Home /News /nation /

Opinion: भारत में ड्रग्स की लत एक रोग, फिल्मी सितारों के बच्चों का पकड़ा जाना बस झलक

Opinion: भारत में ड्रग्स की लत एक रोग, फिल्मी सितारों के बच्चों का पकड़ा जाना बस झलक

आर्यन खान जैसी मशहूर हस्तियों से जुड़े ड्रग का पर्दाफाश उनकी ताकत और पहुंच को दिखाता है. (सांकेतिक तस्वीर)

आर्यन खान जैसी मशहूर हस्तियों से जुड़े ड्रग का पर्दाफाश उनकी ताकत और पहुंच को दिखाता है. (सांकेतिक तस्वीर)

Drugs Mafia: केरल, पंजाब, बंगाल, गुजरात और उत्तरी कश्मीर आईएसआई के पसंदीदा ड्रग ट्रांजिट रूट रहे हैं. फिर इन दवाओं को देश के कोने-कोने में भेजा जाता है, विशेष रूप से स्कूलों और कॉलेजों और उन जगहों को निशान बनाया जाता है जहां युवा घूमते हैं.

अधिक पढ़ें ...

    (अभिजीत मजूमदार)

    नई दिल्ली. काबुल में सत्ता छीनने वाले इस्लामी चरमपंथी और मुंबई के तट पर ड्रग्स का सेवन करने वाले क्रूज से गिरफ्तार बॉलीवुड सुपरस्टार का बेटा. ऐसा लग रहा है कि ये दो अलग-अलग क्षेत्रों की सुर्खियां हैं, जिसका एक दूसरे से कोई संबंध नहीं है. लेकिन वास्तव में ऐसा है नहीं. भारत लंबे समय से नशीली दवाओं (Drugs in India) के बढ़ते खतरे को नज़रअंदाज़ करता रहा है. भारत ने कानूनों को सख्त नहीं बनाया है. इस धंधे में शामिल लोगों के खिलाफ अधिकारियों ने ज्यादा छापेमारी नहीं की है. साथ ही इन्हें ज्यादा सज़ा भी नहीं दी गई है. ऐसे लोगों के खिलाफ कोई व्यवस्थित और ठोस कार्रवाई नहीं की गई है, जिससे कि इनका सफाया हो सके.

    साल 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा कश्मीर के लिए विशेष दर्जे को खत्म करने और अब अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद भारत से बदला लेने की कोशिश की जा रही है. पाकिस्तान की आईएसआई ने भारत को अस्थिर करने के लिए अपनी गतिविधियों को तेज कर दिया है. इसके युद्ध में नारकोटिक्स एक महत्वपूर्ण हथियार है. कुछ हफ़्ते पहले, गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह पर अफगानिस्तान से करीब 21,000 करोड़ रुपये की लगभग 3,000 किलोग्राम हेरोइन जब्त की गई थी. ये ड्रग्स अफगानिस्तान से ईरान के रास्ते अब्बास बंदरगाह से भारत पहुंची. क्या आईएसआई या तालिबान की जानकारी के बिना अफगानिस्तान से भारत के लिए इतनी बड़ी खेप भेजी जा सकती है? इसकी संभावना न के बराबर है.

    ड्रग्स जिहाद
    सितंबर में कोट्टायम चर्च में एक मंडली में बोलते हुए, बिशप मार जोसेफ कल्लारंगघाट ने कहा कि कैथोलिक लड़कियां और युवा ‘नशीले पदार्थों के जिहाद’ का शिकार हो रहे हैं. वो केरल की बढ़ती नशीली दवाओं की समस्या, इसके संभावित स्रोत और पिनराई विजयन सरकार के मुस्लिम वोटबैंक को छूने से इनकार करने वाले अधिकारियों की पूरी चुप्पी के बारे में मौजूद लोगों को आगाह कर रहे थे. भारतीय एजेंसियों ने लक्षद्वीप से केरल में पहुंचाए जा रहे ड्रग्स को भी इंटरसेप्ट किया है.

