Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अरुणाचल प्रदेश: संदिग्ध उग्रवादियों के हमले में 1 सैनिक की मौत, 1 अन्य घायल

    असम राइफल्स के एक पानी के टैंकर पर विद्रोहियों ने हमला किया था (सांकेतिक फोटो)
    असम राइफल्स के एक पानी के टैंकर पर विद्रोहियों ने हमला किया था (सांकेतिक फोटो)

    अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तिरप, चांगलांग और लोंगडिंग जिले- जो कि असम (Assam), नागालैंड (Nagaland) और म्यांमार (Myanmar) से घिरे हैं- हिंसा-ग्रस्त क्षेत्र हैं जहां पर सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (Armed Forces Special Powers Act- AFSPA) लागू है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 4, 2020, 11:34 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. अधिकारियों ने बताया है कि असम राइफल्स (Assam Rifles) का एक जवान शहीद (Martyred) हो गया और उन्हें शक है कि ऐसा रविवार को अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के चांगलांग जिले (Changlang district) में तब हुआ जब कुछ संदिग्ध उग्रवादियों (suspected militants) ने घात लगाकर हमला किया. चांगलांग के एसपी (Changlang SP) मिहिन गाम्बो ने द इंडियन एक्सप्रेस से जवान के शहीद होने की पुष्टि की और कहा कि घायल सैनिक (injured soldier) का इलाज चल रहा है. यह पूछे जाने पर कि क्या पुलिस को हमले के पीछे किसी विशेष उग्रवादी संगठन (particular insurgent outfit) के होने का संदेह है, गाम्बो ने कहा कि वे अभी इस बात पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे.

    सूत्रों ने कहा कि असम राइफल्स (Assam Rifles) के एक पानी के टैंकर (Water Tanker) पर विद्रोहियों (insurgents) ने हमला किया था. अब तक इस हमले की जिम्मेदारी लेने का दावा किसी भी उग्रवादी संगठन (insurgent outfit) की ओर से नहीं नहीं किया गया है. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तिरप, चांगलांग और लोंगडिंग जिले- जो कि असम (Assam), नागालैंड (Nagaland) और म्यांमार (Myanmar) से घिरे हैं- हिंसा-ग्रस्त क्षेत्र हैं जहां पर सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (Armed Forces Special Powers Act- AFSPA) लागू है.

    2 दिन पहले ही केंद्र ने अरुणाचल के 3 जिलों, 4 थानों को आफ्स्पा के तहत ‘अशांत’ घोषित किया
    केंद्र ने सिर्फ दो दिन पहले अरुणाचल प्रदेश के तीन जिलों और अन्य तीन जिले के चार पुलिस थानों को अगले छह महीने के लिए आफ्स्पा कानून के तहत 2 अकूयबक ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित कर दिया है. सरकार ने यह कदम वहां उग्रवादी गतिविधियों और कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने के बाद उठाया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि इस संबंध में जारी अधिसूचना एक अक्टूबर से प्रभावी हो गई है.
    यह भी पढ़ें: चीन को सबक सिखाएगा भारत, थल-वायु सेना संयुक्त तौर पर कर रही हैं युद्धाभ्यास



    अधिसूचना में कहा गया, ‘‘...अरुणाचल प्रदेश के तिरप, चांगलांग और लॉन्गडिंग जिले और असम से लगते राज्य के तीन जिलों के चार पुलिस थाना क्षेत्रों को सशस्त्र बल (विशेष शक्ति) अधिनियम-1958 की धारा-तीन के तहत 31 मार्च 2021 तक या जब तक कि पहले इसे वापस नहीं ले लिया जाता ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित किया जाता है यानि एक अक्टूबर 2020 से.’’ गृह मंत्रालय ने जिन चार पुलिस थाना क्षेत्रों को ‘अशांत’ घोषित किया है उनमें नमसई जिले के नमसई और महादेवपुर थाने, निचली दिबांग घाटी के रोइंग और लोहित जिले का सुनपुरा थाना शामिल है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज