अरुण जेटली ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी- सेहत खराब है, नई सरकार में न दें पद

किडनी संबंधी बीमारी से जूझ रहे अरुण जेटली का पिछले साल मई में किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. इस साल जनवरी में वह सर्जरी के लिये अमेरिका गए थे. उनके बायें पैर में सॉफ्ट टिश्यू कैंसर है.

News18Hindi
Updated: May 29, 2019, 3:34 PM IST
News18Hindi
Updated: May 29, 2019, 3:34 PM IST
केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिख अपील की है कि उन्हें मंत्री बनाने का विचार ना किया जाए. जेटली ने चिट्ठी में लिखा, 'मेरी तबीयत पिछले 18 महीने खराब है. ऐसे में किसी  जिम्मेदारी को नहीं निभा पाऊंगा. मुझे स्वस्थ होने के लिए अभी और समय की जरूरत है. इसलिए नई सरकार में मुझे मंत्री बनाने पर कोई विचार ना करें.'

किस-किसको बनाएं मंत्री, मोदी और अमित शाह के बीच हुई 5 घंटे माथापच्ची



जेटली ने मोदी के लिए लिखा, 'मैं आपसे औपचारिक रूप से अनुरोध करने के लिए लिख रहा हूं. मुझे इलाज के लिए उचित समय की ज़रूरत है. इसलिए मैं फिलहाल नई सरकार में किसी भी जिम्मेदारी का हिस्सा नहीं होना चाहता.'

पढ़ें, पीएम मोदी के नाम अरुण जेटली की चिट्ठी

माननीय प्रधानमंत्री जी,

आपके नेतृत्व में पिछली सरकार में 5 साल काम करना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. इससे मुझे काफी अनुभव भी मिला है. मुझे पहली एनडीए सरकार, पार्टी संगठन और यहां तक कि विपक्ष में भी जिम्मेदारी दी गई. मैंने इससे अधिक कभी कुछ नहीं चाहा.

पिछले 18 सालों से मैं कुछ गंभीर स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रहा हूं. मेरे डॉक्टर भी उन सबको मात देने में मेरी मदद कर रहे हैं. इलेक्शन  कैंपेन खत्म करके जब आप केदारनाथ की यात्रा पर जा रहे थे , तब मैंने आपसे  मौखिक तौर पर कहा था कि कैंपेन के दौरान मुझे दी गई ज़िम्मेदारियों को खत्म करने के बाद मुझे भविष्य में ज़िम्मेदारियों से हटकर अपने लिए कुछ समय चाहिए. इस समय में मैं अपने इलाज और स्वास्थ्य पर ध्यान दूंगा. आपके नेतृत्व में बीजेपी और एनडीए ने शानदार जीत हासिल की है. नई सरकार कल शपथ लेने जा रही है.
Loading...



मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे 6000 मेहमान, तरह-तरह के पकवानों की तैयारी

मैं आपसे औपचारिक रूप से अनुरोध करने के लिए लिख रहा हूं कि मुझे खुद के लिए, अपने उपचार के लिए और अपने स्वास्थ्य के लिए उचित समय की ज़रूरत है. इसलिए नई सरकार में फिलहाल के लिए मैं किसी भी जिम्मेदारी का हिस्सा नहीं होना चाहता.

निश्चित रूप से मेरे पास किसी भी काम को करने के लिए काफी समय होगा. इसलिए मैं अनौपचारिक रूप से सरकार और पार्टी के लिए काम करता रहूंगा.'

शुभकामनाओं के साथ

अरुण जेटली

किडनी की बीमारी से जूझ रहे हैं जेटली

किडनी संबंधी बीमारी से जूझ रहे अरुण जेटली का पिछले साल मई में किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. इस साल जनवरी में वह सर्जरी के लिये अमेरिका गए थे. उनके बायें पैर में सॉफ्ट टिश्यू कैंसर है. यही वजह रही कि वह मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के अंतरिम बजट में पेश नहीं कर पाए. उनकी जगह रेलवे और कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने बजट पेश किया.

बता दें कि अरुण जेटली पेशे से वकील हैं. वह मोदी कैबिनेट के महत्वपूर्ण नेता हैं. कई मामलों में वह सरकार के अहम संकटमोचक के तौर पर सामने आए हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...