Assembly Banner 2021

असम BJP ने 7 नेताओं को 6 साल के लिए पार्टी से किया निष्कासित, जानिए वजह

18 मार्च को भाजपा ने टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय मैदान में उतरने वाले 15 नेताओं को पार्टी से छह साल के लिए निकाल दिया था.

18 मार्च को भाजपा ने टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय मैदान में उतरने वाले 15 नेताओं को पार्टी से छह साल के लिए निकाल दिया था.

Assam Assembly Elections 2021: महासचिव राजदीप राय ने एक बयान में कहा, '' पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने भाजपा उम्मीदवारों के खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने वाले सात लोगों को छह साल के लिए निष्कासित किया है.''

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 10:47 PM IST
  • Share this:
गुवाहाटी. बीजेपी (BJP) की असम इकाई ने रविवार को कहा कि उसने टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Elections 2021) लड़ने वाले 7 नेताओं को छह साल के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित किया है.

असम भाजपा के महासचिव राजदीप राय ने एक बयान में कहा, '' पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने भाजपा उम्मीदवारों के खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने वाले सात लोगों को छह साल के लिए निष्कासित किया है.'' इससे पहले, 18 मार्च को बीजेपी ने टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय मैदान में उतरने वाले 15 नेताओं को पार्टी से छह साल के लिए निकाल दिया था.

असम प्रदेश अध्यक्ष की मंजूरी के बाद लिया गया फैसला
15 नेताओं को पार्टी से निष्कासित किए जाने के बाद राजदीप रॉय ने कहा था कि पार्टी के असम प्रदेश अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने तत्काल प्रभाव से अनुशासनात्मक कार्रवाई को मंजूरी दी. निष्कासित 15 सदस्यों में से एक पॉल हैं जिन्होंने टिकट न मिलने पर भाजपा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था और वो सिलचर से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं.
126 विधानसभा सीटों पर 3 चरणों में मतदान


बता दें कि राज्य विधानसभा में कुल 126 सीटें हैं, जिन पर तीन चरणों में मतदान होना है. पहले चरण में 27 मार्च को वोटिंग संपन्न हो चुकी है. अब दूसरे और तीसरे चरण की वोटिंग 1 अप्रैल और 6 अप्रैल को होगी. राज्य की ज्यादातर सीटों पर मुकाबला त्रिकोणीय है. सत्तारूढ़ भाजपा-अगप गठबंधन जहां सत्ता बरकरार रखने की जुगत से चुनाव मैदान में हैं तो कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों का गठबंधन राज्य में अपनी खोई ताकत पाने की कोशिश में है.



ये भी पढ़ें- कोरोना:2021 में पहली बार 300 से अधिक मौतें, नए केस भी 163 दिन में सबसे ज्‍यादा

'30 परिवारों को हर महीने 3 हजार'
असम में अपने घोषणापत्र में कई वादे किए हैं. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा था, 'हम ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे बड़े जलाशय बनाएंगे ताकि ब्रह्मपुत्र के अतिरिक्‍त जल को वहां स्‍टोर किया जा सके और लोगों को बाढ़ से बचाया जा सके. इसके अलावा अरुणोदय योजना के तहत 30 लाख योग्‍य परिवारों को हर महीने 3 हजार रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी.' उन्होंने कहा, 'हम असम की रक्षा के लिए संशोधित एनआरसी पर काम करेंगे. हम असली भारतीय नागरिकों की रक्षा करेंगे और घुसपैठियों को खोज निकालेंगे ताकि अहोम सभ्‍यता सुरक्षित रहे. असम के राजनीतिक अधिकारों की रक्षा के लिए हम परिसीमन की प्रक्रिया को और तेज करेंगे.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज