NRC कांग्रेस का बच्चा, मोदी केवल लालन-पालन करने वाले पिता: तरुण गोगोई

NRC कांग्रेस का बच्चा, मोदी केवल लालन-पालन करने वाले पिता: तरुण गोगोई
तरुण गोगोई (File Photo)

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने यह दावा भी किया कि असम में अपडेट किए जा रहे एनआरसी की परिकल्पना 2005 में उनकी सरकार ने की थी, लेकिन भाजपा राजनीतिक लाभ के लिए इसे लपकने की कोशिश कर रही है.

  • Share this:
राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर जारी विवाद के बीच असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने सोमवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार को इस बारे में एक ‘श्वेतपत्र’ लाना चाहिए कि उसने अपने चार साल के कार्यकाल में कितने विदेशियों का पता लगाया है और कितनों को वापस भेजा है.

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने यह दावा भी किया कि असम में अपडेट किए जा रहे एनआरसी की परिकल्पना 2005 में उनकी सरकार ने की थी, लेकिन भाजपा राजनीतिक लाभ के लिए इसे लपकने की कोशिश कर रही है.

एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘मैं मांग करता हूं कि सरकार इस बारे में एक श्वेतपत्र प्रकाशित करे कि उसने पिछले चार साल में कितने विदेशियों का पता लगाया और कितनों को वापस भेजा तथा सीमा (बांग्लादेश से लगती) को सील करने के लिए क्या कार्रवाई की गई है.’’



गोगोई ने कहा कि यह उनके तहत कांग्रेस सरकार थी जिसने पहली बार एन आर सी अद्यतन की प्रक्रिया शुरू की थी और 2005 में तत्कालीन मंत्री भूमिधर बर्मन के अधीन एक समिति गठित की थी. उन्होंने कहा कि उस समिति में तत्कालीन मंत्री हिमंत बिस्व सरमा जो अब असम की भाजपा सरकार में मंत्री हैं एक सदस्य थे.
ये भी पढ़ें: कांग्रेस CWC की बैठक में NRC, गठबंधन समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चा

सरमा के नेतृत्व में 2007 में एनआरसी अपडेट को तेज करने के लिए एक अन्य उप समिति गठित की गई थी. गोगोई ने कहा, ‘‘एनआरसी मेरा बच्चा, कांग्रेस का बच्चा है. स्वाभाविक पिता तो हम हैं, मोदी तो केवल लालन-पालन करने वाले पिता हैं. हम चाहते हैं कि एनआरसी को उचित एवं निष्पक्ष तरीके से क्रियान्वित किया जाए. सभी वास्तविक भारतीयों के नाम एन आर सी में शामिल होने चाहिए.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading