अपना शहर चुनें

States

ऐसे ढह रहा है ममता बनर्जी का किला, अब तक इन दिग्गजों ने TMC को कहा अलविदा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी फिलहाल नेताओं के इस्तीफे से परेशान हैं. (फाइल फोटो: Shutterstock)
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी फिलहाल नेताओं के इस्तीफे से परेशान हैं. (फाइल फोटो: Shutterstock)

West Bengal Election 2021: पूर्व रेल मंत्री और सीएम बनर्जी के करीबी माने जाने वाले मुकुल रॉय, पूर्व मंत्री शुभेंदु अधिकारी, सांसद सौमित्र खान और अर्जुन सिंह समेत कई नेताओं का नाम शामिल है. इस दौरान पार्टी ने कई विधायक भी खोए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2021, 6:43 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) हो सकते हैं. हालांकि, चुनाव को लेकर राज्य में सियासी गहमागहमी महीनों पहले ही शुरू हो गई थी. राज्य में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सक्रिय होने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को काफी नुकसान उठाना पड़ा है. तृणमूल कांग्रेस (TMC) के मजबूत हाथ माने जाने वाले कई नेताओं ने पार्टी को अलविदा कह दिया है. चुनाव में थोड़ा ही वक्त बचा है और टीएमसी में इस्तीफे का दौर जारी है.

सत्तारूढ़ दल छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए दिग्गज नेताओं को वहां भी बड़ी जिम्मेदारियां दी गई हैं. इनमें पूर्व रेल मंत्री और सीएम बनर्जी के करीबी माने जाने वाले मुकुल रॉय (Mukul Roy), पूर्व मंत्री शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari), सांसद सौमित्र खान (Saumitra Khan) और अर्जुन सिंह समेत कई नेताओं का नाम शामिल है. इस दौरान पार्टी ने कई विधायक भी खोए हैं, लेकिन इन नेताओं का बागी होना पार्टी को महंगा पड़ सकता है.

शुभेंदु अधिकारी
लंबे समय से टीएमसी के साथ रहे शुभेंदु अधिकारी ने बंगाल कैबिनेट से बीते दिसंबर में इस्तीफा दे दिया था. इसके कुछ समय पश्चात टीएमसी को अलविदा कहने के बाद उन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी की सदस्यता ले ली. इस दौरान वो अपने साथ 9 विधायकों और एक सांसद को भी लेकर आए. उन्होंने नंदीग्राम से विधायक के तौर पर भी इस्तीफा दे दिया है, लेकिन अभी इसको स्वीकार किया जाना बाकी है.
शिशिर अधिकारी


शुभेंदु के पिता और वरिष्ठ टीएमसी सांसद शिशिर अधिकारी को पूर्वी मिदनापुर के जिलाध्यक्ष के पद से हटा दिया गया था. इसके बाद उन्होंने बीजेपी में शामिल होने के संकेत दिए थे. हालांकि, इस पर उनका अंतिम फैसला बाकी है. शुभेंदु के बाद उनके भाई सोमेंदु अधिकारी ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था. उन्होंने 15 पार्षदों के साथ बीजेपी जॉइन की थी.



यह भी पढ़ें: ममता बनर्जी का बीजेपी पर हमला, बोलीं- मैंने बहुत सरकारे देखी हैं, 300 सीटों पर किस बात का अहंकार?

राजीव बनर्जी
22 जनवरी को राज्य कैबिनेट से इस्तीफा देने के बाद राजीव बनर्जी ने कहा था कि वो 2018 में ही इस्तीफा देना चाहते थे. बनर्जी ने कहा कि उन्हें बगैर किसी सलाह मशविरे के राज्य सिंचाई विभाग से निकाल दिया गया था. उन्होंने इस्तीफे के कुछ घंटों बाद ही दिल्ली में अमित शाह से मिलकर बीजेपी की सदस्यता ले ली.

दीपक हलदर
राज्य के साउथ 24 परगना जिले से विधायक दीपक हलदर ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने तोप्सिया स्थित टीएमसी के जिला मुख्यालय में यह इस्तीफा स्पीड पोस्ट के जरिए भेजा. कयास लगाए जा रहे हैं कि वो मंगलवार को बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैं. यह सीएम के भतीजे अभिषेक बनर्जी का निर्वाचन क्षेत्र है.

लक्ष्मी रत्न शुक्ल
पूर्व क्रिकेटर और राज्य के पूर्व मंत्री लक्ष्मी रत्न शुक्ल ने यह कहते हुए ममता कैबिनेट से इस्तीफा दिया कि वो राजनीति से ब्रेक ले रहे हैं. हालांकि, उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह साफ किया था कि वो स्पोर्ट्स पर ध्यान लगाएंगे और दूसरी पार्टी में शामिल नहीं होंगे.

ये नेता भी हैं शामिल
पूर्व टीएमसी नेता वैशाली डालमिया, प्रवीर घोषाल, रतिन चक्रबर्ती और अभिनेता रुद्रनील घोष भी राजीव बनर्जी के साथ बीजेपी में शामिल हो गए हैं. टीएमसी सांसद सुनील मंडल और विधायक अरिंदन भट्टाचार्य ने पार्टी को अलविदा कह दिया है. इसके अलावा बीरभूम से सांसद शताब्दी रॉय भी फेसबुक पोस्ट के जरिए पार्टी कार्यप्रणाली पर नाराजगी जता चुकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज