असदुद्दीन ओवैसी ने संसद में लगाया अल्लाह-हू-अकबर का नारा, पहले लगे थे जय श्रीराम के नारे

ओवैसी ने भारतीय संसद में यह नारा एक प्रतिक्रिया के तौर पर लगाया. उनकी शपथ ग्रहण के दौरान लगातार जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाए जा रहे थे.

News18Hindi
Updated: June 18, 2019, 4:28 PM IST
News18Hindi
Updated: June 18, 2019, 4:28 PM IST
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के मु‌खिया और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन औवैसी संसद में शपथ लेने के बाद अल्लाह- हू-अकबर का नारा लगाकर एक बार फिर से चर्चा में आ गए हैं.  ओवैसी ने संसदीय सत्र के दूसरे दिन बतौर सांसद पद और गोपनीयता की शपथ ली, लेकिन उनकी  शपथ ग्रहण के दौरान सदन में जय श्रीराम, भारत माता की जय, वंदे मातरम के नारे लगने शुरू हो गए. इसके जवाब में ओवैसी ने जय भीम, जय मीम, तकबीर अल्लाह-हू-अकबर व जय हिंद का नारा लगा दिया.

ओवैसी ने भारतीय संसद में यह नारा एक प्रतिक्रिया के तौर पर लगाया. उनकी शपथ ग्रहण के दौरान लगातार जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाए जा रहे थे. ऐसे में ओवैसी ने अपनी शपथ की पंक्तियां पूरी कर नारा दोहराया. इसके बाद उन्होंने अपनी सीट पर बैठने से पहले जय श्रीराम का नारा लगाने वाले खेमे पर हमला भी बोला. इससे पहले जब वह शपथ लेने के लिए अपनी सीट उठे तो दोनों हाथ ऊपर उठाकर विपक्षियों से और जोरदार नारा लगाने को कहा.

''बीजेपी को संविधान और मुजफ्फरपुर के बच्चे याद रहें तो हो बेहतर''
जब सदन में नारों की गूंज थोड़ी कमजोर पड़ी तो ओवैसी ने तत्काल भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर हमला बोलना शुरू किया. उन्होंने कहा, "यह अच्छा है कि मेरे बहाने उन्हें यह शब्द बार-बार आते हैं. वे इसे दोहराते हैं. लेकिन अच्छा होता कि इसके बजाय बीजेपी बिहार के मुजफ्फरपुर में हो रही बच्चों की मौतों पर ध्यान लगाती."

इसके बाद ओवैसी ने पहले की तरह ही जमकर बीजेपी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, जिस तरह से ये शब्द बार-बार जपे जा रहे हैं वैसे ही अगर पार्टियां संविधान और जनता के कल्याण को लेकर माला जपे तो बेहतर हो. इसके बाद अपनी बात पूरी करते हुए उन्होंने नारों का जवाब नारे से देते हुए अल्लाह हू अकबर बोल दिया.

संसद में गूंज रहा है जय श्रीराम
उल्लेखनीय है कि हाल के दिनों में जय श्रीराम बोलने को लेकर पश्चिम बंगाल में बड़ा विवाद हुआ. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को डाक से हजारों की संख्या में जय श्रीराम लिखे हुए पत्र बीजेपी नेताओं और समर्थकों ने भेजे. ऐसे आरोप हैं कि ममता बनर्जी जय श्रीराम बोलने वालों को रोकती हैं.
इसी क्रम में जब 17 जून को संसदीय सत्र आरंभ हुआ और नए सांसदों ने शपथ लेनी शुरू की, तो जब-जब पश्चिम बंगाल के टीएमसी सांसद शपथ लेने पहुंचे संसद में जय श्रीराम के नारे गूंज उठे. यह उसी विरोधी की प्रतीकात्मक कार्रवाई थी जो पश्चिम बंगाल में बीजेपी कर रही है.

टीएमसी सांसदों से शुरू होकर ओवैसी तक पहुंची
टीएमसी सांसदों के शपथ के दौरान जब जय श्रीराम के नारे लगे तो ज्यादातर ने इसका जवाब देना उचित नहीं समझा और शपथ लेकर अपनी जगह पर बैठ गए. लेकिन ओवैसी ने इस पर खुलकर जवाब दिया.



यह भी पढ़ें- अधीर रंजन चौधरी हो सकते हैं लोकसभा में कांग्रेस के नेता

जानें कौन हैं ओम बिड़ला, जो बनेंगे लोकसभा स्पीकर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...