Assembly Banner 2021

गुवाहाटी में बोले अमित शाह- कांग्रेस की गोद में बैठे हैं बदरुद्दीन अजमल

अमित शाह ने गुवाहाटी में जनसभा को संबोधित किया (Photo-BJP4India)

अमित शाह ने गुवाहाटी में जनसभा को संबोधित किया (Photo-BJP4India)

Assam Assembly Elections: गृह मंत्री ने कहा कि यहां बैठे सभी लोगों की जिम्मेदारी है कि हम असम की जनता का मार्गदर्शन करें कि कैसे असम चाहिए और जैसा चाहिए, वैसा असम कौन बना सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 15, 2021, 8:20 PM IST
  • Share this:
गुवाहाटी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) सोमवार को असम के गुवाहाटी (Guwahati) पहुंचे. शाह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि असम में भाजपा और कांग्रेस व बदरुद्दीन अजमल के बीच में लड़ाई है. ये कोई ट्राई-एंगल नहीं है. कांग्रेस की गोद में ही बदरुद्दीन अजमल बैठे हैं. गृह मंत्री अमित शाह ने असम के गुवाहाटी में कहा कि हमारे युवा असम में आंदोलनों में मारे जा रहे हैं. जो लोग असम की अस्मिता की बात करते हैं उन्होंने बदरुद्दीन अजमल को अपनी गोद में बैठा लिया है. क्या उन्हें शर्म नहीं आती?

शाह ने कहा असम कोई भूमि का टुकड़ा-भर नहीं है, सदियों से चला आ रहा सांस्कृतिक धाराप्रवाह है. ये जियोपॉलिटिकल राज्य नहीं है. हजारों वर्षों की संस्कृति को धीरे-धीरे संजोकर सांस्कृतिक नदी का प्रवाह है. शाह ने कहा कि हमारे पास पांच आधार हैं जिन पर हम चुनाव लड़ते हैं जो कि सुरक्षा और सम्मान, संस्कृति और विरासत, कनेक्शन और समृद्धि, शांति और चर्चा और आत्मनिर्भरता हैं. ये स्तंभ भविष्य में असम को आगे ले जाएंगे.

ये भी पढ़ें- संसद में दिल्ली के LG वाले बिल पर बड़ा बवाल, आप हुई केंद्र पर लाल



असम के लिए एनडीए गठबंधन जरूरी
गृह मंत्री ने कहा कि यहां बैठे सभी लोगों की जिम्मेदारी है कि हम असम की जनता का मार्गदर्शन करें कि कैसे असम चाहिए और जैसा चाहिए, वैसा असम कौन बना सकता है. उन्होंने कहा "अगर आप गहराई से सोचोगे तो ये चुनाव आपको, मुझे और असम की जनता को एक निश्चित लक्ष्य तक ले जाने वाला चुनाव बनेगा. जो स्वर्णिम असम के स्वप्न को पूरा करेगा."

शाह ने कहा कि एनडीए गठबंधन के लिए असमिया संस्कृति का संरक्षण महत्वपूर्ण है. कांग्रेस और बदरुद्दीन अजमल असमिया संस्कृति की रक्षा नहीं कर सकते. ये लोग सत्ता में आए तो फिर से घुसपैठ होगी, जो अपने पैरों तले असम की संस्कृति को रौंदेगी.

ये भी पढ़ें- नस्लवाद पर ब्रिटेन को दो टूक सुना भारत ने दे दिया सख्त संदेश

शाह ने कहा कि भूपेन हजारिका सेतु एक प्रतीक है, असम जिसकी वर्षों से राह देखता आया था.
ये असम के अरमानों का पुल है, ये असम के लोगों की आशाओं का पुल है. शाह ने कहा कि उत्तर पूर्व में देश का करीब साढ़े 8 प्रतिशत भू-भाग है. देश की सीमाएं हैं, देश की सुरक्षा इसके साथ जुड़ी हुई है. देश के व्यापार का केंद्र भी असम बन सकता है.

अमित शाह ने कहा कि हमने असम को घुसपैठियों से मुक्त कराने का वादा किया था. अब असम में कोई घुसपैठ करने से पहले कई बार सोचता है. इसके लिए पुलिस और सीमा सुरक्षा बल की मुस्तैदी बढ़ाई है.
काजीरंगा को घुसपैठियों से मुक्त किया है, इससे असम में गैंडों का शिकार बंद हो गया है. शाह ने कहा कि उग्रवादी पिछले 5 सालों में किसी भी विपरीत घटना को अंजाम नहीं दे पाए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज