Assam Election Result 2021: भाजपा के हेमंत बिस्वा शर्मा 5वीं बार जलुकबारी सीट से विजयी

हेमंत बिस्वा शर्मा.

हेमंत बिस्वा शर्मा.

Assam Assembly Election 2021: 2001 से लेकर 2015 तक हेमंत बिस्वा शर्मा असम के जलुकबारी से कांग्रेस के विधायक रहे, लेकिन इसके बाद उनकी राजनीति में एक अहम मोड़ आया और वे भाजपा में शामिल हो गए.

  • Share this:

गुवाहाटी. असम विधानसभा चुनाव 2021 में हेमंत बिस्वा शर्मा ने जलुकबारी सीट पर जीत हासिल की है. यह लगातार पांचवीं बार है, जब हेमंत बिस्वा शर्मा ने जलुकबारी सीट पर अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी है. इस बार उनका मुकाबला कांग्रेस के रोमेन चंद्रा बोरठाकुर से था. इससे पहले 2016 के विधानसभा चुनाव में शर्मा ने जलुकबारी सीट से कांग्रेस उम्मीदवार निरेन डेका को 85, 935 वोटों के अंतर से हराया था. हेमंत बिस्वा शर्मा के पिता कैलाश नाथ शर्मा एक प्रसिद्ध कवि एवं लेखक थे, जबकि उनकी मां मृणालिनी देवी असम साहित्य से ताल्लुक रखती हैं.



असम के जोरहाट में पैदा हुए हेमंत बिस्वा शर्मा ने कांग्रेस से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी. 2001 से लेकर 2015 तक हेमंत बिस्वा शर्मा असम के जलुकबारी से कांग्रेस के विधायक रहे, लेकिन इसके बाद उनकी राजनीति में एक अहम मोड़ आया और वे भाजपा में शामिल हो गए. दरअसल 2014 में असम के मुख्यमंत्री रहे तरुण गोगोई से राजनीतिक मतभेद के बाद 21 जुलाई 2014 को हिमंता बिस्वा शर्मा ने पार्टी के सभी विभागों से इस्तीफा दे दिया था.



Youtube Video


एक नजर हेमंत बिस्वा शर्मा के राजनीतिक करियर पर:
2001 में हिमंता बिस्वा शर्मा ने कांग्रेस टिकट पर पहली बार असम विधान सभा के लिए चुने गए. उन्होंने असम गण परिषद के भृगु कुमार फुक्न को हराया था.

2006 में हिमंता बिस्वा शर्मा दूसरी बार जलुकबारी सीट से असम विधान सभा के लिए निर्वाचित हुए.

2011 में लगातार तीसरी बार कांग्रेस नेता हिमंता बिस्वा शर्मा जलुकबारी निर्वाचन क्षेत्र से जीतकर असम विधान सभा पहुंचे.



2014 में असम के मुख्यमंत्री रहे तरुण गोगोई से राजनीतिक मतभेद के बाद 21 जुलाई 2014 को हिमंता बिस्वा शर्मा ने पार्टी के सभी विभागों से इस्तीफा दे दिया.

2015 में शर्मा के राजनीतिक करियर में अहम बदलाव आया और कांग्रेस पार्टी को छोड़ उन्होंने 23 अगस्त को भारतीय जनता पार्टी का हाथ थामा.

2016 में हिमंता बिस्वा शर्मा लगातार चौथी बार जलुकबारी निर्वाचन क्षेत्र से विजयी हुए. 24 मई 2016 को शर्मा ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली और उन्हें वित्त, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, शिक्षा, योजना और विकास, पर्यटन, पेंशन और लोक शिकायत विभागों की जिम्मेदारी मिली.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज