Assembly Banner 2021

Assam Assembly Election 2021: असम में अमित शाह बोले- अलगाववाद की राजनीति कांग्रेस की संस्कृति BJP की नहीं

चिंरग में रैली के दौरान अमित शाह

चिंरग में रैली के दौरान अमित शाह

असम में गृह मंत्री अमित शाह ने दावा किया कि कांग्रेस कभी भी हिंसा, आतंकवाद और आन्दोलन समाप्त करना नहीं चाहती थी. हमने डबल इंजन सरकार के माध्यम से असम को विकास के रास्ते पर ले जाने का काम किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 3:06 PM IST
  • Share this:
दिसपुर. असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Election 2021)के मद्देनजर बुधवार को गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य में रैलियों को संबोधित किया. कामरूप में एक रैली के दौरान शाह ने कहा कि कामरूप जिला और हाजों के अंदर हमने 3,740 गरीबों के मकान बनाएं हैं, जिनमें 1,200 से ज्यादा माइनॉरिटी भाइयों के मकान है. प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 1,700 मकान बनाएं गए हैं.

गृह मंत्री ने कहा कि हर आदिवासी किसान, अल्पसंख्यक, बोडो और बहुसंख्यकों को 10,000 रुपये मिलेंगे. अलगाववाद की राजनीति कांग्रेस की संस्कृति है, भाजपा की नहीं. वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं का लाभ सभी को मिलेगा. हर परिवार को स्वच्छ पानी और घर उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें अल्पसंख्यक भी शामिल होंगे.

हर गांव में होगी बैंकिंग सुविधा - अमित शाह
उन्होंने कहा कि असम के हर गांव में बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. असम भारत का स्पोर्ट हब बनें, इसलिए 2038 के एशियाई खेलों के लिए गुवाहाटी को तैयार करने का काम किया जाएगा. उन्होंने कहा कि हम हमारे मेनिफेस्टो को लेकर आये. हमने वादा किया है कि असम और नॉर्थईस्ट के बैंबू को कागज में और अन्य दूसरे उत्पादों में परिवर्तित करके असम की जनता को आत्मनिर्भर बनाने का काम करेंगे.
शाह ने कहा कि हम 2022 तक असम के युवाओं को 2 लाख सरकारी और 8 लाख निजी नौकरियां प्रदान करेंगे. हम गुवाहाटी को दक्षिण पूर्व एशिया की स्टार्ट-अप राजधानी बनाने की दिशा में काम करेंगे. राहुल गांधी पर जुबानी हमला करते हुए शाह ने कहा कि आजकल राहुल बाबा असम में पर्यटन पर निकले हैं. राहुल बाबा ने एक बात कही कि असम की पहचान बदरुद्दीन अजमल हैं.बदरुद्दीन अजमल असम की पहचान हो सकते हैं क्या? आज असम भारत में हैं, तो इसका एकमात्र कारण है गोपीनाथ बोरदोलोई जी. अगर गोपीनाथ जी न होते तो आज असम भारत में न होता.



वहीं चिरंग में एक रैली के दौरान शाह ने कहा कि पांच वर्ष पहले मैं इसी क्षेत्र में आया था तब मैंने कहा था कि भाजपा और असम गण परिषद की सरकार बनाकर दीजिए, हम आतंकवाद मुक्त असम बनाकर देंगे. भाजपा की सरकार नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में बनाइए हम आंदोलन मुक्त असम बनाकर देंगे. मैंने कहा था भाजपा और असम गण परिषद की सरकार बनाइए, हम एक विकसित असम आपको देंगे. आज तीनों वादे पूरा करके आज भाजपा आपका आशीर्वाद मांगने यहां आई है.

उन्होंने कहा कि हमने कहा था कि हम असम में हिंसा का युग समाप्त करके शांति स्थापित करेंगे. हमने बोडोलैंड समझौता किया है, और समझौते के तहत दो तिहाई वादे 6 महीने में पूरे कर दिए हैं. शाह ने दावा किया कि कांग्रेस कभी भी हिंसा, आतंकवाद और आन्दोलन समाप्त करना नहीं चाहती थी. हमने डबल इंजन सरकार के माध्यम से असम को विकास के रास्ते पर ले जाने का काम किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज