होम /न्यूज /राष्ट्र /असम: सीएम ने दोहराया अपना बयान, कहा- आम नागरिकों पर पुलिस की गोलीबारी उचित नहीं

असम: सीएम ने दोहराया अपना बयान, कहा- आम नागरिकों पर पुलिस की गोलीबारी उचित नहीं

असम के सीएम हिमंत बिस्वा शर्मा ने कहा कि पुलिस की गोलीबारी नागरिकों पर उचित नहीं है. ( फोटो- News18)

असम के सीएम हिमंत बिस्वा शर्मा ने कहा कि पुलिस की गोलीबारी नागरिकों पर उचित नहीं है. ( फोटो- News18)

असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा (Himanta Biswa Sarma) ने मंगलवार को एक बार फिर कहा कि आम नागरिकों पर पुलिस की गोली ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

असम के मुख्‍यमंत्री ने असम पुलिस की कार्रवाई पर दी प्रतिक्रिया
कहा- मैं आम नागरिकों पर पुलिस गोलीबारी उचित नहीं मानता
अवैध लकड़ी से भरे ट्रकों को रोकने के लिए दूसरा तरीका अपनाएं

सिलचर (असम) . असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा (Himanta Biswa Sarma) ने मंगलवार को कहा कि वह आम नागरिकों पर पुलिस की गोलीबारी को उचित नहीं मानते और ऐसी कार्रवाई का सहारा केवल आतंकवादियों और अपराधियों के खिलाफ ही लिया जाना चाहिए. शर्मा ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि असम-मेघालय सीमा के एक विवादित क्षेत्र के मुकरोह गांव में असम पुलिस (Assam Police) और राज्य के वन रक्षकों द्वारा की गई गोलीबारी मामले का हालांकि, दोनों राज्यों के बीच ‘संबंधों के व्यापक परिदृश्य’ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. करीब सप्ताह भर पहले हुई इस घटना में छह लोगों की जान चली गई थी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों पूर्वोत्तर राज्यों के बीच बातचीत चल रही है और कोई भी सीमा समायोजन उनके द्वारा इस उद्देश्य के लिए गठित समिति के माध्यम से होगा. कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद उन्होंने कहा, ‘नागरिकों की जान लेना स्वीकार्य नहीं है… पुलिस को अपने हथियारों का इस्तेमाल आतंकवादियों और अपराधियों के खिलाफ करना चाहिए न कि नागरिकों के खिलाफ. मैं गोलीबारी की अनुमति नहीं देता.’

मेघालय के पांच नागरिकों और असम के एक वन सुरक्षाकर्मी की मौत हुई थी

इस बात पर जोर देते हुए कि राज्य पुलिस को मुकरोह में नागरिकों पर गोली नहीं चलानी चाहिए थी, शर्मा ने कहा कि कथित अवैध लकड़ी से लदे ट्रकों की आवाजाही को रोकने के लिए अन्य तरीके भी हो सकते थे. असम पुलिस और वन रक्षकों द्वारा 22 नवंबर को मुकरोह में कथित अवैध लकड़ी से लदे एक ट्रक को रोकने के बाद गोलीबारी की घटना हुई थी. इस घटना में मेघालय के पांच नागरिकों और असम के एक वन सुरक्षाकर्मी की मौत हुई थी. शर्मा ने घटना का जिक्र करते हुए कहा कि राज्यों के बीच एक संवैधानिक सीमा होती है.

विवाद का समाधान होने तक यथास्थिति बनाए रखी जाएगी

उन्होंने कहा, ‘नक्शे उपलब्ध हैं और मुझे यकीन है कि मेघालय सरकार, असम के भीतर कुछ भी असंवैधानिक नहीं करेगी … अगर यह असम क्षेत्र में पुलिस चौकी स्थापित करने जैसा कुछ करती है तो इसकी कोई कानूनी वैधता नहीं होगी.’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमने चर्चा की है … विवाद का समाधान होने तक यथास्थिति बनाए रखी जाएगी.’ वहीं, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा ने दिन में शिलांग में कहा कि मुकरोह हिंसा के बाद सीमा विवाद के समाधान के लिए दोनों राज्यों के बीच दूसरे दौर की बातचीत की प्रक्रिया ‘‘थोड़ी जटिल’’ हो गई है.

Tags: Assam Police, Himanta biswa sarma

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें