NRC से नाराज असम बीजेपी नेता अमित शाह से करेंगे मुलाकात

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 8:34 PM IST
NRC से नाराज असम बीजेपी नेता अमित शाह से करेंगे मुलाकात
भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के असम (Asssam) के नेता अगले हफ्ते गुवाहाटी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मुलाकात करेंगे.

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के असम (Asssam) के नेता अगले हफ्ते गुवाहाटी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मुलाकात करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2019, 8:34 PM IST
  • Share this:
(आदित्य शर्मा)

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के असम (Asssam) के नेता अगले हफ्ते गुवाहाटी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मुलाकात करेंगे. इस मुलाकात में वह नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (Nation Register of Citizen) की आखिरी लिस्ट से बाहर हुए असली नागरिकों की रक्षा के लिए कानूनी कार्रवाई की मांग करेंगे.  न्यूज़18 से बातचीत में असम के बीजेपी प्रमुख रंजीत दास (Assam BJP Chief Ranjit Das) ने बताया कि हमारी राज्य इकाई ने तय किया है कि हम भारत सरकार और बीजेपी (BJP) के राष्ट्रीय नेतृत्व से अपील करेंगे कि इस मामले पर वे कोई कानूनी कार्रवाई करें. या फिर वह कोई एक्ट पास करें या फिर संविधान में संशोधन करके एनआरसी (NRC) से बाहर हुए असम के असली नागरिकों को बचाएं.

8-9 सितंबर को होगा गृहमंत्री का दौरा
दास ने कहा कि हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और देश के गृह मंत्री अमित शाह 8 और 9 सितंबर को गुवाहटी का दौरा करेंगे. उनके इस दो दिवसीय दौरे में हम उनसे कानूनी कार्रवाई या संविधान संशोधन की अपील करेंगे.

एनआरसी के स्टेट को-ऑर्डिनेटर प्रतीक हजेला पर इस प्रक्रिया के खराब कार्यान्वयन का आरोप लगाते हुए दास ने कहा कई लोगों ने अपने रिफ्यूजी सर्टिफिकेट और माइग्रेशन सर्टिफिकेट एनआरसी के लिए दिए थे. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी इस कागज़ातों को जमा करने की स्वीकृति दे दी थी. लेकिन एनआरसी के स्टेट कोऑर्डिनेटर ने इससे जुड़े अधिकारियों से ये दस्तावेज न लेने के लिए कह दिया. उन्होंने कहा था कि ऐसा कोई भी सिस्टम नहीं है जिसके द्वारा पता लगाया जा सके कि ये डॉक्यूमेंट्स कहां से और किसने इशू किए हैं.

दास ने प्रक्रिया में अनियमितता का आरोप लगाया 
यही नहीं दास ने एनआरसी की प्रक्रिया में अनियमितता का भी आरोप लगाया है. उनका कहना है कि कई आवेदकों ने फर्जी दस्तावेज लगाए थे, वास्तविक नागरिकों की कीमत पर उनका नाम भी एनआरसी की आखिरी सूची में शामिल कर लिया गया है. दास ने बताया इसका मतलब है कि ऐसे मामलों में स्थानीय सरकारी अधिकारी ने ऐसे दस्तावेजों की दोबारा जांच नहीं की और सीरियल नंबर वैराफाई नहीं किया गया है. ऐसे मामलों में फर्जी डॉक्यूमेंट्स के सीरियल नंबर मैच नहीं करते हैं. हमने सरकार से अपील की है कि वह एकबार फिर से डॉक्यूमेंट्स में सब्मिट करें. असम के असली नागरिकों को बचाने के लिए संसद या विधानसभा द्वारा कोई कानून लाने की ज़रूरत है.
Loading...

हालांकि गृह मंत्री अमित शाह के गुवाहटी दौरे में वह नॉर्थ ईस्ट काउंसिल और नॉर्थ ईस्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ बैठक करेंगे. लेकिन उनका ये दौरा हाल ही में जारी हुई एनआरसी की आखिरी सूची को देखते हुए बेहद महत्वपूर्ण है जिसमें से 19 लाख से अधिक लोग बाहर हो गए हैं.

ये भी पढ़ें-
NRC से बाहर हुए लोग आज से फॉरनर्स ट्रिब्‍यूनल में करें अपील

NRC की लिस्ट से बाहर 19 लाख लोगों के पास अभी ये रास्ते खुले!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 7:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...