Home /News /nation /

अरुणाचल में अचानक काली पड़ी कामेंग नदी, हजारों मछलियां मर गईं, स्थानीय नागरिकों ने चीन पर मढ़ा दोष

अरुणाचल में अचानक काली पड़ी कामेंग नदी, हजारों मछलियां मर गईं, स्थानीय नागरिकों ने चीन पर मढ़ा दोष

नदी में टीडीएस में वृद्धि की वजह से मछलियों की ये हालत हुई है. (सांकेतिक तस्वीर)

नदी में टीडीएस में वृद्धि की वजह से मछलियों की ये हालत हुई है. (सांकेतिक तस्वीर)

Arunachal Fish Die in Kameng River: डीएफडीओ ताजो ने कहा, "नदी के पानी में हाई टीडीएस होता है, इसलिए मछलियां ऑक्सीजन लेने में असमर्थ थीं." उन्होंने लोगों से मछली का सेवन न करने की अपील की क्योंकि इससे स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं.

अधिक पढ़ें ...

    ईटानगर. अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग जिले में कामेंग नदी का पानी अचानक काला हो जाने के बाद उसमें हजारों मछलियां मृत पाई गईं. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी. जिला मत्स्य पालन अधिकारी ने कहा कि कुल घुलित पदार्थों (टीडीएस) की अधिक मात्रा की वजह से नदी का पानी काला हो गया है. जिला मत्स्य विकास अधिकारी (डीएफडीओ) हाली ताजो ने कहा कि जिला मुख्यालय सेप्पा में शुक्रवार को नदी में हजारों मछलियां मृत पाई गईं थीं.

    इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रारंभिक निष्कर्षों के अनुसार, मौतों का कारण टीडीएस की बड़ी मौजूदगी है, जो पानी में जलीय प्रजातियों के लिए कम दृश्यता और सांस लेने में समस्या पैदा करता है. ताजो ने कहा, “नदी के पानी में हाई टीडीएस होता है, इसलिए मछलियां ऑक्सीजन लेने में असमर्थ थीं.” ताजो ने लोगों से मछली का सेवन न करने की अपील की क्योंकि इससे स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं.

    जिला प्रशासन ने जारी की एडवाइजरी, नदी के काले रंग के लिए चीन पर आरोप
    पूर्वी कामेंग जिला प्रशासन ने एक एडवाइजरी जारी कर लोगों से मछली पकड़ने के लिए कामेंग नदी के पास नहीं जाने और अगले आदेश तक मरी हुई मछलियों को खाने और उसे बेचने से मना किया है. सेप्पा के निवासियों ने नदी में टीडीएस में वृद्धि के लिए चीन को दोषी ठहराया और आरोप लगाया कि पड़ोसी देश द्वारा निर्माण गतिविधियों के कारण पानी का रंग काला हो गया है.

    जम्मू-कश्मीर: नौशेरा में LoC के पास ब्लास्ट, भारतीय सेना के एक अधिकारी सहित दो जवान शहीद

    ‘जांच के लिए विशेषज्ञों की एक समिति गठित करने की अपील’
    सेप्पा पूर्व के विधायक टपुक ताकू ने राज्य सरकार से कामेंग नदी के पानी के रंग में अचानक बदलाव और बड़ी मात्रा में मछलियों की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए तुरंत विशेषज्ञों की एक समिति गठित करने की अपील की है. ताकू ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यह घटना कामेंग नदी में कभी नहीं हुई.

    उन्होंने संभावना जताई कि पानी के रंग में अचानक बदलाव का कारण जिले के ऊपरी क्षेत्र में भारी भूस्खलन हो सकता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा, “अगर यह कुछ दिनों से अधिक समय तक जारी रहा, तो नदी से जलीय जीवन पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा.”

    Tags: Arunachal pradesh, Fish

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर