यादों में अरुण: जब अपने घर से कराई दोस्त की बेटी की शादी, घंटों खड़े रहकर किया मेहमानों का स्वागत

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 11:59 PM IST
यादों में अरुण: जब अपने घर से कराई दोस्त की बेटी की शादी, घंटों खड़े रहकर किया मेहमानों का स्वागत
बीजेपी के संकटमोटक ही नहीं बल्कि अपने तमाम दोस्तों के दिलों में अपने व्यवहार से अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण जेटली आज उन्हें मायूस कर के चले गए. (PTI)

डॉ शेखर अग्रवाल उन्हें याद करते हुए भावुक हो उठे और कहा कि इतनी बड़ी शख्सियत होने के बावजूद वो कभी एक कॉल तक मिस नहीं करते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2019, 11:59 PM IST
  • Share this:
(पंकज कुमार)

बीजेपी (BJP) के संकटमोटक ही नहीं बल्कि अपने तमाम दोस्तों के दिलों में अपने व्यवहार से अमिट छाप छोड़ने वाले अरुण जेटली (Arun Jaitley) आज उन्हें मायूस कर के चले गए. राजनीति में उनके द्वारा किए गए कई काम लोगों की नजर में है लेकिन राजनीति से परे अपनी निजी जिंदगी में भी वो अपने जानने वालों के दिलों पर अमिट छाप छोड़कर विदा हो गए.

सेंट जेवियर्स में उनके साथ पढ़ने वाले उनके कुछ साथियों से बात करते हुए अरुण जेटली की महान शख्सियत के बारे में जानने का मौका मिला. उनकी ही उम्र के दोस्तों की उनके बारे में बात करते हुए आंखें नम हो गईं. उन्होंने बताया कि 69 बैच के पास आउट छात्रों को पचास साल पूरे हो रहे हैं और इस मौके पर हम लोग अरुण जेटली से पूछकर दिसंबर में इकट्टा होकर जश्न करने वाले थे. लेकिन विधि के विधान के आगे शायद हम लोगों का मिलना लिखा नहीं था और अरुण हमें छोड़कर रुख्सत हो गए.

कॉल मिस होने पर पलटकर फोन कर सॉरी बोलते थे जेटली

पेशे से डॉक्टर और अपनी विधा में निपुण डॉ शेखर अग्रवाल ने सेंट जेवियर्स स्कूल में अरुण जेटली के साथ साल 1962 से लेकर 1969 तक पढ़ाई की थी. डॉ अग्रवाल के मुताबिक अरुण बेहद ही शर्मीले स्वभाव के कम बोलने वाले इंसान थे और कभी किसी ने अंदाज़ा भी नहीं लगाया था कि ये आगे चलकर देश के नामचीन राजनीतिज्ञों में से एक होंगे.

डॉ शेखर अग्रवाल उन्हें याद करते हुए भावुक हो उठे और कहा कि इतनी बड़ी शख्सियत होने के बावजूद वो कभी एक कॉल तक मिस नहीं करते थे. अगर कभी कॉल मिस हो जाती थी तो खुद कॉल बैक कर सॉरी बोलकर व्यस्तता बताते हुए कहते थे कि मैं फलां काम में व्यस्त था बता कैसे फोन किया. इतनी बड़े शख्सियत के मुंह से सॉरी सुनना और हर दफा मिलने के लिए तैयार रहने की बात याद कर डॉ अग्रवाल भावुक हो गए.

अरुण जेटली के साथ सेंट जेवियर्स में पढ़ चुके एक दूसरे मित्र प्रदीप दास उनके साथ बिताए हुए कई किस्से बता भाव बिह्वल हो उठे. प्रदीप दास पेशे से एक इंडस्ट्रियलिस्ट हैं और अरुण जेटली के बेहद खास मित्रों में से एक रहे हैं. अरुण जेटली के एम्स में भर्ती होने से कुछ दिनों पहले तक प्रदीप दास उनसे फोन पर बात किया करते थे. अरुण जेटली उनका फोन उठाकर ये कहते हुए जल्दी फोन रखने की बात करते थे कि डॉक्टर फोन पर बात करते हुए देखकर नाराज हो जाएंगे.
Loading...

खाने के शौकीन थे जेटली
प्रदीप दास का गला ये कहते हुए भर आया कि वह अरुण जेटली से 18 दिन बड़े थे. उन्होंने बताया कि मज़ाक में उन्हें कई बार ये कहकर बात मानने पर मजबूर कर लेता था कि मैं तुमसे 18 दिन बड़ा हूं इसलिए मेरा तर्जुबा तुमसे ज्यादा है. प्रदीप दास अरुण जेटली के कई किस्सों को याद करते हुए कहते हैं कि अमेरिका से इलाज कराकर उनके लौटने के बाद वह थोड़े समय के लिए जेटली से मिलने गए थे लेकिन अरुण जेटली ने अमृतसर से मंगाया खाना खिलाया और घंटों बचपन की वो तमाम बातें कीं जो प्रदीप दास भी भूल चुके थे .

प्रदीप दास कहते हैं कि खाने के बेहद शौकीन अरुण जेटली की यादाश्त भी बड़ी कमाल की थी लेकिन उनका अटेंशन स्पैन काफी कम था. कई बार प्रदीप दास इस बात के लिए जेटली को टोका भी करते थे जिसपर अरुण जेटली का जवाब ये होता था कि यार मैं एक दो मिनट में समझ जाता हूं कि अगला क्या कह रहा है.

दोस्त की बेटी की शादी के लिए दे दिया था अपना घर
प्रदीप दास का गला ये बताते हुए भर गया कि उनकी बेटी की शादी के लिए अरुण जेटली ने आगे बढ़कर उन्हें अपना घर सौंप दिया था और इंट्रेंस गेट पर खड़े होकर घंटों तक गेस्ट का वेलकम करते दिखे थे. प्रदीप दास कहते हैं कि अरुण जेटली की यादें भुलाए नहीं भुली जा सकती हैं क्योंकि वह दोस्तों के लिए हर वक्त खड़े रहते थे. यही वजह है कि चाहे स्कूल का दोस्त हो या कॉलेज का या फिर राजनीति का सबके साथ उनका व्यवहार जुदा था और शायद इसीलिए पक्ष और विपक्ष के तमाम नेताओं के बीच भी बेहद लोकप्रिय थे.

ये भी पढ़ें-
जेटली को उनके कॉलेज के प्रिंसिपल और जूनियर ने भी किया याद

जेटली के साथ कई यादगार लम्हे एक रिपोर्टर के नजरिए से

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 8:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...