Home /News /nation /

असम सरकार का बड़ा फैसला, डिटेंशन सेंटर को अब कहा जाएगा ट्रांजिट कैंप   

असम सरकार का बड़ा फैसला, डिटेंशन सेंटर को अब कहा जाएगा ट्रांजिट कैंप   

गुवाहाटी से लगभग 150 किलोमीटर दूर गोआलपाड़ा जिले के मतिया में एक नया डिटेंशन सेंटर निर्माणाधीन है.

गुवाहाटी से लगभग 150 किलोमीटर दूर गोआलपाड़ा जिले के मतिया में एक नया डिटेंशन सेंटर निर्माणाधीन है.

असम के गोआलपाड़ा, कोकराझार, तेजपुर, जोरहाट, डिब्रूगढ़ और सिलचर जिलों में छह डिटेंशन सेंटर हैं, जहां घोषित या दोषी साबित किए जा चुके विदेशी नागरिकों को रखा जाता है. इन्हें राज्य सरकार द्वारा साल 2009 में अस्थायी रूप से अधिसूचित किया गया था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. असम में बनाए गए डिटेंशन सेंटर्स (Detention Centre) को नया नाम दिया जा रहा है. गुरुवार को राज्य सरकार की ओर से जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि डिटेंशन केंद्रों का नाम बदलकर अब इन्हें ‘ट्रांजिट कैंप’ कहा जाएगा. राज्य सरकार की ओर से इस संबंध में नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है. 17 अगस्त को असम के गृह और राजनीतिक विभाग के प्रमुख सचिव नीरज वर्मा द्वारा हस्ताक्षरित एक अधिसूचना में कहा गया है कि ‘डिटेंशन सेंटर का नाम बदलकर ट्रांजिट कैंप’ कर दिया गया है.

    असम के गोआलपाड़ा, कोकराझार, तेजपुर, जोरहाट, डिब्रूगढ़ और सिलचर जिलों में छह डिटेंशन सेंटर हैं, जहां घोषित या दोषी साबित किए जा चुके विदेशी नागरिकों को रखा जाता है. इन्हें राज्य सरकार द्वारा साल 2009 में अस्थायी रूप से अधिसूचित किया गया था. इन डिटेंशन सेंटर के बारे में जानकारी देते हुए हिमंत विस्वा सरमा ने बताया कि छह केंद्रों में 181 बंदी हैं. 181 में से 61 घोषित विदेशी हैं और 120 दोषी विदेशी हैं. हिमंत सरमा ने अपने जवाब में स्पष्ट किया कि विदेशी नागरिक वह है जो अवैध रूप से भारत में प्रवेश करता है और अदालत द्वारा दोषी ठहराया जाता है.

    जबकि घोषित विदेशी वह होता है, जिसे एक बार भारतीय नागरिक माना गया था, लेकिन फिर विदेशी ट्रिब्यूनल द्वारा विदेशी घोषित कर दिया गया.

    गौरतलब है कि असम में घुसपैठ का मसला काफी पुराना है. असम में दशकों से पूर्वी बंगाल (बाद में पूर्वी पाकिस्तान और अब बांग्लादेश) से प्रवासी आते रहे हैं. असम में गोलपारा, कोकराझार, तेजपुर, जोरहाट, डिब्रूगढ़ और सिलचर में जिला जेलों के अंदर दोषी विदेशियों और घोषित विदेशियों को रखने के लिए 6 डिटेंशन सेंटर्स बनाए गए हैं. इन्हें राज्य सरकार द्वारा 2009 में अस्थायी रूप से अधिसूचित किया गया था. राज्य सरकार की ओर से एक और डिटेंशन सेंटर बनाया जा रहा है, इसमें अवैध रूप से आए विदेशियों को हिरासत में रखा जाएगा. नया डिटेंशन सेंटर पूरी तरह से अवैध रूप से आए विदेशियों को हिरासत में लेने के उद्देश्य से गुवाहाटी से लगभग 150 किलोमीटर दूर गोलपारा जिले के मटिया में निर्माणाधीन है.

    Tags: Assam, Assam news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर