satish Gujaral) की फाइल फोटो

सतीश गुजराल (Satish Gujaral) का गुरुवार को दिल्ली में निधन हो गया. वह 94 वर्ष के थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 3:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मशहूर कलाकार और वास्तुकार सतीश गुजराल (Satish Gujaral) का निधन हो गया है. वह 94 वर्ष के थे. कला जगत से ताल्लुक रखने वाले रंजीत होसकोटे ने शुक्रवार को बताया कि गुजराल का गुरुवार देर रात यहां निधन हो गया. उन्होंने बताया, 'वह पिछले कुछ वक्त से अस्वस्थ थे.' पद्म विभूषण से सम्मानित गुजराल वास्तुकार, चित्रकार, भित्तिचित्र कलाकार और ग्राफिक कलाकार थे. उनके प्रमुख कामों में दिल्ली उच्च न्यायालय के बाहर की दीवार पर अल्फाबेट भित्तिचित्र शामिल हैं. उन्होंने दिल्ली में बेल्जियम दूतावास को भी डिजाइन किया था. सतीश गुजराल भारत के पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के छोटे भाई थे.

गुजराल की कलाकृतियों में उनके शुरुआती जीवन के उतार-चढ़ाव की झलक देखने को मिलती है जिनमें बचपन में उनके सुनने की क्षमता को बाधित करने वाली बीमारी और देश का विभाजन शामिल है. उनका जन्म 1925 को लाहौर में हुआ था. होसकोटे ने अपनी संवेदनाएं जताते हुए ट्वीट किया, '1950 की शुरुआत में पेरिस या लंदन गए उनके कई साथियों से अलग गुजराल डिएगो रिवेरा और सिक्वेरोस के साथ पढ़ने के लिए मेक्सिको शहर गए थे. गुजराल बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें.'

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दी श्रद्धांजलि
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने मशहूर चित्रकार और लेखक सतीश गुजराल के निधन पर दुख व्यक्त किया. नायडू ने ट्वीट कर कहा, 'सुप्रसिद्ध कलाकार सतीश गुजराल जी के निधन पर शोक व्यक्त करता हूं और ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं.' उन्होंने कहा, 'ईश्वर उनके परिजनों और उनकी कृतियों के असंख्य प्रशंसकों को धैर्य और सांत्वना दें. सतीश गुजराल जी का निधन भारतीय कला जगत के लिए अपूरणीय क्षति है.'
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मशहूर कलाकार एवं वास्तुकार सतीश गुजराल के निधन पर शुक्रवार को शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी दृढ़ प्रतिबद्धता ने उन्हें प्रतिकूल परिस्थितयों से उबरने में मदद की. मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि सतीश गुजराल बहुमुखी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति थे. वह अपनी रचनात्मकता और दृढ़ प्रतिबद्धता के कारण सम्मान पाते थे, जिसने उन्हें प्रतिकूल परिस्थितयों से उबरने में मदद दी. उन्होंने कहा कि गुजराल की बौद्धिक जिज्ञासा उन्हें काफी आगे ले गई. प्रधानमंत्री ने कहा, 'उनके निधन से दुखी हूं. ओम शांति.'



यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस में नहीं हो रहा म्‍यूटेशन, लंबे समय तक कारगर होगी बनने वाली दवा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज