लाइव टीवी

नगा समूहों से भारत सरकार के समझौते से पहले म्यांमार से भारत की ओर निकले NSCN-IM के कैडर्स

News18Hindi
Updated: November 7, 2019, 6:06 AM IST
नगा समूहों से भारत सरकार के समझौते से पहले म्यांमार से भारत की ओर निकले NSCN-IM के कैडर्स
माना जा रहा है कि इस समूह के लोग म्यांमारे हट कर भारत की ओर आ रहे हैं.

भारत सरकार और एनएससीएन-आईएम (NscN-IM) और नगा नेशनल पॉलिटिकल ग्रुप (Naga National Political Groups के बीच बातचीत आखिरी दौर में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 6:06 AM IST
  • Share this:
बीजू कुमार डेका
गुवाहटी.
 नगा समूहों और भारत सरकार के बीच अंतिम समझौते पर हस्ताक्षर करने से पहले, इसाक-मुइवा गुट नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालिम (NSCN-IM) के  लगभग 300 कैडर्स के बारे में माना जा रहा है कि उन्हें म्यांमार में अपने कैंप से चले गए हैं. यह दावा युंग आंग के नेतृत्व वाले अलगाववादी समूह के प्रतिद्वंद्वी गुट ने किया है.

NSCN (K) के एक शीर्ष नेता ने News18 से कहा, 'NSCN (IM) के लगभग 300 सशस्त्र कैडर म्यांमार की लेशी बस्ती में एक जंगल में डेरा डाले हुए हैं, जिन्हें सोमवार शाम को तातमाडॉ (म्यांमार सेना) द्वारा बाहर निकाल दिया गया था. हालांकि कोई गोलाबारी नहीं हुई. हमारी जानकारी के अनुसार म्यांमार की सेना के मौके पर पहुंचने से पहले कैडरों ने अपने हथियारों और गोला-बारूद के साथ अपना डेरा छोड़ दिया.'

कहा जाता है कि शिविर का स्थान हेंगकोट और नगाचन गांवों के बीच स्थित एक जंगल में है, जो भारत-म्यांमार सीमा स्तंभ के पास नागा स्वायत्त क्षेत्र, सैगिंग डिवीजन के लेशी टाउनशिप के अधिकार क्षेत्र में आता है.

कैडर अपने हथियारों और गोला-बारूद के साथ भारत की ओर बढ़ गए
एनएससीएन (के) नेता ने कहा कि 'इस क्षेत्र को सोमरा ट्रैक के नाम से जाना जाता है. यह शिविर कथित तौर पर स्वयंभू नेताओं हंगशी रामसोम और नगनिंगखुई द्वारा चलाया गया था. एनएससीएन (आईएम) के कुछ शीर्ष पदाधिकारी जिनमें महंगम और युरहो भी शामिल हैं शिविर में रह रहे थे.'

म्यांमार के एक अन्य शीर्ष विद्रोही नेता ने कहा कि जब तातमाडॉ एनएससीएन (आईएम) शिविर में पहुंचे, तो वहां कोई कैडर नहीं थे. कहा कि कैडर अपने हथियारों और गोला-बारूद के साथ भारत की ओर बढ़ गए हैं और वर्तमान में मणिपुर के सीमावर्ती क्षेत्रों में शरण ले रहे हैं.
Loading...

एक रक्षा अधिकारी ने कहा, जुलाई के बाद से, एनएससीएन (आईएम) कैडरों के आंदोलन संदिग्ध हो गए हैं और सेना नागालैंड, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश के घटनाक्रमों की बारीकी से निगरानी कर रही है.

यह भी पढ़ें: नगालैंड विद्रोही गुट के अध्यक्ष बोले-हमें चीन से मदद मिली, आगे भी मिलेेगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 5:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...