    ये भी पढ़ें:- COVID-19: देश के 30 ज़िले बढ़ा रहे हैं टेंशन, यहां अब भी पॉजिटिविटी रेट 10% से ज़्यादा

    युवा हो रहे हैं शिकार
    केरल, पंजाब, बंगाल, गुजरात और उत्तरी कश्मीर आईएसआई के पसंदीदा ड्रग ट्रांजिट रूट रहे हैं. फिर इन दवाओं को देश के कोने-कोने में भेजा जाता है, विशेष रूप से स्कूलों और कॉलेजों और उन जगहों को निशान बनाया जाता है जहां युवा घूमते हैं. आर्यन खान जैसी मशहूर हस्तियों से जुड़े ड्रग का पर्दाफाश उनकी ताकत और पहुंच को दिखाता है.

    हर हाल में मिले सज़ा
    इसलिए शाहरुख खान के बेटे आर्यन और गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों को दोषी पाए जाने पर दंडित किया जाना चाहिए. भारतीयों को इससे सिर्फ खुश होकर नहीं रहना चाहिए. न ही उन्हें संस्कार या पारंपरिक नैतिक मूल्यों को सौंपने में आत्मसंतुष्ट महसूस करना चाहिए. हम सबके बच्चे यहां तक ​​कि बहुत रूढ़िवादी परिवारों के भी लोग इन ड्रग्स के चलते जोखिम में हैं. हर मोहल्ले में ड्रग्स आ गई है. अधिकांश थानों में ऐसे केस को लेकर समझौता कर लिया जाता है. अगर पुलिस भ्रष्ट है तो पैसा निश्चित रूप से उनके कुछ राजनीतिक आकाओं तक पहुंच रहा है. मारिजुआना और हशीश अब सिगरेट की तरह आम हो गए हैं. एमडीएमए, मेथ, एलएसडी और एक्स्टसी को खरीदना भी मुश्किल नहीं है.

    मिले मौत की सज़ा
    गरीब युवाओं को हेरोइन मार रही है और अमीर कोकीन का शिकार हो रहे हैं. हर स्कूल और कॉलेज के आसपास डीलर हैं. जाहिर है, कोई – वास्तव में सीमा सुरक्षा गार्डों से लेकर सीमा शुल्क अधिकारियों, गाड़ी चेक करने वाले से लेकर स्थानीय पुलिस अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं. भारत में मादक पदार्थों की तस्करी के लिए अधिकतम सजा के रूप में मृत्युदंड लागू किया जाना चाहिए. जो लोग पूरी पीढ़ियों को जहर देकर मारते हुए पलक नहीं झपकाते, उन्हें ज़िंदा रहने का कोई हक़ नहीं है.

    ड्रग्स का महिमामंडन क्यों?
    फिल्म निर्माता, अभिनेता और संगीतकार नशीली दवाओं के उपयोग का महिमामंडन करते हैं. आर्यन की गिरफ्तारी के बाद, शाहरुख का एक पुराना वीडियो वायरल हो गया है जिसमें वो अपने बच्चे को ड्रग्स लेने और सेक्स करने की अनुमति देने का मजाक उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने स्पष्ट रूप से इसे मजाक में कहा था, लेकिन ऐसी चीजों का युवाओं के दिमाग पर असर पड़ता है. वो मज़ाक आज उनके दिमाग में चल रहा होगा कि नहीं. भारतीय माता-पिता को नशीली दवाओं के मुद्दे को गंभीरता से लेने की जरूरत है और अपने निर्वाचित प्रतिनिधियों पर निर्णायक कार्रवाई करने के लिए दबाव बनाने की जरूरत है.

    उनके बच्चों पर खतरा मंडरा रहा है. इससे भी महत्वपूर्ण बात ये है कि देश खतरे में है. क्योंकि नशीली दवाओं के पैसे से कुछ भी अच्छा नहीं होता है. ये आतंक, सरकारी तंत्र से खरीद, यौन तस्करी, राष्ट्र-विरोधी तत्वों और हर बुराई की कल्पना कर सकता है.

    Tags: Aryan Khan, Drugs mafia, Mumbai Drugs

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर