EXCLUSIVE: मसूद पर कांग्रेस को जेटली की दो टूक, UPA के वक्त भी चीन ने नहीं दिया भारत का साथ

कांग्रेस ने चीन द्वारा लगाए गए अड़ंगे पर निराशा व्यक्त की और कहा कि यह दर्शाता है कि नरेन्द्र मोदी सरकार की विदेश नीति में श्रृंखलाबद्ध राजनयिक विफलता रही.

News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 6:51 PM IST
News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 6:51 PM IST
चीन ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने पर फिर अड़ंगा लगा दिया. यह चौथी बार था जब चीन ने वीटो पावर का इस्तेमाल कर मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से रोक दिया. लोकसभा चुनाव से पहले संयुक्त राष्ट्र संघ सुरक्षा परिषद में चीन के इस कदम ने देश की राजनीति तेज कर दी है. इस मुद्दे पर कांग्रेस ने सरकार को घेरने की कोशिश की है. कांग्रेस ने चीन द्वारा लगाए गए अड़ंगे पर निराशा व्यक्त की और कहा कि यह दर्शाता है कि नरेन्द्र मोदी सरकार की विदेश नीति में श्रृंखलाबद्ध राजनयिक विफलता रही. न्यूज18 को दिए एक इंटरव्यू में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस के इस आरोप को खारिज किया. जेटली ने कहा, “ये चीन का पुराना स्टैंड है. मैं इस में भारत की डिप्लोमैसी को बहुत सफल मानता हूं. सफल इसलिए क्योंकि एक देश ऐसा नहीं था जिसने कहा हो कि आपने एलओसी और अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पार करके गलत किया. पाकिस्तान के मित्र देशों ने भी न्यूट्रल किस्म के बयान दिए.”

जेटली ने आगे कहा, “मैं इसे सबसे बड़ी सफलता मानता हूं जब पाकिस्तान ने आईओसी से कहा कि अगर आप भारत को बुलाएंगे तो हम नहीं आएंगे. 54 इस्लामिक देशों ने कहा कि हम तो भारत को बुलाएंगे, आपने आना है तो आइए नहीं आना है मत आइए. पाकिस्तान नहीं गया. जहां तक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का प्रश्न है, सभी सदस्य एक आवाज में बोले. चीन का ये पुराना स्टैंड था. यूपीए की सरकार के दौरान भी चीन का यहीं स्टैंड था हमारी सरकार के दौरान भी यहीं था. मैं मानता हूं कि उनके अपने कारण है, और वो कारण ये है कि चीन आतंक पर पाकिस्तान का साथ देकर उस पर अपना नियंत्रण मजबूत करना चाहता है.”

जब जेटली से सवाल किया गया कि क्या भारत कूटनीतिक स्तर पर कोई कदम उठाएगा, तो उन्होंने कहा कि इस तरह के निर्णय सोच-समझकर लिए जाते हैं, भारत भी सोच-समझकर ही कदम उठाएगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मसूद अजहर पर चीन के अड़ंगे के बाद ट्वीट करके पीएम मोदी की आलोचना की थी. इस पर जेटली ने कहा, “मैंने आज देखा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने विदेश नीति के सुझाव ट्वीट के माध्यम से दिए हैं. जिस दिन ट्वीट से विदेश नीति बनने लगी उस दिन इस देश की खैरियत नहीं.” ये भी पढ़ें: मसूद अजहर को बचाने पर चीन के खिलाफ फूटा भारतीयों का गुस्सा, चाइनीज सामान के बहिष्कार की मांग तेज
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...