अपना शहर चुनें

States

भविष्य नहीं रोजमर्रा के काम पर है हमारा ध्यान, ताकि उड़ती रहें फ्लाइट्स- Air India

एअर इंडिया की बिक्री पर सरकार और विपक्ष के बीच काफी आरोप प्रत्यारोप भी लग रहे हैं.
एअर इंडिया की बिक्री पर सरकार और विपक्ष के बीच काफी आरोप प्रत्यारोप भी लग रहे हैं.

एअर इंडिया (Air India) पर वेंडरों का करोड़ों रुपये बकाया है. घाटा बढ़ने के साथ वेतन देने और ईंधन खरीदने में भी उसे दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2019, 5:25 PM IST
  • Share this:
मुंबई. कर्ज में डूबी एअर इंडिया फिलहाल अपने भविष्य को लेकर ध्यान नहीं दे रही है बल्कि उसका सारा ध्यान रोजमर्रा के ऑपरेशन पर है ताकि हवाई सेवाएं संचालित होती रहें. यह जानकारी एयर लाइंस कंपनी के प्रवक्ता धनंजय कुमार ने दी.

समाचार एजेंसी AFP के अनुसार उन्होंने कहा कि 'हम दिन-प्रतिदिन के कार्यों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और भविष्य पर ध्यान नहीं है. हमारे पास जो भी संसाधन हैं, हम उन्हें कायदे से उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं और हमारी उड़ानें चलाने की कोशिश कर रहे हैं.'

यह बात दीगर है कि विमानन मंत्री हरदीप पुरी ने गुरुवार को कहा कि एअर इंडिया को वित्तीय वर्ष 2018-19 में 4685.24 करोड़ रुपये का परिचालन संबंधी घाटा हुआ. लोकसभा में वीके श्रीकंदन के प्रश्न के लिखित उत्तर में पुरी ने यह जानकारी दी.



 हेडक्वार्टर्स को बेचने की प्रक्रिया भी रुक सकती है
उन्होंने कहा, ‘एअर इंडिया को वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान 4685.24 करोड़ रुपये का परिचालन संबंधी घाटा हुआ.’ मंत्री ने कहा कि इस विमानन कंपनी को 25509 करोड़ रुपये का प्रचालन राजस्व हुआ तो प्रचालन व्यय 30194 करोड़ रुपये का खर्च हुआ.

इसके साथ ही महाराष्ट्र में सत्ता से साथ छूटने के चलते मुंबई स्थित एअर इंडिया के हेडक्वार्टर्स को बेचने की प्रक्रिया भी रुक सकती है. पुरानी सरकार इस बिल्डिंग को खरीदने के लिए राजी हो गई थी. साल 1932 में स्थापित एयर लाइंस को एक समय में 'आसमान का महाराजा' कहा जाता था.

एक दशक से अधिक समय से पैसे की तंगी झेल रहे Air India को सरकारी तेल कंपनियों ने अगस्त में एयर इंडिया को बकाया भुगतान के लिए ईंधन की आपूर्ति रोक दी थी. सरकार द्वारा बातचीत के बाद अगले महीने कंपनियों ने निलंबन हटाने की सहमति दी.

यह भी पढ़ें:  'एयर इंडिया नहीं बिकी तो उसे बंद करना पड़ेगा'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज