आसिया अंद्राबी पोस्टर विवाद : अधिकारी निलंबित, जांच के आदेश

अंद्राबी की तस्वीर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, मदर टेरेसा, इंदिरा गांधी, लता मंगेशकर, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी के साथ लगाया गया था

भाषा
Updated: October 12, 2017, 11:31 PM IST
आसिया अंद्राबी पोस्टर विवाद : अधिकारी निलंबित, जांच के आदेश
अंद्राबी की तस्वीर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, मदर टेरेसा, इंदिरा गांधी, लता मंगेशकर, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी के साथ लगाया गया था
भाषा
Updated: October 12, 2017, 11:31 PM IST
जम्मू-कश्मीर सरकार ने जेल में बंद अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी की तस्वीर ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के बैनर पर भारत की मशहूर महिलाओं के साथ लगाए जाने के सिलसिले में आज एक अधिकारी को निलंबित कर दिया और जांच के आदेश दे दिए. वहीं विपक्ष ने इस मुद्दे पर सरकार से माफी मांगने के लिए कहा है.

अनंतनाग के उपायुक्त मोहम्मद युनूस मलिक ने बताया कि जिले के ब्रेंग प्रखंड की बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) शमीमा को निलंबित कर दिया गया है और घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. समाज कल्याण मंत्री सज्जाद लोन ने कहा, ‘‘देश की मशहूर महिलाओं की सूची में आसिया अंद्राबी को शामिल कर सीडीपीओ ने गंभीर गलती की है. इसके जिम्मेदार व्यक्ति को निलंबित कर दिया गया है और उनके खिलाफ जांच के आदेश दे दिए गए हैं.’’

कांग्रेस ने इस मुद्दे पर जहां पीडीपी-भाजपा सरकार से माफी मांगने के लिए कहा है, वहीं ‘‘अलगाववादियों के महिमामंडन’’ के लिए जेकेएनपीपी ने सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है. राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता रविंदर शर्मा ने कहा, ‘‘यह पीडीपी-भाजपा सरकार की विफलता है और इसे देश के लोगों की राष्ट्रवादी एवं धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के अलावा हमारे राष्ट्रीय नेताओं का अपमान करने के लिए माफी मांगनी चाहिए. साथ ही इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिएं.’’

जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी (जेकेएनपीपी) के प्रमुख हर्षदेव ने कहा कि इस तरह के अलगाववादियों के ‘‘महिमामंडन के लिए सरकार को जिम्मेदारी स्वीकार करनी चाहिए और इस तरह के देश विरोधी कार्य पर कुर्सी छोड़ देनी चाहिए.’’

पाकिस्तान समर्थक ‘दुख्तरान-ए-मिल्लत’ संगठन की अंद्राबी की तस्वीर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, मदर टेरेसा, इंदिरा गांधी, लता मंगेशकर, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी के साथ लगने के कारण कल राज्य सरकार को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी.

दक्षिण कश्मीर के कोकरनाग इलाके में कल आयोजित कार्यक्रम में इस पोस्टर को लगाने का उद्देश्य देश की सफल महिलाओं की तरफ ध्यान आकर्षित करना था. लोन ने कहा कि अंद्राबी जम्मू-कश्मीर या दुनिया में कहीं भी महिलाओं के लिए आदर्श नहीं थी. मंत्री ने ट्विटर पर डाले गए बयान में कहा, ‘‘विभाग का स्पष्ट रूप से मानना है कि आसिया अंद्राबी आदर्श नहीं है - न तो जम्मू-कश्मीर की महिलाओं के लिए, न ही दुनिया में कहीं और. वह पथभ्रष्ट है, जो हाशिये पर पड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व करती है.’’ गौरतलब है कि जन सुरक्षा कानून के तहत जेल में बंद अंद्राबी खुलेआम जम्मू-कश्मीर के पाकिस्तान में विलय की वकालत करती है.

ये भी पढ़ेंः

आसिया अंद्राबी ने फहराया पाक का झंडा, केस दर्ज!

'ठेंगे पर सरकार, फिर फहराएंगे पाक का झंडा'

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर