केंद्र की रोज 1 लाख कोरोना सैंपल टेस्टिंग की इच्छा लेकिन देश में बचे हैं सिर्फ 3 लाख RNA एक्सट्रैक्शन किट

केंद्र की रोज 1 लाख कोरोना सैंपल टेस्टिंग की इच्छा लेकिन देश में बचे हैं सिर्फ 3 लाख RNA एक्सट्रैक्शन किट
साथ ही केंद्रीय दल ने कुछ अहम निर्देश भी राज्य सरकार को दिए हैं. (File Photo)

ऐसे समय में जब एंटीबॉडी टेस्ट (Antibody Test) को पहले ही निरस्त किया जा चुका है, तेजी से खत्म होते स्टॉक का देश में टेस्टिंग की दरों (Testing Kits) पर असर पड़ सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2020, 9:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एक हफ्ते के अंदर भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) की जांच (Testing) में काम आने वाली RNA टेस्टिंग किट्स (RNA Testing Kits) खत्म हो सकती हैं क्योंकि ऐसी केवल 3 लाख ही अब स्टॉक (Stock) में बची हुई हैं. और हर दिन करीब 38 हजार सैंपल्स (Samples) की जांच की जा रही है.

तेजी से खत्म होते इस स्टॉक के ऐसे समय में टेस्टिंग की दरों (Testing Rates) पर असर पड़ सकता है जब केंद्र सरकार (Central Gvernment) रोजाना टेस्टिंग (Daily Testings) की संख्या को 1 लाख तक बढ़ाने की कोशिश कर रही है.

RNA एक्सट्रैक्शन किट के बिना RT-PCR किट का नहीं हो सकता इस्तेमाल
सूत्रों ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से बताया है कि वे तीस लाख RNA एक्सट्रैक्शन किट और दस लाख वायरल ट्रांसपोर्ट मीडियम किट (Transport Medium Kit) प्राप्त करना चाहते थे. लेकिन सूत्रों ने कहा, "समस्या यह है कि RT-PCR किट का प्रयोग आरएनए एक्सट्रैक्शन किट के बिना नहीं किया जा सकता है."
इससे पहले, मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) ने किट्स की कमी की बात कही थी, जिसमें राज्य के सबसे ज्यादा प्रभावित शहर इंदौर (Indore) को इन किटों की बहुत ज्यादा जरूरत थी.



इस तरह से टेस्टिंग में काम आती हैं RNA एक्सट्रैक्शन किट
ये किट नए कोरोना वायरस से RNA को बाहर निकालती हैं. इसके बाद RT-PCR टेस्ट में RNA की संरचना की तुलना वायरस की पहचान के लिए की जाती है. हर टेस्ट के लिए एक RNA एक्सट्रैक्शन किट की जरूरत होती है.

इस कमी से केंद्र के टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने की योजना में खलल पड़ सकता है. ICMR ने इससे पहले ही राज्यों को जारी एक सुझाव में राज्यों से टेस्टिंग के लिए जरूरी उपकरणों को पाने के लिए एक नोडल अफसर की नियुक्ति की बात कही थी. इसने कहा था, ICMR के जरिए मान्यता प्राप्त सभी लैब को VTM और RNA एक्सट्रैक्शन किट राज्यों के जरिए उपलब्ध कराए जाएंगे.

यह मामला ऐसे समय पर आया है, जब चीन (China) से आई खराब किटों के चलते एंटीबॉडी टेस्ट (Antibody Test) को पहले ही निरस्त किया जा चुका है, ऐसे में तेजी से खत्म होते स्टॉक का देश में टेस्टिंग की दरों पर असर पड़ सकता है.

यह भी पढ़ें: घरेलू हिंसा पर दिल्ली HC का आदेश- पीड़ितों की शिकायतों पर हो तुरंत कार्रवाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज