अगले 2 दिनों में रेमडेसिविर का जेनेरिक वर्जन लॉन्च करेगी सिप्ला, कीमत होगी 4000 हजार रुपये

अगले 2 दिनों में रेमडेसिविर का जेनेरिक वर्जन लॉन्च करेगी सिप्ला, कीमत होगी 4000 हजार रुपये
सिप्रेमी को अमेरिकी दवा नियामक यूएसएफडीए ने कोरोना वायरस के मरीजों को आपातकालीन स्थिति में देने की स्वीकृति दी है.

रेमडेसिवीर COVID-19 संक्रमण के संदिग्ध या कंफर्म मरीजों के लिए अमेरिकी एफडीए से स्वीकृत एकमात्र इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन (ईयूए) इलाज है. अमेरिकी दवा निर्माता गिलियड साइंसेज ने मई में सिप्ला को इसके मैन्यूफैक्चरिंग-मार्केटिंग के लिए लाइसेंस को मंजूरी दी थी.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत समेत दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर जारी है. दुनियाभर में अब तक एक करोड़ से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. भारत में भी संक्रमितों का आंकड़ा 7 लाख पार कर गया है. इस बीच प्रमुख दवा कंपनी सिप्ला लिमिटेड (Cipla) कोविड-19 के इलाज में
कारगर साबित हो रही रेमडेसिविर (Remdesivir) के जेनेरिक वर्जन सिप्रेमी (Cipremi) पेश करने जा रही है. अगले एक-दो दिनों में इसे लॉन्च किया जा सकता है, जिसके बाद मार्केट में इसकी सप्लाई शुरू हो जाएगी. सिप्रेमी को अमेरिकी दवा नियामक यूएसएफडीए ने कोरोना वायरस के मरीजों को आपातकालीन स्थिति में देने की स्वीकृति दी है.

CNBC TV18 के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में प्रमुख दवा बायोटेक फर्म सिप्ला ने बताया कि उसे भारतीय दवा महानियंत्रक (डीसीजीआई) से इस दवा के आपातकालीन स्थिति में सीमित उपयोग की अनुमति मिल गई है. कंपनी ने एक बयान में बताया, ‘जोखिम प्रबंधन योजना के तहत सिप्ला दवा के इस्तेमाल का प्रशिक्षण देगी और मरीज की सहमति के दस्तावेजों की जांच करेगी. मार्केटिंग के बाद पूरी निगरानी रखने के साथ ही भारतीय मरीजों पर चौथे फेज की मेडिकल टेस्टिंग भी की जाएगी.’कंपनी ने कहा कि इस दवा की सप्लाई सरकार और खुले बाजार के जरिए की जाएगी.


ये भी पढ़ें:- COVID-19 Vaccine: अगस्त तक लॉचिंग को लेकर WHO क्या मानता है?



सिप्ला ने रेमेडिसविर के निर्माण के लिए बीडीआर फार्मा के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था. जिसके बदले में तैयार खुराक और पैकेजिंग का सब-कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है. बता दें कि बीडीआर फार्मा सक्रिय फार्मास्युटिकल घटक (एपीआई) भी बनाती है. सिप्ला के मुताबिक, सिप्रेमी (Cipremi) की एक शीशी की कीमत लगभग 4,000 रुपये होगी.

हालांकि, सिप्रेमी की कितनी सप्लाई होगी इसकी जानकारी अभी नहीं दी गई है. हालांकि, सॉवरेन फार्मा ने कहा था कि उसके पास हर महीने 95,000 दवा बनाने की क्षमता है.

सिप्ला और हेटेरो को रेमेडिसविर के निर्माण और बिक्री की अनुमति देने के बाद डीसीजीआई ने माइलान लैब्स को भी इसी तरह की स्वीकृति दी है. इन कंपनियों ने नॉन एक्सक्लूसिव एग्रीमेंट्स पर साइन किए हैं.

हेटेरो ने बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) से प्राप्त 15,000 शीशियों के ऑर्डर को आंशिक रूप से पूरा किया है. तमिलनाडु सरकार को 10,000 शीशियों की आपूर्ति की गई है. तमिलनाडु ने करीब 40,000 शीशियों का ऑर्डर दिया है.

ये भी पढें:- किसी भी कपड़े और आकार का मास्क आपको कोरोना से नहीं बचाएगा..! जानिए क्यों
बता दें कि रेमडेसिवीर COVID-19 संक्रमण के संदिग्ध या कंफर्म मरीजों के लिए अमेरिकी एफडीए से स्वीकृत एकमात्र इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन (ईयूए) इलाज है. अमेरिकी दवा निर्माता गिलियड साइंसेज ने मई में सिप्ला को इसके मैन्यूफैक्चरिंग-मार्केटिंग के लिए लाइसेंस को मंजूरी दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading