गहलोत बोले- ज़रूरत हुई तो PM आवास पर धरना देंगे, विधायकों को 21 दिन और रहना पड़ सकता है होटल में

गहलोत बोले- ज़रूरत हुई तो PM आवास पर धरना देंगे, विधायकों को  21 दिन और रहना पड़ सकता है होटल में
अशोक गहलोत ने कहा- हम राष्ट्रपति से मिलेंगे, ज़रूरत पड़ने पर PM आवास पर धरना देंगे

Rajasthan political Crisis: सीएलपी (CLP) की यह बैठक जयपुर के फेयरमोंट होटल में हुई. इस दौरान अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने ये भी कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आवास के बाहर धरने भी देंगे.

  • Share this:
जयपुर. राजस्‍थान (Rajasthan) में चल रही सियासी उठापटक के बीच राज्‍य के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार दोपहर कांग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक की. इस दौरान गहलोत ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो हम जल्‍दी ही राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने के लिए राष्‍ट्रपति भवन जाएंगे. सीएलपी की यह बैठक जयपुर के फेयरमोंट होटल में हुई. इस दौरान अशोक गहलोत ने ये भी कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आवास के बाहर धरने भी देंगे. गहलोत ने विधायकों से कहा कि उन्‍हें 21 दिन और होटल में रहना पड़ सकता है.

राज्‍य का सियासी घटनाक्रम और अशोक गहलोत के बयान से ऐसा लगता है कि राजस्‍थान में राजनीतिक उठापटक जल्‍द ही समाप्‍त नहीं होने वाली है. अशोक गहलोत ने शनिवार को अपने विधायकों से कहा कि उन्‍हें कम से कम 21 दिन और फेयरमोंट होटल में ही रहना पड़ सकता है. वहीं, आज भी राजस्‍थान मंत्रिमंडल की बैठक होने की संभावना है. ताकि विधानसभा सत्र बुलाने का अनुरोध करने के संबंध में राज्‍यपाल को भेजे जाने वाले प्रस्‍ताव पर चर्चा करके उसे संशोधित किया जा सके. गहलोत ने अपने प्रस्ताव पर राज्यपाल द्वारा उठाए गए बिंदुओं पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार रात भी कैबिनेट की बैठक की थी.

राजस्‍थान के सियासी संकट का मामला अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है. विधानसभा सत्र बुलाने की मांग को लेकर शुक्रवार को अशोक गहलोत राज्‍यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे लेकिन राज्‍यपाल ने इससे इनकार कर दिया था. इस बीच कांग्रेस के विधायक राजभवन के बाहर धरने पर बैठ गए. वहीं, कांग्रेस और उसका समर्थन कर रहे दलों के विधायकों ने राज्यपाल कलराज मिश्र की ओर से आश्वासन मिलने के बाद अपना करीब पांच घंटे लंबा धरना समाप्त कर दिया. इस दौरान मिश्र ने कहा कि सत्र आहूत करने के संबंध में वह बिना किसी दबाव और द्वेष के संविधान का पालन करेंगे.



राजस्थान में सड़कों पर उतरी कांग्रेस, जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन
कांग्रेस ने 'भाजपा द्वारा राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या के षड़यंत्र के खिलाफ' शनिवार को राज्य के जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया. कांग्रेस ये धरने-प्रदर्शन ऐसे समय में कर रही है, जबकि राज्य में राजनीतिक रस्साकशी चल रही है. पार्टी के सारे विधायक व मंत्री हालांकि जयपुर के पास एक होटल में रुके हुए हैं इसलिए इन धरना-प्रदर्शनों की अगुवाई बाकी नेता कर रहे हैं. राजधानी जयपुर के साथ साथ जोधपुर व बीकानेर सहित अन्य जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा धरना-प्रदर्शन किये जा रहे हैं.

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने शुक्रवार को कहा था कि भाजपा द्वारा राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या के षडयंत्र के खिलाफ कल सुबह 11 बजे सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन किए जाएंगे और धरना दिया जाएगा.

राज्यपाल से मिला राजस्थान भाजपा का प्रतिनिधिमंडल, कहा राज्य में अराजकता का माहौल
राजस्थान में जारी राजनीतिक घटनाक्रम के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राजस्थान इकाई का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार शाम राज्यपाल कलराज मिश्र से मिला. उसने राजस्थान में अराजकता का वातावरण पैदा होने की बात करते हुए राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा.

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां की अगुवाई में यह प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिला. राजभवन के बाहर भाजपा नेताओं ने राज्य में बीते दो दिन के राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस ने राजभवन को धरने एवं प्रदर्शन का अखाड़ा बना दिया. उन्होंने कांग्रेस द्वारा शनिवार को जिला मुख्यालयों पर किए गए धरने प्रदर्शन के उद्देश्य पर भी सवाल उठाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading