लाइव टीवी

असदुद्दीन ओवैसी बोले, 'पांच एकड़ जमीन के पक्ष में नहीं है AIMIM'

भाषा
Updated: November 12, 2019, 10:26 PM IST
असदुद्दीन ओवैसी बोले, 'पांच एकड़ जमीन के पक्ष में नहीं है AIMIM'
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि उनकी पार्टी अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तहत एक मस्जिद के निर्माण के लिए दी जाने वाली पांच एकड़ की भूमि के पक्ष में नहीं है (फाइल फोटो)

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने मंगलवार को कहा, ‘मैं अपनी पार्टी के लिए बोलता हूं, हम यह ‘खैरात’ नहीं चाहते हैं. हमारी लड़ाई कानूनी अधिकार (Legal Rights) के लिए थी, बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) के लिए थी. हमारी लड़ाई जमीन के इस टुकड़े के लिए नहीं थी....’’

  • भाषा
  • Last Updated: November 12, 2019, 10:26 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले के तहत एक मस्जिद के निर्माण के लिए दी जाने वाली पांच एकड़ की भूमि के पक्ष में नहीं है क्योंकि यह लड़ाई कानूनी अधिकार और बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) के लिए थी.

उन्होंने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘मैं अपनी पार्टी के लिए बोलता हूं, हम यह ‘खैरात’ नहीं चाहते हैं. हमारी लड़ाई कानूनी अधिकार (Legal Rights) के लिए थी, बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) के लिए थी. हमारी लड़ाई जमीन के इस टुकड़े के लिए नहीं थी....’’

'कई वर्षों तक चला संघर्ष जमीन के एक टुकड़े के लिए नहीं था'
जब उनसे कुछ मुस्लिम नेताओं (Muslim Leaders) की उन टिप्पणियों के बारे में पूछा गया कि पांच एकड़ की जमीन सरकार द्वारा अधिग्रहित 67 एकड़ जमीन में से ही आवंटित की जानी चाहिए, तो उन्होंने कहा कि कई वर्षों तक चला यह पूरा संघर्ष जमीन के एक टुकड़े के लिए नहीं था.

उन्होंने कहा, ‘‘हमने इतना संयम क्यों रखा. हम अदालत में गए, अगर यह जमीन का एक टुकड़ा होता तो हम इसे कहीं और स्वीकार कर सकते थे. लेकिन पिछले 50 वर्षों से हम सभी संयम के साथ इस मामले को कानून की अदालत (Court of Law) में लड़ रहे थे.’’

ओवैसी ने दोहराया दावा- 'हिंदू राष्ट्र बनने की ओर बढ़ रहा देश'
ओवैसी ने अपने उस दावे को दोहराया कि देश ‘‘हिंदू राष्ट्र’’ की ओर बढ़ रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘...भारत में मुसलमानों को द्वितीय श्रेणी के नागरिक (Second Class Citizens) बनाने के लिए कैसे प्रयास किए जा रहे हैं. देखते रहे.’’
Loading...

उन्होंने कहा कि इससे कोई भी इनकार नहीं कर सकता..एनआरसी, नागरिक संशोधन विधेयक लाकर, आप क्या संदेश दे रहे है. मुझे अफसोस है कि सभी धर्मनिरपेक्ष दल (Secular party) अपने मुंह बंद किये हुए हैं. ओवैसी ने पूछा कि कांग्रेस, राकांपा, बसपा और अन्य चुप क्यों है और उन्हें अपनी चुप्पी तोड़ने की जरूरत है.

ओवैसी ने इस बात की पुष्टि की कि उनकी पार्टी महाराष्ट्र (Mahars में भाजपा या शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार का समर्थन नहीं करेगी. ओवैसी की पार्टी के महाराष्ट्र में दो विधायक हैं.

यह भी पढ़ें: जानें, आरएसएस के केंद्र में कब और कैसे आया राम मंदिर आंदोलन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 10:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...